Search found 441 matches

by Adam
16 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 16.01.2021 भल तुम संगमयुग पर हो परन्तु ज्ञान से तुम यह जानते हो - हमने (वेश्यालय से) किनारा कर लिया है। फिर अगर हम शिवबाबा की याद में रहते हैं, तो शिवालय दूर नहीं। शिवबाबा को याद ही नहीं करते, तो शिवालय बहुत दूर है। सज़ायें खानी पड़ती हैं ना, तो बहुत दूर हो जाता है। “Although...
by Adam
15 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 15.01.2021 अभी देखो क्रिश्चियन का झाड़ कितना हो गया है। फाउण्डेशन है - देवी-देवता घराना। वह फिर यहाँ इस समय स्थापन होता है। पहले एक ब्रह्मा, फिर ब्राह्मणों की एडाप्टेड सन्तान वृद्धि को पाते हैं। बाप पढ़ाते हैं, तो बहुत ढेर ब्राह्मण हो जाते हैं। पहले तो यह एक था ना। एक से कितन...
by Adam
14 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 14.01.2021 पहले-पहले तो बाप का ही परिचय देना है क्योंकि सब बाप को और बाप की शिक्षा को भूले हुए हैं। अभी जो बाप पढ़ाते हैं, यह पढ़ाई फिर 5 हज़ार वर्ष बाद मिलेगी। यह ज्ञान और कोई को है नहीं। मुख्य हुआ बाप का परिचय। फिर यह भी समझाना है - हम सब भाई-भाई हैं। सारी दुनिया की जो सब आ...
by Adam
13 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 13.01.2021 बाप बैठ समझाते हैं - ज्ञान और भक्ति के ऊपर। यह तो बच्चे समझ गये हैं, भक्ति से सद्गति नहीं होती है, और सतयुग में भक्ति होती नहीं। ज्ञान भी सतयुग में मिलता नहीं। कृष्ण न भक्ति करते हैं, न ज्ञान की मुरली बजाते हैं। ‘मुरली’ माना ही ज्ञान देना। गायन भी है ना ‘मुरली में ...
by Adam
12 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 12.01.2021 तुम बच्चे समझते हो यह पढ़ाई बहुत सहज और बहुत ऊंची है, और बहुत ऊंच पद देने वाली है। यह सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो कि यह पढ़ाई हम विश्व का मालिक बनने के लिए पढ़ रहे हैं। तो पढ़ने वालों को बहुत खुशी होनी चाहिए। कितनी ऊंची पढ़ाई है! यह वही गीता एपीसोड भी है। संगमयुग भ...
by Adam
11 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 11.01.2021 तुमने 84 जन्मों में 84 साकारी बाप किये हैं। वास्तव में असुल हो निराकार बाप के बच्चे। तुम आत्मा परमपिता परमात्मा के बच्चे हो। रहने वाले भी वहाँ के हो - जिसको निर्वाणधाम वा शान्तिधाम कहते हैं। असुल तुम वहाँ के रहने वाले हो। बाप भी वहाँ रहते हैं। यहाँ आकर तुम लौकिक बा...
by Adam
10 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Avyakt Vani 09.10.1987, Revised on 10.01.2021 यही संगमयुग की विशेषता है जो ऊंचे ते ऊंचे बाप के सर्व बच्चे स्वराज्य-अधिकारी बनते हैं। वैसे लौकिक परिवार में हर एक बाप बच्चों को कहते हैं कि ‘यह मेरा बच्चा राजा बेटा है’, वा इच्छा रखते हैं कि ‘मेरा हर एक बच्चा राजा बने’। लेकिन सभी बच्चे राजा बन ही नहीं स...
by Adam
09 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 09.01.2021 यह नॉलेज भी सब एकरस नहीं धारण कर सकते हैं। कोई 1 परसेन्ट धारण करते हैं, तो कोई 95 परसेन्ट धारण करते हैं। यह तो समझ की बात है। सूर्यवंशी घराना होगा ना! राजा-रानी तथा प्रजा। यह बुद्धि में आता है ना। प्रजा में सब प्रकार के मनुष्य होते हैं। प्रजा माना प्रजा। बाप समझाते...
by Adam
08 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 08.01.2021 ( Previous Revision on 13.09.2016 ) जैसे स्कूल में पढ़ते हैं तो कहते हैं, ‘मैं यह पढ़कर डॉक्टर बन जाऊंगा, इन्जीनियर बन जाऊंगा’। तुम समझते हो इस पढ़ाई से हम सो देवी-देवता बन रहे हैं। यह शरीर छोड़ेंगे और हमारे सिर पर ताज होगा। यह तो बहुत गन्दी छी-छी दुनिया है ना। नई ...
by Adam
07 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 07.01.2021 तुम बच्चे जानते हो अभी यह कलियुगी दुनिया है, सब अन्धियारे में हैं। पहले सोझरे में थे, जबकि भारत स्वर्ग था। यही भारतवासी जो अभी अपने को हिन्दू कहलाते हैं, यह असुल देवी-देवतायें थे। भारत में स्वर्गवासी थे, जब और कोई धर्म नहीं था। एक ही धर्म था। स्वर्ग, वैकुण्ठ, बहिश्...
by Adam
06 Jan 2021
Forum: Newcomers
Topic: W E L C O M E !
Replies: 251
Views: 80252

W E L C O M E !

Dear Venita,

Welcome to the forum!

Happy viewing and posting.

Adam & Eve
by Adam
06 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 06.01.2021 तुम कहते हो हम 5 हजार वर्ष पहले मिसल, फिर से बेहद के बाप से पढ़ते हैं। यह विनाश भी फिर से होना है जरूर। कितने बड़े-बड़े बॉम्ब्स बनाते रहते हैं। बहुत पावरफुल बनाते हैं। रखने लिए तो नहीं बनाते हैं ना। यह विनाश भी शुभ कार्य के लिए है ना। तुम बच्चों को डरने की कोई दरका...
by Adam
05 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 05.01.2021 पहले-पहले तो इस पर समझाना है, हमको परमपिता परमात्मा, ब्रह्मा द्वारा राजयोग सिखलाते हैं। यह राजाई पद है। जिसको निश्चय हो जायेगा कि जो सबका बाप है, वह पारलौकिक बाप बैठ समझाते हैं, वही सबसे बड़ी अथॉरिटी है, तो फिर दूसरा कोई प्रश्न उठ ही नहीं सकता! “First of all, you h...
by Adam
04 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Sakar Murli, Revised on 04.01.2021 बच्चे भी समझते हैं - अब हम बाप से बेहद का वर्सा पा रहे हैं। वह राज्य हमारा कोई छीन न सके। भारत का राज्य बहुतों ने छीना है ना। मुसलमानों ने छीना, अंग्रेजों ने छीना। वास्तव में पहले तो रावण ने छीना है, आसुरी मत पर। यह जो बन्दरों का चित्र बनाते हैं – ‘हियर नो ईविल, सी...
by Adam
03 Jan 2021
Forum: Ideological Interpretation of the Yagya History: BK and PBK versions
Topic: SM & AV points for churning – Revised in 2021
Replies: 15
Views: 138

SM & AV points for churning – Revised in 2021

Avyakt Vani 05.10.1987, Revised on 03.01.2021 सन्तुष्टता का बीज सर्व प्राप्तियाँ हैं। असन्तुष्टता का बीज स्थूल वा सूक्ष्म अप्राप्ति है। जब ब्राह्मणों का गायन है - ‘अप्राप्त नहीं कोई वस्तु ब्राह्मणों के खजाने में अथवा ब्राह्मणों के जीवन में’, फिर असन्तुष्टता क्यों? “ The seed of contentment is to hav...