Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

DEDICATED to PBKs.
For PBKs who are affiliated to AIVV, and supporting 'Advanced Knowledge'.
Post Reply
User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 24 Sep 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba’s Murli
VCD-2402-extracts-Bilingual

समय- 00.01-15.15
Time: 00.01-15.15


प्रातः क्लास चल रहा था – 30.3.1967. आठवें पेज के मध्य में बात चल रही थी – वो हमारा बाप है और हम ब्रदर्स हैं। तो वो हमारा भाई है। क्योंकि वो दुनियावाले तो कहने से भाई को बंधु भी कहते हैं। कहते हैं ना – त्वमेव माता च पिता त्वमेव। त्वमेव बंधु भी कहते हैं। बंधु माना मित्र। हाँ, वो मित्र तो नंबरवन है। एकदम सुख देने वाला मित्र। इन सब विचारों को छोड़करके सबसे पहले नंबर का विचार है – कि ये अपन को नगन बनना है। देह रूपी वस्त्र कहो, देहभान कहो, छोड़ना है। और फिर जाना है अपने घर। क्योंकि; देह रूपी वस्त्र को क्यों छोड़ना है? क्योंकि हम इस सृष्टि रूपी रंगमंच पर नंगे आये थे। अभी हमने 84 का चक्र लगाया। अभी नंगे जाना है। ये पुराने शरीर तो यहीं खतम होते हैं। फिर नंगे भी होंगे, पवित्र भी होंगे। तब ही अपने पवित्र धाम में जा सकेंगे। पवित्र नहीं होंगे तो फिर सज़ा खानी पड़ेगी। बाद में पवित्र धाम जावेंगे।

ये सब बातों का सवेरे उठकरके विचार सागर मंथन करना होता है। और विचार सागर मंथन करने के साथ-साथ याद भी करना होता है। अपनी आत्मा के साथ-साथ आत्मा के बाप याद करना होता है। और इस मनुष्य सृष्टि में वो बीजरूप बाप कौन है, जो बाप शिव समान स्टेज में स्थिर हो जाता है। तो याद भी करना है और ये सब विचार सागर मंथन भी करना है। सवेरे-सवेरे ये मंथन करके मक्खन निकालना होता है। तो ये बेहद का सवेरा है। ज्ञान सूर्य इस संसार में प्रत्यक्ष होने वाला है। तो इस सवेरे की वेला में बहुत कुछ करना है। जैसे भक्ति में बहुत कुछ करते हैं, वैसे ज्ञान में भी। तो इस बेहद के अमृतवेले के समय में वो धंधा-धोरी, वो कल-कारखाना, ये दुनियावी धंधे तो याद नहीं करेंगे ना। वहाँ खाते, पीते, रहते, दुनिया में तो उनका कारखाना चलता रहता है बुद्धि में। तो ये तुम ब्राह्मणों का धंधा भी ऐसे ही है कि बाबा अभी आकरके समझानी देते हैं कि तुम भी खाते, पीते, चलते, उठते-बैठते, कोई भी काम करते हुए अभी तुम अपने घर को याद करो। यानी घर माने? हँ?
(किसी ने कहा – परमधाम।)

घर माने परमधाम? सूरज, चाँद, सितारों की दुनिया के पार? वो जड़ सूरज, चाँद, सितारे हैं। और उनके पार वो पारलोक है, जहाँ का रहने वाला आत्माओं का बाप अकर्ता है। करता-धरता है या अकर्ता है? अकर्ता है। माने कुछ करता-धरता नहीं है, तो जड़वत् है या चैतन्य है? (किसी ने कहा – चैतन्य।) चैतन्य है? करता-धरता कुछ नहीं। चैतन्य की परिभाषा बताई, ब्रह्मवाक्य मुरली में – बोलता-चालता। बोलता भी हो और चलता भी हो। तो परमधाम में वो आत्माओं का बाप जो जड़ सूर्य, चाँद, सितारों की दुनिया से पार रहता है, वो वहाँ बोलता-चालता है? (सबने कहा – नहीं।) चलता है तो भी कहेंगे कर्ता है। कुछ न कुछ करता है ना। बोलता है तो भी कुछ न कुछ करता है। लेकिन वो तो अकर्ता है। माना जड़वत् है। और वो धाम भी? हँ? (किसी ने कहा – जड़वत्।) चैतन्य है या जड़वत् है? (सबने कहा – जड़वत्।)

तो देखो – हमको कहाँ जाना है? हँ? (किसी ने कहा – चैतन्य परमधाम में।) हमको तो वहाँ जाना है जो हमारा बाप भी है, घर भी है और हमारा स्वर्ग भी है। इसलिए बाप कहते हैं स्वर्ग को याद करो, बाप को याद करो, घर को याद करो। उस बाप को याद करने से हमें सुख भी मिलता है। कैसा सुख? हँ? जो गोप-गोपियों को गाया हुआ है। अतीन्द्रिय सुख। क्योंकि वो स्वयं इन्द्रियों से परे के सुख में रहने वाला है। जिसकी यादगार है शिवलिंग। साकार है या निराकार है? (किसी ने कहा – साकार।) सिर्फ साकार है? साकार और निराकार का मेल है। जो निराकार आत्मा है वो आत्मा इस सृष्टि रूपी रंगमंच पर सदाकाल पार्ट बजाने वाली है या कभी अकर्ता है? हँ? क्योंकि ये कालचक्र तो हमेशा ही चलता रहता है। कभी रुकता है? तो इस कालचक्र में सदाकाल पार्ट बजाने वाला हीरो पार्टधारी भी सदाकाल का अकर्ता है कि कर्ता है? क्या है? (सबने कहा – कर्ता है।) अकर्ता है? (सबने कहा – कर्ता।) कर्ता है।

तो निराकार ज्योतिबिन्दु और वो साकार लिंग कर्ता भी है, अकर्ता भी है। जैसे साकार भी है और? निराकार भी है। दोनों का मेल है। आत्मा अपने शुद्ध स्वरूप में अकर्ता है। और जब इस कालचक्र में आती है तो सत, रज, तम – तीन गुणों में आना पड़ता है। तीन गुणों से परे होती है तो त्रिगुणातीत। परन्तु वो थोड़े समय की बात है – तीनों गुणों से परे। तीनों गुणों के बंधन में ना आने वाली। तो जब त्रिगुणातीत है तो सतयुग से भी परे, त्रेता से भी परे, द्वापर से भी परे और कलियुग से भी परे, क्योंकि कलियुग में तमोप्रधान की प्रधानता होती है। तामस की।


A morning class dated 30.3.1967 was being narrated. The topic being discussed in the middle of the eighth page was – He is our Father and we are brothers. So, he is our brother because those people of the world call a brother as ‘bandhu’ as well. They say – Twamev mata cha pita twamev, don’t they? They also say ‘twamev bandhu’. Bandhu means friend. Yes, that friend is number one. A friend who gives complete happiness. Leave all these thoughts and the number one thought is we have to become naked. We have to leave the cloth like body, the body consciousness. And then we have to go to our home. Because; why do we have to leave the cloth like body? It is because we had come on this world stage naked. Now we have passed through the cycle of 84 [births]. Now we have to go naked. These old bodies perish here itself. Then we will become naked as well as pure. Only then will we be able to go to our pure abode. If we do not become pure, then we will have to suffer punishments. Later on we will go to the pure abode.

You have to churn the ocean of thoughts on all these topics after waking up in the morning. And along with churning the ocean of thoughts we have to remember as well. We have to remember the Father of the soul along with our soul. And who is that seed-form Father in this human world who becomes constant in the stage equal to Father Shiv? So, we have to remember as well as churn the ocean of these thoughts. You have to cause the cream to emerge by churning early in the morning. So, this is an unlimited morning. The Sun of Knowledge is going to be revealed in this world. So, you have to do many a things in this morning time. Just as you do many things in Bhakti, similarly is the case with knowledge as well. So, in the time of this unlimited Amrit Vela, you will not remember that business, that factory, those worldly businesses, will you? There, while eating, drinking, living, their factory rotates in their intellect. So, this business of you Brahmins is also like this only that Baba now comes and gives explanation that you should also remember your home while eating, drinking, walking, standing, sitting or while doing any work. What is meant by home? Hm?
(Someone said – Paramdhaam.)

Does home mean Paramdhaam (Supreme Abode) beyond the world of the Sun, the Moon and the stars? They are the non-living Sun, Moon and stars. And beyond them is that Paarlok (the other world); the resident of that abode, the Father of the souls is akarta (the non-doer). Does He do anything or is He akarta? He is akarta. It means that He does not do anything. So, is He non-living or living? (Someone said – Living.) Is He living? He does not do anything. The definition of ‘living one’ (chaitanya) has been mentioned in the Brahmavaakya Murli – The one who speaks and walks. He must speak as well as walk. So, does that Father of souls who lives beyond the world of the Sun, the Moon and the stars in the Supreme Abode speak and walk there? (Everyone said – No.) Even if He walks, He will be called a karta (doer). He does something or the other, doesn’t He? Even if He speaks, He does something or the other. But He is akarta (non-doer). It means that He is non-living. And that abode is also? Hm? (Someone said – Non-living.) Is it living or non-living? (Everyone said – Non-living.)

So, look – Where do we have to go? Hm? (Someone said – In the living Supreme Abode.) We have to go there who is our Father as well as home and our heaven as well. This is why the Father says – Remember heaven, remember the Father, remember the home. We also get happiness by remembering that Father. What kind of happiness? Hm? That which is praised about the Gop-Gopis. The supersensuous joy because He himself remains beyond the pleasure of the organs. His memorial is the Shivling. Is he corporeal or incorporeal? (Someone said – Corporeal.) Is He just corporeal? He is a combination of corporeal and incorporeal. Does the incorporeal soul play its part forever on this world stage or is it akarta (non-doer) at any time? Hm? It is because this time-cycle keeps on rotating forever. Does it stop at any time? So, is the hero actor who plays his part forever in this time-cycle also akarta forever or is he a karta (doer)? What is he? (Everyone said – He is a doer.) Is he a non-doer? (Everyone said – He is a doer.) He is a doer.

So, the incorporeal point of light and that corporeal ling is karta (doer) as well as akarta (non-doer). It is as if he is corporeal as well as? Incorporeal. He is a combination of both. A soul in its pure form is akarta. And when it enters in this timecycle, then it has to pass through the three attributes of sat, raj, tam. When it is beyond the three stages, then it is Trigunaateet. But that is a matter of a short period – being beyond the three attributes. Not being bound by the three stages. So, when it is beyond the three stages (trigunaateet), then it is beyond the Golden Age, beyond the Silver Age, beyond the Copper Age and beyond the Iron Age as well because there is a dominance of tamopradhan, of taamas (impurity) in the Iron Age.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 26 Sep 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba’s Murli
VCD-2403-extracts-Bilingual
समय- 00.01-12.35
Time: 00.01-12.35


प्रातः क्लास चल रहा था – 30.3.1967. आठवें पेज के मध्यांत में बात चल रही थी – बाबा आकरके समझानी देते हैं कि घर को याद करो। किसको समझानी देते हैं? हँ? (किसी ने कहा – बच्चे।) बच्चे माने? आत्मिक स्टेज में रहने वाले बच्चों को समझानी देते हैं कि मुझे याद करो। माना आत्माओं के बाप को याद करो। याद करेंगे? हँ? आत्माओं के बाप को याद करेंगे? नहीं करेंगे? (किसी ने कहा – साकार में निराकार।) क्यों? (किसी ने कहा – निराकार से क्या निराकारी वर्सा मिलेगा?) तो निराकारी वर्सा लेने वाला अच्छा नहीं है? निराकारी वर्सा लेने वाला भी तो अच्छा ही होगा ना। तो अच्छा नहीं बनना है? अच्छा बनना है ना। तो निराकारी वर्सा जो अखूट ज्ञान का भंडार निराकारी वर्सा है, वो लेने वाला बच्चा बाप का बच्चा होगा ना। हँ? जैसा बाप वैसा बच्चा। बाप तो देह अभिमानी नहीं है। और जो बच्चा ज्ञान का वर्सा लेता है, अखूट ज्ञान का भंडार लेता है, सुप्रीम सोल बाप से सुप्रिमेसी का वर्सा लेता है, जिससे बड़ा वर्सा संसार में कोई होता ही नहीं, जिससे बड़ी पवित्रता संसार में कोई होती ही नहीं, जो गीता में भी बोला है – न हि ज्ञान सदृशम पवित्रम इहि विद्यते। इस संसार में ईश्वरीय ज्ञान के समान पवित्र कोई चीज़ है ही नहीं। तो जो बड़े ते बड़े बाप का वर्सा, बड़े ते बड़ा वर्सा लेता है, वो भी तो बाप का बड़ा बच्चा होगा ना।

हिस्ट्री में क्या परंपरा चली आई राजाओं में?
(किसी ने कुछ कहा।) ये परंपरा कहाँ से चली? संगम से ये परंपरा किसने चलाई? हँ? (किसी ने कहा – बाप ने चलाई।) कौनसे बाप ने चलाई? इब्राहिम, बुद्ध, क्राइस्ट, आदि ढ़ेर बाप हैं। हँ? मनुष्य सृष्टि के बाप ने परंपरा चलाई? उससे पहले कोई बाप नहीं हुआ जिसने ये परंपरा शुरू की हो? जो मनुष्य सृष्टि का बाप है, बेहद का बाप तो है, लेकिन उसका भी कोई बाप है या नहीं है? तो उसका जो बाप है, उसी ने ये परंपरा चलाई। क्या? कि बच्चों में जो बड़ा बच्चा हो उसको उसकी बडप्पन के आधार पर, क्योंकि पहले-पहले पैदा होता है, पहलौटी के बच्चे के आधार पर उसे वर्सा देते। क्यों देते? क्योंकि लम्बे समय की प्यूरिटी के पावर के आधार पर पैदा होता है। दुनिया में जो प्यूरिटी है, वो तो देह की प्यूरिटी के आधार पर देखा जाता है। देह की पवित्रता, देह का एक ऐसा तत्व है, जो सत्व कहा जाता है। जिस सत्व से वर्सा लेने वाली माता क्या कही जाती है? सती कही जाती है। तो वो सत्व का वर्सा जो सती लेती है वो तो साकार हुई जिसको पार्वती का पूर्वजन्म कहा जाता है। और वेदवाणी में शिव बाप बताते हैं कि तुम सब पार्वतियाँ हो, नंबरवार सब पार लगाने वाली हो। माना सब माताएं बनती हैं क्या? हँ? सती तो माता होती है ना। नहीं? तो तुम सब पार लगाने वाली हो। माना नरक की दुनिया से पार कहाँ ले जाने वाली? स्वर्ग में ले जाने वाली हो। क्योंकि तुम माताएं हो जो पहले कन्या होती है, पवित्रता का आगार मानी जाती हैं, वो कन्याएं ही स्वर्ग के गेट खोलती हैं।

तो तुम सब नंबरवार पार लगाने वाली हो। नरक से स्वर्ग में ले जाने वाली हो देह की पवित्रता के आधार पर लेकिन देह का बाप तो जो कहा जाता है सभी धर्मों में, आदम, एडम, आदिदेव, वो भी तो देहभानी होता है। तो इस मनुष्य सृष्टि में सबसे जास्ती लंबे समय तक देह धारण करने वाली आत्मा कौन है? तीनों कालों में? सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग – चारों युगों में सबसे जास्ती देह को धारण करने वाली कौन है? कोई तो होगा? जो है वो ही मनुष्य सृष्टि का बाप है। जो तीनों काल को क्रॉस कर देता है देह धारण करके। माना शिव बाप जब आते हैं, उनको टाइटिल ही नहीं मिला हुआ है, सच्चाई मिली हुई है कि वो त्रिकालदर्शी है। क्या? तीनों काल का ज्ञाता है। तो किसके तीनों कालों को देख करके वो त्रिकालदर्शी बना? अरे? इस सृष्टि पर भूत, भविष्य, वर्तमान – जो सृष्टि है उसमें जो तीनों कालों में जो देह से मौजूद रहने वाली आत्मा है उसी को तो देखकरके, तीनों कालों को समझ करके त्रिकालदर्शी बना ना। अगर तीनों कालों में से कुछ कम काल रह जाता, कम समय रह जाता, तो फिर वो त्रिकालदर्शी कहा जाता? नहीं कहा जाता।

तो जिसके तीनों काल को देखकरके वो त्रिकालदर्शी बनता है, त्रिकालदर्शी बनने पर उसमें तीनों काल का सत्य क्या है वो ताकत आ जाती है सत्य की। कैसे आती है? क्योंकि वो ही एक आत्मा है जो जन्म-मरण के चक्र से? न्यारी है। क्योंकि जन्म-मरण के चक्र में जो आते हैं वो तो पूर्व जन्म की बातों को भूल जाते हैं। और वो जो आत्माओं का बाप है, आत्माएं अविनाशी हैं, तो आत्माओं का बाप भी अविनाशी है। अविनाशी बाप तो है, लेकिन आत्मा अविनाशी का बाप है या जिसका पार्ट तीनों कालों में लगातार नहीं चलता, बीच में ही पार्ट विनाश हो जाता है देह का, उनका बाप है?
(किसी ने कुछ कहा।) त्रिकालदर्शी बाप है, तीनों काल की सच्चाई को जानने वाला बाप है। तो तीनों काल की सच्चाई को धारण करने की शक्ति तीनों काल में पूरा पार्ट बजाने वाली आत्मा में ही होगी या तीनों काल में जो पार्ट बजाने वाली आत्माएं नहीं हैं उनमें होगी? (किसी ने कहा – तीनों काल में पूरा पार्ट बजाने वाली आत्मा ही सच्चाई धारण करती है।) तो उसी को चुनता है। माना आत्माओं में जो लम्बे से लम्बे समय की आयु वाला है, उसी को बड़ा बच्चा कहेंगे।

A morning class dated 30.3.1967 was being narrated. The topic being discussed in the end of the middle portion of the eighth page was – Baba comes and explains that you should remember the home. Whom does He explain? Hm? (Someone said – Children.) What is meant by children? He explains to the children who remain in a soul conscious stage that remember Me. It means that remember the Father of souls. Will you remember? Hm? Will you remember the Father of souls? Will you not? (Someone said – Incorporeal within the corporeal.) Why? (Someone said – Will you get incorporeal inheritance from the incorporeal?) So, isn’t the one who obtains the incorporeal inheritance good? The one who obtains the incorporeal inheritance will also be good only, will he not? So, should you not become good? You have to become good, will you not? The child who obtains the incorporeal inheritance, the incorporeal inheritance of the inexhaustible storehouse of knowledge will be the Father’s child only, will he not be? Hm? As is the Father so shall be the child. The Father isn’t bodyconscious. And the child who obtains the inheritance of knowledge, obtains the storehouse of inexhaustible knowledge, the one who obtains the inheritance of supremacy from the Supreme Soul Father; there is no inheritance bigger than that in the world at all; there is no purity bigger than that in the world at all; it has been said in the Gita also – Na hi gyaan sadrisham pavitram ihi vidyate. There is nothing as pure as the Godly knowledge in this world. So, the one who obtains the inheritance of the biggest Father, the one who obtains the biggest inheritance will also be the eldest child of the Father, will he not be?

Which tradition has been followed in the history by the kings?
(Someone said something.) Where did this tradition start? Who started this tradition in the Confluence Age? Hm? (Someone said – The Father started.) Which Father started? There are numerous Fathers like Ibrahim, Buddha, Christ, etc. Hm? Did the Father of the human world start the tradition? Wasn’t there any Father before him who must have started this tradition? The Father of the human world is indeed the unlimited Father, but does he have any Father or not? So, the one who is his Father Himself started this tradition. What? That the inheritance is given to the eldest child among the children on the basis of his elderliness (badappan), because he is born first of all, being the first child. Why is he given? It is because he is born on the basis of the power of purity since a long time. The purity in the world is observed on the basis of the purity of the body. The purity of the body is such an element of the body which is called satwa. What is the mother who obtains inheritance from that satwa called? She is called Sati. So, the Sati who obtains the inheritance of satwa is the corporeal who is called the past birth of Parvati. And in the Father Shiv tells in the Vedvani that you all are Parvatis, you all take others across numberwise. Does it mean that all become mothers? Hm? Sati is a mother, isn’t she? Isn’t she? So, you all take others across. It means that they take others across from the world of hell to which place? You take them across to heaven because you are mothers who are initially virgins, considered to be epitomes of purity; those virgins only open the gate of heaven.

So, you all take others across numberwise. You take others across from hell to heaven on the basis of the purity of the body, but the Father of the body who is called in all the religions as Aadam, Adam, Aadidev is also body conscious. So, which soul assumes the body for the longest period in this human world? In all the three aspects of time? Who assumes the body for the longest period in all the four Ages - Golden Age, Silver Age, Copper Age, Iron Age ? There must be someone? Whoever that person is happens to be the Father of the human world. The one who crosses all the three aspects of time by assuming the body. It means that when the Father Shiv comes, He does not just hold the title, but He holds the truth that He is Trikaaldarshi (knower of all the three aspects of time). What? He is the knower of all the three aspects of time. So, He became Trikaaldarshi by observing whose three aspects of time? Arey? Past, future and present in this world – the soul which exists in the world with its body in all the three aspects of time; only by observing him, by understanding his three aspects of time did He become Trikaaldarshi, didn’t He? If some time is left from the three aspects of time, if some time remains, then would He be called Trikaaldarshii? He would not be called.

So, by observing the three aspects of that soul He becomes Trikaaldarshii; on becoming Trikaaldarshii he gets the power of truth that what is the truth of all the three aspects of time. How does he get? It is because His is the only soul which is beyond the cycle of birth and death. It is because those who pass through the cycle of birth and death forget the topics of the past births. And He, who is the Father of souls; when the souls are imperishable, then the Father of the souls is also imperishable. He is indeed an imperishable Father, but is He the Father of the imperishable soul or is He the Father of those whose part is not played continuously in all the three aspects of time and the part (role) of the body perishes in between only?
(Someone said something.) He is the Trikaaldarshii Father; He is the Father who knows the truth of all the three aspects of time. So, will the soul that plays a complete part in all the three aspects of time have the power to hold the truth of all the three aspects of time or will those souls who do not play their parts in all the three aspects of time possess that power? (Someone said – Only the soul which plays a complete part in all the three aspects of time hold the truth.) So, He chooses him alone. It means that among the souls the one who has the longest age will be called the eldest child.
---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 27 Sep 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba’s Murli
VCD-2404-extracts-Bilingual

समय- 00.01-17.32
Time: 00.01-17.32


आज का रात्रि क्लास है – 30.3.1967. बहुत चित्र होने से मनुष्य और ही मुँझ जाते हैं क्योंकि ये ढ़ेर के ढ़ेर चित्र माया की मत पर बनाए जाते हैं। इसलिए कोई की बुद्धि में कुछ बैठता ही नहीं। अभी इनको बाबा ने भेज दिया था ना। पता नहीं इनको मिला था या नहीं मिला। कोई भाई ने कहा – वो मिला था बाबा। मैं जब आ रहा था उसी टाईम मिला था। अभी वो एक ही चित्र है पहला। ये गीता भगवान ने गाई है। भगवान ने गाई है या उस बच्चे ने गाई है जिसको भगवान मानकर पूजा करते हैं? बच्चे के रूप में ही पूजनीय मानते हैं। बड़े कृष्ण को नहीं पूजते। कहते हैं ये राजयोग उसने सिखाया। उसी ने गीता का गीत गाया। अभी इन चित्रों से ही बहुत सिद्ध हो जाता है कि भगवान ने आकरके भारत को ये राजयोग सिखलाया। जो भारत सदा ही ज्ञान की रोशनी में रत रहता है। इसलिए भारत हेविन बन गया। विन माने जीतना। हेविन माना जीत पाया हुआ। कैसे जीत पाता है? उस हेविन को हिन्दी में कहते हैं स्वर्ग। स्वस्थिति में गया। स्व आत्मा को कहा जाता है। ग माने गया। फिर वो ही भारत 84 जन्म भोग करके अभी हेल बन गया। क्यों बन गया? क्या कारण हुआ?

कहते हैं भारत माता की जय। बार-बार बोलते हैं भारत माता की जय। पिता को भूल जाते हैं। अब भारत माता कोई विधवा तो नहीं होगी। भारत में तो विधवाओं की मान्यता नहीं है। सधवाओं की मान्यता है। तो क्या कारण है? कि जब जय बोलते हैं तो भारत माता की जय बोलते हैं? बाप का नाम भूल जाते हैं। क्यों? कारण यही है कि ऊँचे ते ऊँचा भगवन्त बाप जब आते हैं तो जिस तन रूपी रथ में प्रवेश करते हैं, उस रथ से उन्हें क्या काम लेना है? हँ? बोला तो ये है ब्रह्मवाक्य मुरली में कि भगवान भारत पर फिदा होकर आये हैं। भारत के ऊपर आशिक बनकर आये हैं। भगवान तो निराकार है क्योंकि भगवान तो ऊँच ते ऊँच है। उससे तो ऊँचा कोई होता ही नहीं है। और उस निराकार भगवान को अपना रथ तो? है ही नहीं। वो तो सिर्फ आत्मा है। परमपुरुष है। शरीर रूपी पुरी में परम आनन्द से रहने वाला है। कभी बेचैन नहीं होता। तो उसे रथ की क्या जरूरत पड़ गई जो कहता है मैं जिस मुकर्रर रथ में आता हूँ, वो भाग्यशाली रथ है?

आत्मा ही भाग्यशाली बनती है और आत्मा ही दुर्भाग्यशाली बनती है। परन्तु भाग्यशाली और दुर्भाग्यशाली दोनों ही प्रकार से बनने का आधार क्या है? भाग्यशाली और दुर्भाग्यशाली शरीर के साथ होता है, शरीर की कर्मेन्द्रियों से होता है या बिना शरीर और कर्मेन्द्रियों के होता है? हँ? शरीरधारी के लिए कहा जाता है – भाग्यशाली, दुर्भाग्यशाली। तो आत्मा के भाग्यशाली बनने का आधार है शरीर। जो आत्माओं का बाप है उसे न भाग्यशाली कहेंगे और न दुर्भाग्यशाली कहेंगे। वो तो त्रिकालदर्शी है क्योंकि जनम-मरण के चक्र में नहीं आता। तीनों काल का ज्ञाता है। किसके तीनों काल का ज्ञाता है? कोई है जो तीनों ही काल में मौजूद रहता हो? और फिर उसके ज्ञाता को जानकारी हो जाती है? फिर कहा जाता है त्रिकालदर्शी। पूरे चक्र में, सृष्टि चक्र में चक्कर लगाने वाली आत्मा नहीं है, कोई है ही नहीं, वो फिर त्रिकालदर्शी किसका?

तो जो आत्मा तीनों काल में सत है क्योंकि गीता में भी आया है सत का कभी अभाव नहीं होता है। झूठ भाग खड़ा होता है। सत्य सदा स्थिरियम है। अचल है, अडोल है। उसे तीनों काल में कोई भी हटाय नहीं सकता। क्योंकि वो ही है जो कालों का काल गाया हुआ है। महाकाल गाया हुआ है। अविनाशी है इस सृष्टि रूपी चक्र में। इसलिए शिव बाप आकर इस दुनिया में जब ज्ञान का फाउण्डेशन अर्थात् बीज डालते हैं, तो जिस व्यक्तित्व में बीज डालते हैं, नई सृष्टि रचने के लिए, जैसे कि दुनिया में भी कोई बाप अपना परिवार बनाने के लिए बीज डालता है ना। किसमें डालता है? माता में बीज डालता है। परन्तु निराकार आत्माओं का निराकार बाप निराकार बीज ही डालेगा। ज्ञान का ही बीज डालेगा। वो निराकार है ना। तो बीज भी ज्ञान का निराकार बीज है। परन्तु जो बीज बाप कहा जाता है उसे धारण करने वाली, अर्थात् बीज को धारण करने वाली धरणी माता तो चाहिए। नहीं चाहिए? तो बीज है निराकार ज्योति बिन्दु। उसे साकार नहीं कह सकते। बिन्दु को जितना सूक्ष्म बनाना चाहो उतना सूक्ष्म बन जाएगा। और वो तो परमपुरुष रूपी बीज है। उससे परे ते परी स्टेज में रहने वाला कोई बीज है ही नहीं। गीता में भी लिखा है अणोः अणीयांसम् अनुस्मरेत् यः (गीता 8/9)। अणु रूप से भी अणु है। बुद्धि रूपी आत्मा है ना।


Today’s night class is dated 30.3.1967. People become even more confused when there are many pictures because these numerous pictures are prepared on the opinion of Maya. This is why nothing sits in the intellect of anyone. Now Baba had sent it to him, hadn’t He? It is not known whether he received it or not. A brother said – That was received Baba. It was received at the time when I was coming. Now that is the only first picture. This Gita has been sung by God. Did God Himself sing or did that child who is considered to be God and is worshipped, sing? He is considered to be worshipworthy only in the form of a child. The elder Krishna is not worshipped. It is said that he taught this rajyog. He himself sang the song of Gita. Now it is amply proved through these pictures only that God came and taught this rajyog to Bhaarat. That Bhaarat always remains immersed in the light of knowledge. This is why Bhaarat became heaven. Win means victory. Heaven means the one who has gained victory. How does he win? That heaven is called ‘swarg’ in Hindi. He achieved self-stage (swasthiti). The soul is called swa. Golden Age means went (gaya). Then the same Bhaarat has become hell after getting 84 births. Why did he become? What was the reason?

People say – Bhaarat mata ki jai (victory to Mother India). They say again and again – Victory to Mother India. They forget the Father. Well, Mother India will not be a widow. Widows are not given respect in India. Married women are given respect. So, what is the reason that when they hail the victory, they say ‘victory to Mother India’? They forget the name of the Father. Why? The reason is that when the highest on high God the Father comes, then what is the task that he has to enable the Chariot, the body like Chariot in which He enters, to perform? Hm? It has been said in the Brahmavaakya Murli that God has come losing His heart to Bhaarat. He has come as the lover of Bhaarat. God is incorporeal because God is the highest on high. There is nobody higher than Him at all. And that incorporeal God doesn’t have His own Chariot (body) at all. He is just a soul. He is the Parampurush (the Supreme Soul). He is the one who lives in supreme joy in the body like abode (puri). He never becomes restless (bechain). So, why did He need a Chariot for which He says that the permanent Chariot in which I come is a fortunate Chariot?

The soul itself become fortunate and the soul itself becomes unfortunate. But what is the basis for becoming fortunate as well as unfortunate? Does someone become fortunate and unfortunate along with the body, through the organs of action of the body or without the body and organs of action? Hm? It is said for a bodily being – fortunate, unfortunate. So, the basis of the soul becoming fortunate is the body. The Father of the souls will neither be called fortunate nor unfortunate. He is Trikaaldarshii (knower of all the three aspects of time) because He does not pass through the cycle of birth and death. He is the knower of all the three aspects of time. He is a knower of whose three aspects of time? Is there anyone who exists in all the three aspects of time? And after that its knower gets the knowledge? Then he is called Trikaaldarshii. If there is no soul which passes through the entire cycle, the world cycle, if there is no such soul at all, then whose Trikaaldarshii is He?

So, the soul which is true in all the three aspects of time because it has been mentioned in the Gita also that there is never a dearth of truth. Falsehood runs away. Truth remains constant forever. It is immovable, unshakeable. It cannot be removed in all the three aspects of time because He alone is praised as the ‘kaalon ka kaal’. He is praised as the Mahaakaal. He is imperishable in this world cycle. This is why when Father Shiv comes in this world and lays the foundation, i.e. the seed of knowledge, then the person in whom He lays the seed in order to create a new world; just as any Father in the world sows a seed in order to establish a family; in whom does he sow? He sows the seed in the mother. But the incorporeal Father of the incorporeal souls will sow the incorporeal seed only. He will sow the seed of knowledge only. He is incorporeal, isn’t He? So, the seed is also an incorporeal seed of knowledge. But a mother is required to hold the seed which is called Father. Is she not required? So, the seed is the incorporeal point of light. It cannot be called corporeal. A point will become as much subtle as you wish to make it. And He is the seed like Parampurush (Supreme Soul). There is no seed who remains in a stage higher than Him. It has also been written in the Gita – Anoh aneeyaamsam anusmaret yah. (Gita 8/9) He is subtler than the form of an atom. He is the intellect like soul, isn’t He?

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 01 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba’s Murli
VCD-2405-extracts-Bilingual

समय- 00.01-13.50
Time: 00.01-13.50

रात्रि क्लास चल रहा था – 30.3.1967. दूसरे पेज के मध्यादि में बात चल रही थी – बच्चे, बाप का परिचय देने में तिक-तिक करके थकाय देते हैं। मैं मनुष्यों को समझाता हूँ कि ये स्थापना भारत में हुई थी। ये भगवान फादर की ही समझानी ठीक पड़ती है। भगवान न कहकरके फादर-फादर ही करते रहते हैं। तो वो है हमारा फादर, वी आर आल चिल्ड्रेन। अच्छा फादर तो एस्टेब्लिश करते हैं पैराडाइस को। जन्नत का निर्माण करते हैं क्योंकि हेविनली गॉड फादर गाया हुआ है ना। तो हेविन रचने वाला फादर है। अच्छा, ये भारत हेविन था ना। क्या नाम दिया? है विन। विन माने जीता। है माने जीता है। क्या जीता है? सारी दुनिया का राज्य जीता है। तो जो सारी दुनिया का राज्य जीता, उसका नाम दिया हेविन। फिर बाद में तो ये हैल जरूर बनना है। क्योंकि सत्, चित्, आनन्द, जिसे भगवान कहा जाता है, सत्यम् शिवम् सुन्दरम् कहा जाता है, गॉड इज़ ट्रुथ कहा जाता है, वो सदा सत् सतोप्रधान दुनिया का निर्माण करता है। और सतोप्रधान दुनिया में रहने वाली मनुष्यात्माएं, देवआत्माएं कहो, सात्विक जीवन तो जीती ही हैं, परन्तु जो सात्विक इन्द्रियाँ हैं, ज्ञानेन्द्रियाँ, उन ज्ञानेन्द्रियों का सुख भोगते हैं। और वो ज्ञानेन्द्रियाँ भी? देह का अंग हैं। देह विनाशी? तो इन्द्रियों का सुख भी? कैसा? विनाशी।

तो देखो, देवताओं की सत्वप्रधान, सतोगुणी दुनिया से ही देह का सुख भोगने के कारण पतन होने लगता है दुनिया का। पहले धीमी गति से पतन होता है। बाद में ये दुनिया प्रकृति के तीन गुणों से पसार जरूर होती है क्योंकि दुनिया की हर चीज़ चार अवस्थाओं से पसार होती है। सत्वप्रधान, सत्वसामान्य, रजो और तमो। तो भगवान सत ने, ट्रुथ गॉड फादर ने जो सतयुग रचा था, वो सतयुग भी तीन अवस्थाओं से, सतोगुण, रजोगुण, तमोगुण से पसार होते-होते तामसी दुनिया कलियुग बन जाता है। दुनिया की हर चीज़ प्रकृति के तीन गुणों से बंधी हुई है। ये प्रकृति ही तीन गुणों वाली है। सत्वप्रधान के बाद रजोप्रधान बनना ही है। रजोप्रधान के बाद तमोप्रधान बनना ही है। और जब पूरा तमोप्रधानता छा जाती है, सारी दुनिया में अज्ञान अंधकार छा जाता है, तब उस महान अंधकार के अंदर महाशिवरात्रि में सत् बाप जिसे सत्यम् शिवम् सुन्दरम् कहा जाता है, वो इस सृष्टि को तमोप्रधान से आकर सतोप्रधान बनाते हैं।

तो देखो, भगवान आकरके पुरानी दुनिया को सतोप्रधान बनाते हैं। और मनुष्यात्माएं तमोप्रधान बनाय देती हैं। माना, नर माना मनुष्य नरक बनाता है, और हेविनली गॉड फादर स्वर्ग बनाता है। तो ये चक्र ऐसे ही चलता रहता है। नई दुनिया फिर पुरानी दुनिया बन जाती है। तो देखो अभी भी भगवान बाप आया हुआ है जो सदा सत है। वो गॉड फादर इज़ ट्रुथ जो कहा जाता है, वो नई दुनिया बना रहा है। तो अभी ये दुनिया पुरानी भी बनेगी। कब बनेगी? कितने समय के बाद पुरानी बनेगी? हँ?
(किसी ने कुछ कहा।) जोर से बोलो। (किसी ने कहा – 5000 वर्ष।) 5000 वर्ष के बाद पुरानी बनेगी। क्यों? अभी संगमयुग में 5000 वर्ष की दुनिया का रिहर्सल नहीं किया जा रहा है? हँ? 5000 वर्ष की दुनिया का रिहर्सल हो रहा है या नहीं हो रहा है? (सबने कहा – हो रहा है।) तो जब सतोप्रधान भगवान बनाता है, तो तमोप्रधान कौन बनाता है रिहर्सल पीरियड में? हँ? अरे रिहर्सल भी तो वैसा ही होगा ना। 5000 वर्ष में जो ड्रामा रिपीट होगा सत्वप्रधान, सतोसामान्य, रजो और तमो, तो रिहर्सल में भी ऐसे ही रिपीट होगा ना। नहीं होगा? होगा।

तो पूछा – भगवान जो अभी सत्वप्रधान दुनिया बना रहा है वो दुनिया अभी माना संगमयुग में ही तमोप्रधान बनेगी या नहीं बनेगी? हँ?
(सबने कहा – बनेगी।) बनेगी। पहले नई, नई सो फिर ये पुरानी बननी ही है। ब्रॉड ड्रामा में भी नई दुनिया फिर पुरानी दुनिया बनती है। और रिहर्सल में भी? शूटिंग में भी? नई दुनिया पुरानी दुनिया बनती है। तो फिर बता देना चाहिए ये चक्कर की बात को कि पहले गोल्डन एज, फिर सिल्वर एज, फिर कॉपर एज, अभी इस दुनिया में आयरन एज है। जब गोल्डन एज थी, तो पहले इस दुनिया में वो डीटीज़ थे। देवताएं थे। पहले वो थे, देवात्माओं की दुनिया। पीछे इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन्स, अभी तो ये झाड़ पूरा होता है। पुराना होता है। अभी बाप आकरके कहते हैं – इस पुराने झाड़ में तुम सब, सब 500-700 करोड़ पत्ते, पतित बन पड़े हो। झाड़ जब पूरा हो जाता है, पुराना हो जाता है, सूखने लग जाता है, तो पत्तों का क्या हाल होता है? हँ? अरे? पत्ते भी झड़ जाते हैं। क्या होता है? जो ऊँची स्टेज में थे वो पतित हो जाते हैं, नीचे गिर जाते हैं। तो अभी तुम भी पतित बने हो।

A night class dated 30.3.1967 was being narrated. The topic being discussed in the beginning of the middle portion of the second page was – Children become tired speaking a lot while giving the Father’s introduction. I explain to the human beings that this establishment had taken place in India (Bhaarat). This explanation of God, the Father alone appears correct. Instead of saying God, they keep on telling Father, Father only. So, He is our Father, we are all children. Achcha, Father establishes the Paradise. He establishes Jannat (heaven) because the heavenly God Father is praised, isn’t He? So, the Father is the creator of heaven. Achcha, this Bhaarat was heaven, wasn’t it? What was the name given? Hai win. Win means victory. Hai means ‘has’ won. What did he win? He won the kingdom of the entire world. So, the kingdom of the entire world that was won was named heaven. Then later on this is bound to become hell because Sat, Chit, Anand, who is called God; He is called Satyam Shivam Sundaram; He is called ‘God is truth’; that forever truth establishes a satopradhan world. And the human souls, call them the divine souls living in the satopradhan world do lead a pure (satwik) life, but they enjoy the pleasure of the pure organs, the sense organs. And those sense organs are also a part of the body. The body is perishable. So, the pleasure of the organs is also of what kind? Perishable.

So, look, from the time of the satwapradhan, satoguni world of the deities itself the decline of the world starts because of enjoying the pleasure of the body. Initially the downfall takes place at a slow pace. Later on this world definitely passes through the three attributes of Prakriti because everything in the world definitely passes through four stages. Satwapradhan, satwasaamaanya, rajo and tamo. So, the Golden Age that God, the truth, truth God Father had established, that Golden Age also passes through the three stages – Satogun, rajogun, tamogun and becomes a taamsi (degraded) world, Iron Age. Everything in the world is bound by the three attributes of nature (Prakriti). This Prakriti itself has three attributes. It is bound to become rajopradhan from satopradhan. It is bound to become tamopradhan from rajopradhan. And when degradation (tamopradhaantaa) spreads completely, when the darkness of ignorance spreads in the entire world, then in that great darkness, in Mahashivratri, the true Father, who is called Satyam Shivam Sundaram comes and makes this world satopradhan from tamopradhan.

So, look, God comes and makes the old world satopradhan. And human souls make it tamopradhan. It means that the nar, i.e. human being makes narak (hell) and the heavenly God Father makes heaven (swarg). So, this cycle keeps on rotating like this only. The new world then becomes old world. So, look, even now God, the Father, who is forever truth has come. He, who is called ‘God Father is truth’ is establishing a new world. So, now this world will become old as well. When will it become? After how much time will it become old? Hm?
(Someone said something.) Speak loudly. (Someone said – 5000 years.) It will become old after 5000 years. Why? Isn’t the rehearsal of the 5000 years old world not taking place now in the Confluence Age? Hm? Is the rehearsal of the 5000 years old world taking place or not? (Everyone said – It is taking place.) So, when God makes us satopradhan, then who makes you tamopradhan in the rehearsal period? Hm? Arey, the rehearsal will also take place accordingly, will it not? The drama that repeats in the 5000 years – satwapradhan, satosaamaanya, rajo and tamo, then it will repeat in the same manner during the rehearsal also, will it not? Will it not? It will.

So, it was asked – God, who is establishing a satwapradhan world now, will that world become tamopradhan now, i.e. in the Confluence Age itself or will it not become? Hm?
(Everyone said – It will become.) It will become. It is initially new, then the new one is bound to become old. In the broad drama also the new world then becomes an old world. And in the rehearsal also? In the shooting also? The new world become an old world. So, then you should tell about the topic of this cycle that initially there was the Golden Age, then Silver Age, then Copper Age, now there is Iron Age in this world. When there was Golden Age, then there were those deities in this world. There were devataas (deities.) Initially they - the world of divine souls, existed.. Later on the Islamic people, the Buddhists, the Christians; now this Tree is about to end. It becomes old. Now the Father comes and says – In this old tree, you all, all the 500-700 crore leaves have become sinful. When the tree grows completely, when it becomes old, when it starts drying, then how do the leaves become? Hm? Arey? The leaves also fall. What happens? Those who were in a high stage become sinful, experience downfall. So, now you have also become sinful.
---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 02 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba’s Murli
VCD-2406-extracts-Bilingual

समय- 00.01-11.50
Time: 00.01-11.50


रात्रि क्लास चल रहा था – 30.3.1967. दूसरे पेज के मध्य में बात चल रही थी – अभी नई दुनिया नई से फिर ये पुरानी बननी है। कौनसी नई दुनिया? 1967 की वाणी है, जब ब्रह्मा बाबा जीवित थे। कोई भी धरमपिता की मौजूदगी में उस धर्म का उत्थान होता है। धर्म की धारणाएं नई होती हैं। और नया संगठन रूपी नई दुनिया बनती है उस धर्म की। इसी तरह ब्रह्मा बाबा के जीवित रहते-रहते 1967 में ब्राह्मणों की नई दुनिया तैयार हुई थी। तो बोला – ये नई से फिर ये पुरानी बननी है। कबसे पुरानी बननी शुरू हो गई? हँ? अरे? शूटिंग पीरियड में ब्रह्मा बाबा के रहते-रहते जो ब्राह्मणों की दुनिया नई थी, वो फिर कबसे पुरानी बनना शुरू हो गई? (किसी ने कुछ कहा।) हँ? जैसे धरमपिताएं चले जाते हैं, शरीर छोड़ देते हैं तो उनके फालोअर्स उस धर्म का पतन करना शुरू कर देते हैं। जो देहधारी धर्मगुरू गद्दीनशीन बैठते हैं, उनसे धर्म का पतन होना शुरू हो जाता है।

ऐसे ही 1967 में बोला – ये नई दुनिया ब्राह्मणों की थी जबकि ब्रह्मा बाबा जीवित थे और 1968 के बाद 18 जनवरी सन् 69 को जब बाबा ने शरीर छोड़ दिया तो वो ही ब्राह्मणों की दुनिया पुरानी होनी शुरू हो गई। क्या लक्षण दिखाई दिया?
(किसी ने कहा – अपना-अपना प्राविन्स।) ब्राह्मणों ने अपने-अपने जोनल, जोन अलग-अलग कर लिए 1969 में ही। जो ब्रह्मवाक्य मुरली में ही बोल दिया कि द्वैतवादी द्वापरयुग आने से जो भी धरमपिताएं आते हैं, अपना-अपना प्राविन्स, अपना-अपना धर्मखण्ड अलग कर लेते हैं। तो उन धरमपिताओं के फालोअर्स में भी झगड़ा शुरू हो जाता है। तू तेरा मैं मेरा शुरू हो जाता है।

तो बोला ये ब्राह्मणों की दुनिया भी नई से पुरानी बननी है। माने 1967 में नहीं बनी थी शूटिंग पीरियड में। फिर बता देना ये चक्कर को कि पहले गोल्डन एज होती है, फिर सिल्वर एज, फिर कॉपर, अभी आयरन एज। जो गोल्डन एज है उनमें पहले-पहले डीटीज़ थे। सिल्वर एज में भी डीटीज़ थे। परन्तु दो कलाएं कम होने से क्षत्रीय कहे गए। फिर इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन। अब ये झाड़ पूरा होता है। तो ब्राह्मणों की दुनिया में ब्रह्मा के द्वारा जो ब्राह्मण सृष्टि रची गई, उसका झाड़ कब पूरा होता है? हँ? अरे? पहले ही मुरली में घोषणा कर दी थी। दस वर्ष में पुरानी दुनिया का विनाश। और नई दुनिया की? स्थापना हो जावेगी। तो पुरानी दुनिया कब हो जाती है ब्राह्मणों की जो ब्रह्मा के द्वारा स्थापना हुई थी ? हँ? 1975-76 में। वो ब्राह्मणों की दुनिया की शूटिंग का झाड़ पूरा होता है। अभी बाप आकरके कहते हैं – 76 में कौनसा वर्ष मनाया?
(किसी ने कुछ कहा।) हँ? बाप का प्रत्यक्षता वर्ष।

तो बोला अभी माने कभी? हँ? अभी पुरषोत्तम संगमयुग की शूटिंग में ही बाप आकरके कहते हैं। कौनसा बाप आकरके कहते हैं? हँ? 76 में कौनसे बाप का प्रत्यक्षता रूपी जन्म? हँ? मनुष्य सृष्टि के बाप। उनका प्रत्यक्षता रूपी जन्म मनाया। परन्तु मनाने वालों ने जाना कोई ने नहीं कि कौनसे बेहद के बाप का प्रत्यक्षता वर्ष मनाया गया? तो बाप आकर कहते हैं तुम अभी पतित बने हो। मुझे याद करो तो पावन बन जाएंगे। कौनसा बाप आकर कहते हैं? हँ? अरे शूटिंग पीरियड की बात हो रही है। कौनसा बाप कहते हैं मुझे याद करो? कौन कहते हैं मनमनाभव? हँ?
(किसी ने कुछ कहा।) ब्रह्मा बाबा कहते हैं? (सबने कहा – शिवबाबा।) शिव बाबा कहते हैं? शिव बाप नहीं कहते? हँ? (किसी ने कहा – नहीं।) क्यों? (किसी ने कुछ कहा।) हाँ। मुझे याद करो अर्थात् मेरे मन में क्या है?, मेरे मन में जो ऊँच ते ऊँच बाप समाया हुआ है, उस ऊँच ते ऊँच बाप को याद करो।

जो आत्माओं का बाप है, वो आत्माओं का बाप, मनुष्य सृष्टि के साकार बाप में जब आता है, तब कहता है। क्या? हँ?
(किसी ने कहा - मनमनाभव।) मनमनाभव। क्योंकि वो दोनों बेहद के बाप एक व्यक्तित्व में प्रत्यक्ष हो जाते हैं इसलिए वो व्यक्तित्व ही कहता है – मुझे याद करो, तो पावन बन जाएंगे। और इस देह से लिबरेट हो जाएंगे। जैसे मनुष्य सृष्टि का बाप इस देह से, देह की दुनिया से, देह के संबंधों से, देह के पदार्थों से मन-बुद्धि के स्तर पर डिटैच हो जाता है, और किसकी याद में रहकर डिटैच हो जाता है? हँ? जो सदा डिटैच है, सदा मुक्त है, कभी बंधन में आता ही नहीं। कौन? शिव बाप। तो सभी दुखों से तुम बच्चे भी लिबरेट हो जाएंगे। तुम्हारी आत्मा में भी दुखों का कोई बंधन नहीं रहेगा। आत्मा ऐसी प्रकष्ट स्टेज को प्राप्त कर लेगी, ऐसी ज्ञान की स्थिति को प्राप्त कर लेगी कि तुम कैसी भी परिस्थिति में रहेंगे लेकिन दुख का अनुभव नहीं करेंगे।

A night class dated 30.3.1967 was being narrated. The topic being discussed in the middle of the second page was - Now the new world is to become old from new again. Which new world? It is a Vani dated 1967 when Brahma Baba was alive. Any religion prospers in the presence of the founder of that religion. The inculcations of the religion are new. And a new world like new gathering of that religion gets ready. Similarly, during Brahma Baba’s lifetime the new world of Brahmins got ready in 1967. So, it was said - This is to become old from new once again. When did it start becoming old? Hm? Arey? During the shooting period, while Brahma Baba was alive, the world of Brahmins which was new started becoming old from which time? (Someone said something.) Hm? Just as founders of religions depart, leave their bodies, then their followers start causing the downfall of that religion. The bodily religious gurus who sit on the thrones start the downfall of the their religion.

Similarly, it was said in 1967 - this world of Brahmins was new when Brahma Baba was alive. And after 1968, when Baba left his body on 18th January, 69, then the same world of Brahmins started becoming old. What was the indication observed?
(Someone said - Their own provinces.) Brahmins separated their own zonal, zones in 1969 itself. It has been told in the Brahmvakya Murli itself that the founders of religions who come on the arrival of the dualistic Copper Age, start segregating their own provinces, their own religious lands (dharmakhand). So, a fight emerges between the followers of the founders of those religions as well. Quarrelling 'You', 'yours', 'I', 'mine' starts.

So, it was said that this world of Brahmins is also to become old from new. It means it had not become in 1967 in the shooting period. Then tell about this cycle that first there is Golden Age, then Silver Age, then Copper Age, now it is Iron Age. There were first of all deities in the Golden Age. There were deities in the Silver Age as well. But because of possessing two celestial degrees less, they were called Kshatriyas (warriors). Then Islamic people, Buddhists, Christians. Now this tree is about to end. So, when does the tree of the Brahmin world that was created through Brahma in the world of Brahmins end? Hm? Arey? It was declared in the Murli beforehand. Destruction of the old world in ten years. And the new world? Will be established. So, when does the world of Brahmins that was established by Brahma become old? Hm? In 1975-76. The tree of shooting of the world of Brahmins gets over. Now the Father comes and tells - Which year did you celebrate in 76?
(Someone said something.) Hm? The year of revelation of the Father.

So, it was said – ‘Now’ refers to which time? Hm? The Father comes and tells in the shooting of the Purushottam Sangamyug (elevated Confluence Age) now. Which Father comes and says? Hm? Which Father got revelation like birth in 76? Hm? The Father of the human world. His revelation like birth was celebrated. But none of those who celebrated came to know that the year of revelation of which unlimited Father was celebrated? So, the Father comes and says – You have now become sinful. If you remember Me, you will become pure. Which Father comes and says? Hm? Arey, the topic of shooting period is being discussed. Which Father says – Remember Me? Who says Manmanaabhav? Hm?
(Someone said something.) Does Brahma Baba say? (Everyone said – ShivBaba.) Does ShivBaba say? Doesn’t Father Shiv say? Hm? (Someone said – No.) Why? (Someone said something.) Yes. Remember Me means what is in My mind? Remember the highest on high Father who is in My mind.

The one who is the Father of souls, that Father of souls says when He comes in the corporeal Father of the human world. What? Hm?
(Someone said – Manmanaabhav.) Manmanaabhav. Because both of those unlimited Fathers are revealed in the same personality, this is why that personality says – If you remember me you will become pure. And you will be liberated from this body. Just as the Father of the human world becomes detached from this body, from this world of the body, from the relationships of the body, from the things related to the body at the level of mind and intellect, and in whose remembrance does He become detached? Hm? The one who is always detached, always free, never enters in a bondage at all. Who? Father Shiv. So, you children will also become liberated from all the sorrows. Your soul will also not be bound by any sorrows. The soul will reach such a special stage, it will achieve such a stage of knowledge that in whatever kind of circumstance you remain, you will not experience sorrows.
---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 03 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba’s Murli
VCD-2407-extracts-Bilingual

समय- 00.01-14.40
Time: 00.01-14.40


रात्रि क्लास चल रहा था – 30.3.1967. दूसरे पेज के मध्यांत में बात चल रही थी – जब आत्माओं का बेहद का बाप आते हैं, नई दुनिया बनाने के लिए, तो पुरानी दुनिया का डिस्ट्रक्शन तो होता ही है। और ये डिस्ट्रक्शन होते ही हैं नई दुनिया के लिए। क्योंकि नई दुनिया में, सतोप्रधान दुनिया में अगर तमोप्रधान दुनिया के रहेंगे, तो नई दुनिया भी तमोप्रधान बनाय देंगे। इसलिए नई दुनिया के लिए पुरानी दुनिया को भस्म करना पड़ता है। ये तो सृष्टि रूपी मकान है, बेहद का मकान है। और दुनिया में भी जो हद के मकान होते हैं उनका डिस्ट्रक्शन तो होता ही है। हद की चीज़ें विनाश होती हैं नई बनने के लिए। तो ये भी पुरानी दुनिया है। और ये पुरानी दुनिया जरूर नई बनेगी। तो ये पुरानी दुनिया डिस्ट्रक्शन हो जाएगी। ये पुरानी दुनिया। कौनसी पुरानी दुनिया डिस्ट्रक्शन हो जाएगी? हँ? ये कहकरके कौनसी दुनिया की तरफ इशारा किया खास? शास्त्रों में तो लिखा है कि ब्रह्मा ने तीन बार सृष्टि रची। और पसन्द नहीं आई तो तीनों बार खलास कर दी।

हम ब्राह्मण भी देखते हैं कि इस ब्राह्मणों की हिस्ट्री में पहली बार ब्राह्मणों की दुनिया रची गई, उसका नाम रखा गया ओम मण्डली। और वो भी पसन्द नहीं आई तो विनाश कर दी। फिर ब्राह्मणों की दूसरी दुनिया रची। ब्रह्मा द्वारा ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की। और वो दुनिया भी मम्मा के शरीर छोड़ने के बाद देखा – कि मम्मा की गद्दीनशीन कोई दूसरी ब्रह्माकुमारी धर्मगुरू बनकरके बैठ गई। और बाबा ने बोल भी दिया – इन सितारों में सबसे जास्ती खातरी होती है कुमारिका की। फिर ये भी बता दिया कि जो दुनिया में भी बड़े-बड़े मर्तबे वाले होते हैं, उनकी दुनिया वाले बहुत खातरी करते हैं। जो बड़े-बड़े होते हैं, बड़े भ्रष्टाचारी होते हैं। छोटों-छोटों की गुप्त रहती है। वो तो हो ही नहीं सकता। बड़ों-बड़ों की गुप्त रहती है।

तो जो इशारा दिया था कि मम्मा की गद्दीनशीन जो दूसरी ब्रह्माकुमारी बनकर बैठ गई, और अमेरिका से टाइटल लेकरके आई – वर्ल्ड मदर। अरे! ब्राह्मणों की दूसरी दुनिया रची गई, तो उस दुनिया का फाउण्डर ब्रह्मा था ना जिसके नाम पर ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय नाम रखा गया। और ब्रह्मा ने अपना सारा राजकाज ओम राधे मम्मा के ऊपर सौंप दिया क्योंकि ब्रह्मा का तन पुरुष का था। माताओं के चार्ज में पुरुष को कैसे रखा जा सकता? इसलिए ओम राधे मम्मा को उस ब्राह्मणों की दुनिया का पालन करने वाला, माता के रूप में वर्ल्ड मदर का टाइटल दिया। क्योंकि ब्राह्मणों की दूसरी दुनिया रची गई थी। माता तो चाहिए। परन्तु कोई पूर्वजन्मों के हिसाब से मम्मा को कैन्सर हुआ गले का, और उन्होंने शरीर छोड़ दिया। बस। उसी समय से श्रीमत के बरखिलाफ डायरेक्शन दिये जाने लगे। जो भी मम्मा की जगह गद्दीनशीन बन बैठी। ब्रह्मवाक्य मुरली में भी बोला है कि माया की मत पर ढ़ेर के ढ़ेर चित्र बनाए। मम्मा जब तक जीवित रही, तो चार चित्र ही जो साक्षात्कार से तैयार हुए थे, जिनमें वर्ल्ड की हिस्ट्री, जॉग्राफी सारी समझाई जा सकती है। परन्तु मम्मा के शरीर छोड़ने के बाद माया की मत पर चलने वाले कोई मायानगरी में पैदा हो गए। और उऩ्होंने ढ़ेर के ढ़ेर चित्र बनाय दिए माया की मत पर।

तो जो नई दुनिया रचने वाला बाप आया हुआ है, ऊँचे ते ऊँचा भगवंत, जिसे आत्माओं का बाप कहा जाता है, उसकी आत्मा का ही नाम है शिव। उसको अपना शरीर नहीं है। इसलिए जन्म-मरण के चक्र से न्यारा है। त्रिकालदर्शी है। वो आत्माओं का बाप है। आत्माओं को पुरुष कहा जाता है। शरीर रूपी पुरी में शयन करने वाली। तो जो सभी आत्माओं का बाप है वो परमपुरष हुआ। परमपुरुष को नई दुनिया रचने और पालने के लिए इस दुनिया में आना पड़ता है। तो नई दुनिया बनाने के लिए, नई दुनिया की स्थापना करने के लिए, और उसकी पालना करने के लिए उस निराकार आत्माओं के निराकार बाप को क्या चाहिए? हँ? दुनिया में भी कोई मनुष्य होते हैं। अपना परिवार बनाने की इच्छा होती है, या कोई भी प्राणी मात्र होते हैं, तो अपना परिवार रचने के लिए किसकी दरकार होती है? हँ? माता चाहिए। दुनिया में जो परंपरा पड़ी है प्राणियों मात्र में, कि परिवार की रचना के लिए, पालना के लिए माता चाहिए पहले-पहले। उस माता को पिता अपनी सारी शक्ति सौंपता है। ऐडी से लेके चोटी की सारी पावर लगाता है। तो उस माता को कहा जाता है परमपुरुष की पराप्रकृति। प्र माने प्रकष्ठ, कृति माने रचना। तो पहली-पहली प्रकष्ठ रचना है। जिस भी पुरुष तन के द्वारा मुकर्रर रूप से या टेम्पररी रूप से वो परमपिता पार्ट बजाता है तो उस रथ का नाम रखता है काम लेने के आधार पर ब्रह्मा। जैसे दादा लेखराज के तन में प्रवेश किया तो नाम रखा ब्रह्मा। तो देखा जाता है कि शास्त्रों में भी है ब्रह्मा तो अनेकों के नाम हैं। इसलिए चार मुखी ब्रह्मा, पंचमुखी ब्रह्मा गाया हुआ है। तो जिस अव्वल नंबर ब्रह्मा में प्रवेश किया वो परमपुरुष की परमब्रह्म रूपी माता कही जाती है।


A night class dated 30.3.1967 was being narrated. The topic being discussed in the end of the middle portion of the second page was - When the unlimited Father of souls comes to establish the new world, then the destruction of the old world takes place definitely. And this destruction takes place only for the sake of the new world because if people of the degraded (tamopradhan) world remain in the new world, in the satopradhan world, then they will make the new world also tamopradhan. This is why the old world has to be destroyed for the new world. This is a world like house, the unlimited house. The destruction of the other limited houses in the world does take place. Limited things are destroyed in order to become new. So, this is also an old world. And this old world will definitely become new. So, the destruction of this old world will take place. This old world. Destruction of which old world will take place? Hm? A gesture was especially made towards which world by uttering the word 'this'? It has been written in the scriptures that Brahma created the world thrice. And when he did not like it, he destroyed it all the three times.

We Brahmins also observe that the world of Brahmins was created for the first time in the history of Brahmins and it was named Om Mandali. And when that was also not liked then it was destroyed. Then the second world of Brahmins was created. Brahmakumari Ishwariya Vishwavidyalaya [was established] through Brahma. And it was observed about that world also after Mama left her body that another Brahmakumari sat as a dharmaguru on the throne of Mama. And Baba also said - Among these stars, Kumarka is indulged the most (sabse jaasti khaatrii hoti hai). And it was also told that all those people who hold big positions in the world are indulged a lot by the people of the world. Those who are big personalities are very unrighteous. The activities of the smaller personalities remains incognito. That cannot be possible at all. The activities of the big personalities remains incognito.

So, a hint was given that the other Brahmakumari who occupied the seat of Mama and brought a title from America - World Mother. Arey! When the second world of Brahmins was created, the founder of that world was Brahma, wasn’t he, on whose name the Brahmakumari Ishwariya Visha Vidyalaya was coined? And Brahma entrusted his entire administration to Om Radhey Mama because Brahma's body was male. How could a male be placed in charge of the mothers? This is why Om Radhey Mama was given the title of the sustainer of that world of Brahmins in the form of a mother, the world Mother because the second world of Brahmins was created. A mother is required. But because of the karmic accounts of the past births Mama suffered from throat cancer and she left her body. That is all. From that time onwards directions began to be issued against the Shrimat. Whoever occupied the seat of Mama. It has been said in the Brahmavaakya Murli that numerous pictures were prepared on the opinion of Maya. As long as Mama was alive there were only four pictures prepared on the basis of visions through which the history, geography of the world can be explained. But after Mama left her body some people who followed Maya's opinion were born in the city of Maya. And they prepared numerous pictures on the opinion of Maya.

So, the Father who creates the new world, the highest on high God, who is called the Father of souls has come. The name of His soul itself is Shiv. He does not have a body of His own at all. This is why He is beyond the cycle of birth and death. He is Trikaaldarshii (knower of past, present and future). He is the Father of souls. Souls are called purush. The one who rests (shayan karne vaali) in the body like abode (puri). So, the one who is the Father of all the souls is the Parampurush. The Parampurush has to come to this world to create the new world and to sustain it. So, what does that incorporeal Father of the incorporeal souls require in order to create the new world, to establish the new world and to sustain that world? Hm? There are human beings in the world also. When there is a desire to create a family or in case of any living being, in order to create a family, who is required? Him? A mother is required. The tradition that has started in the world among the living beings that for the sake of creation of a family, for its sustenance a mother is required first of all. The Father entrusts all his powers to that mother. He invests his entire power from his heel to head. So, that mother is called the Paraprakriti of Parampurush. Pra means prakashth (special); kriti means creation. So, she is the first and foremost special creation. Through whichever male body that Supreme Father plays His part either in a permanent way or a temporary manner, He names that Chariot as Brahma on the basis of the task extracted [from it]. For example, when He entered in the body of Dada Lekhraj He named him Brahma. So, it is observed that it has been written in the scriptures also that Brahma is the name of many. This is why four headed Brahma, five-headed Brahma is well-known. So, the number one Brahma in whom He enters is called the Parambrahm like mother (consort) of the Parampurush.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 04 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba's Murli
VCD-2408-extracts-Bilingual

समय- 00.01-14.47
Time: 00.01-14.47


रात्रि क्लास चल रहा था – 30.3.1967. दूसरे पेज के अंत में बात चल रही थी –नई दुनिया में जाने के लिए नई दुनिया बनाने वाले की याद में रहना है। तो हम भी नई आत्मा बन जावेंगे। हम आत्मा नई हो जावें तो नया शरीर नई दुनिया में मिल जावेगा। उस समय सब चले जाएंगे वापस। क्योंकि बाप आकर इस दुःखी दुनिया से मुक्ति देते हैं। मुक्ति भी देते हैं और जीवनमुक्ति भी देते हैं। आत्मा पुरानी दुनिया के बंधन से मुक्त भी होती है और नई दुनिया में आकरके, नया चोला लेकरके, नए जीवन में रहते हुए जीवनमुक्ति भी लेती है। ये बिल्कुल ईज़ी समझने की बातें हैं। जैसे बुद्धि में है और उन बातों को मनुष्यों को जो सुनाते हैं, तो सुनाने वाले खुशी में होना चाहिए। योग में रहना चाहिए। योग में होना चाहिए। योग माने? याद में रहना चाहिए। लगाव में रहना चाहिए। जिसकी याद में रहेंगे, तो वो जैसे खुशनुमा होगा, तो हम भी खुशनुमा हो जाएंगे। योग में रहते-रहते हम खुश नहीं रह सकते हैं, तो कोई को हमारा ज्ञान बाण नहीं लगता है। नहीं तो हैं तो समझने की बातें हैं। बड़ी सहज बातें हैं।

और इस तरह हर्षितमुख रह करके औरों को समझाएंगे, तो और भी आएंगे, बहुत आएंगे बच्चे समझने के लिए। और ये दुनिया में जो भी मनुष्यमात्र हैं सब आखरी में आएंगे जरूर। राजाएं भी आएंगे, जिन राजाओं का बहुत मान-मर्तबा होता है। और ये साधु-संत भी बहुत आवेंगे, जिनका इस दुनिया में बहुत मान-मर्तबा है क्योंकि ये आवाज़ निकलेगा। कोई बड़ा होगा ना। बड़ा होगा। है नहीं। भले नहीं है। लेकिन बताया कोई बडा होगा। तो उसका आवाज़ जरूर निकलेगा। बड़ों-बड़ों का आवाज़ निकलता है ना। तो दुनिया में सारे ही सृष्टि चक्र में, 84 जन्मों के चक्र में इस दुनिया में बड़े ते बड़ा कौन है? कौन है?
(किसी ने कहा – शिव बाप।) शिव बाप है? इस दुनिया में? (किसी ने कुछ कहा।) 84 जन्मों में? 84 जन्मों में इस दुनिया में पार्ट बजाने वाला बड़े ते बड़ा शिव बाप है? शिव बाप तो असली ज्ञान सूर्य है। सूर्य इस दुनिया से सदैव डिटैच होकर रहता है या इस दुनिया में अटैच होकर रहता है? सदा डिटैच होकर रहता है। सूर्य के ऊपर कोई का अटैचमेन्ट नहीं होता। और सूर्य किसी के अटैचमेन्ट में नहीं आता। अगर कोई आता भी है, तो वो एक ही है जो सूर्य के अटैचमेन्ट में आता है।

जो सूर्य सदा ज्ञान प्रकाश का पुंज है। अखूट ज्ञान का भण्डार है। उस अखूट ज्ञान के भण्डार से, जो पूरा अखूट ज्ञान भण्डार का वर्सा लेता है, वो कौन है? सागर है या सूर्य का बच्चा सूर्य है?
(किसी ने कहा – सूर्य।) सूर्य? (किसी ने कहा – सागर।) हाँ। वो ज्ञान सागर है। भले सूर्य जब इस सृष्टि पर आता है ज्ञान सूर्य, तो उसे अपना टाइटिल देता है। सूर्य का बच्चा सूर्य। वास्तव में, जो सूर्य होगा वो सदाकाल का सूर्य होगा या कभी होगा, कभी नहीं होगा? तो जिसको आकर इस संसार में सूर्य का टाइटिल देता है, और बताता भी है, गीता में भी लिखा है, मैं जब आता हूँ, तो किसको ज्ञान देता हूँ? (सबने कहा – सूर्य।) सूर्य को ज्ञान देता हूँ। माना इस मनुष्य सृष्टि में इन धरती के सितारों के बीच में कोई सूर्य के मानिन्द पार्ट बजाने वाला है। जिसको सूर्य कहा जाता है। ये दुनिया उसे सूर्य मान लेती है। क्योंकि वो सदा ज्ञान में रत रहता है। ज्ञान प्रकाश देता है। इसलिए वो असली ज्ञान सूर्य जिसमें आता है, वो भारत कहा जाता है। नारायण कहा जाता है।

भा माने ज्ञान की रोशनी। रत माने लगा रहने वाला। सदैव ज्ञान की रोशनी में लगा रहने वाला है। इस सृष्टि रूपी रंगमंच पर आलराउण्ड पार्ट भी बजाता है, परन्तु ज्ञान की रोशनी में ही रहने वाला है। जब अज्ञानी बनता है तो दुःखी होता है। और बोला है, ब्रह्मवाक्य मुरली में बोला है – कोई बच्चे ऐसे भी हैं, कोई-कोई जो 82-83 जन्म में भी सुख में रहते हैं। एक जनम दुःख में रहते हैं। जैसे अंशमात्र। ऐसे तो सारे ही सूर्यवंशी बच्चे इस मनुष्य सृष्टि रूपी रंगमंच पर तीन हिस्सा सुख भोगते हैं और एक हिस्सा दुःख भोगते हैं। बाकि जो और-और धरमवंशी हैं, वो आधा सुख भोगते हैं और आधा दुःख भोगते हैं।

तो बताया कि तुम सूर्यवंशी बच्चों को छोड़करके; वंश तो कोई साकार बाप से ही शुरू होता है ना। तो वो साकार सो निराकार गाया हुआ है। इस सृष्टि रूपी रंगमंच पर साकार पार्टधारी तो है, आदि से अंत तक साकार पार्टधारी। शरीर से पार्टधारी है। परन्तु एक टाइम ऐसा भी आता है जबकि वो साकारी होते हुए भी निराकारी स्टेज धारण कर लेता है। किसके संग के रंग से? जो निराकार आत्माओं का निराकार बाप है, सदा निराकार है, उस निराकार की निरंतर याद की प्रैक्टिस से साकार होते हुए भी? निराकारी बन जाता है।


A night class dated 30.3.1967 was being narrated. The topic being discussed at the end of the second page was - We have to be in the remembrance of the maker of the new world in order to go to the new world. Then we will also become a new soul. When we souls become new, we will get a new body in the new world. At that time all will go back because the Father comes and gives liberation from this sorrowful world. He gives mukti (liberation) as well as jeevanmukti (liberation in life). The soul becomes free from the chains of the old world and also obtains jeevanmukti after coming to the new world, by assuming a new body, while leading the new life. These are very easy topics to understand. Just as it is in the intellect and those who narrate those topics to people, those narrators should also be in happiness. They should be in Yoga. They should be in Yoga. What is meant by Yoga? You should be in remembrance. You should remain devoted. The one whom you remember, so the way that one is joyful, we will also be joyful. If we cannot remain happy while being in Yoga, then the arrow of our knowledge does not hit anyone. Otherwise, these are topics to understand. These are very easy topics.

And children, if you explain to others while being joyful, then others will also come, many will come to understand. And all the human beings in this world will definitely come in the end. The kings, who command a lot of respect and hold positions, will also come. And these sages and saints, who command a lot of respect and position in the world, will also come in large numbers because this voice would spread. There must be someone big, would there not be? There would be someone big. There is not [at present]. Although there is not, but it was told that if there is someone big, then his voice would definitely spread. The voice of big ones spreads, doesn't it? So, in the world, in the entire world cycle, in the cycle of 84 births, who is the biggest one in this world? Who is it?
(Someone said - Father Shiv.) Is it Father Shiv? In this world? (Someone said something.) In 84 births? Is Father Shiv the biggest one to play His part in this world in 84 births? Father Shiv is the true Sun of Knowledge. Does the Sun remain detached from this world forever or does He remain attached in this world? He remains detached forever. Nobody has attachment for the Sun. and the Sun does not develop any attachment for anyone. Even if anyone develops, there is only one who develops attachment for the Sun.

The Sun who is forever a source (punj) of light of knowledge. He is an inexhaustible stockhouse of knowledge. Who is the one who obtains the entire inheritance of inexhaustible stockhouse of knowledge? Is he the ocean or the Sun, the child of the Sun?
(Someone said - The Sun.) The Sun? (Someone said - The ocean.) Yes. He is an ocean of knowledge. Although when the Sun, the Sun of Knowledge comes in this world, then He gives him His title. The child of the Sun is Sun. Actually, the one who is the Sun, will he be the Sun forever or will he be sometimes and will he not be sometimes? So, the one whom He comes and gives the title of the Sun in this world and also tells; it has also been written in the Gita that when I come, then whom do I give knowledge? (Everyone said - The Sun.) I give knowledge to the Sun. It means that there is someone who plays a part like the Sun among these stars of the Earth who is called the Sun. This world considers him to be the Sun because He always remains busy in the knowledge. He gives the light of knowledge. This is why the one in whom the true Sun of Knowledge comes is called Bhaarat, he is called Narayan.

'Bha' means the light of knowledge. 'Rat' means the one who remains engaged. The one who remains engaged in the light of knowledge forever. He also plays an allround part on this world stage, but He remains only in the light of knowledge. He becomes sorrowful when he becomes ignorant. And it has been said; it has been said in the Brahmvaakya Murli - There are some such children also who remain happy for 82-83 births. They remain sorrowful in one birth. It is like a trace. In a way all the Suryavanshi children experience happiness for three-fourth part on this human world stage and experience sorrows for one fourth part. The descendants of other religions experience happiness for half the time and experience sorrows for half the time.

So, it was told that except you Suryavanshi children, any vansh (clan) starts with a corporeal Father only, does it not? So, that corporeal-cum-incorporeal is praised. He is indeed a corporeal actor on this world stage, a corporeal actor from the beginning to the end. He is an actor through the body. But one such time also comes when he assumes an incorporeal stage despite being corporeal. Through the colour of whose company? He becomes incorporeal despite being corporeal through the practice of continuous remembrance of the incorporeal Father of the incorporeal souls, who is forever incorporeal.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 07 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba's Murli
VCD-2409-extracts-Bilingual
Part-1

समय- 00.01-20.35
Time: 00.01-20.35


आज की अव्यक्त वाणी है – 31.12.2017. अभी जो भी बैठे हैं परिवार, एक ही परिवार है, सारे संसार में। कलियुग के अंत में जब सुप्रीम सोल बाप आते हैं तो दुनिया में कितने धर्मपिताएं और उनके कितने परिवार हो जाते हैं। मूल रूप में देखें तो दस परिवार। दस धरम के दस परिवार। लेकिन आज अर्थात् 31 दिसम्बर, 2017 को एक ही परिवार है जहाँ बच्चे बैठे हुए हैं। कौनसा परिवार? नई सृष्टि बनती है तो कौनसा परिवार तैयार होता है पहले-पहले? जैसे स्थूल दुनिया है, जड़त्वमयी सूरज, चाँद, सितारों की दुनिया है, धरणी है, और भी नौ ग्रह हैं, तो सबके बीच में एक सूर्य ही सर्वोपरि है। और सूर्य का परिवार सारा संसार हुआ। परन्तु वो तो जड़ सूर्य है, और यहाँ है बेहद की बात। ज्ञान सूर्य है, चैतन्य है। चैतन्य आत्माओं का परमपिता है। तो उस पिता के द्वारा इस सृष्टि रूपी रंगमंच पर आने के बाद जो पहला-पहला एक ही परिवार तैयार होता है, वो कौनसा परिवार हुआ? सूर्यवंशी परिवार।

तो एक ही परिवार में सभी बैठे हैं। बैठे हैं! माने वर्तमान की बात है, जो एक ही परिवार है वर्तमान में। ऐसा परिवार कभी सुना था कि सूर्यवंशी परिवार भी होता है? देखा था? जो नई सृष्टि के आदि में होता है। तो अभी तो कलियुग का अंत है। यहाँ तो देखने की बात ही नहीं। और है भी सूर्यवंशी परिवार वाले लोग इस दुनिया में तो प्रायःलोप हैं। क्योंकि जो सत्य है – कहा जाता है सत्यम् शिवम् सुन्दरम्। उसका परिवार भी सत्य ही होगा। कैसा होगा? सत्य का परिवार भी सत्य ही होगा। सारे संसार के लिए कल्याणकारी होगा। और सुन्दर भी होगा। तो ऐसा परिवार किसी ने न सुना, न कोई देखा। ऐसा अलौकिक परिवार अभी ही देखा। इस सृष्टि रूपी रंगमंच पर न पास्ट में देखा न कभी सुना। अभी ही देखा। और अभी ही भविष्य के लिए तैयार। हिस्ट्री में और कभी पहले न तैयार हुआ, चाहे पौराणिक हिस्ट्री हो, चाहे मनुष्यों के द्वारा बनाई हुई हिस्ट्री हो। ऐसा सूर्यवंशियों का परिवार कभी किसी ने न सुना, न देखा। और ये परिवार भविष्य के लिए तैयार हो रहा है। माने आने वाली जो नई दुनिया है भविष्य की, अगली चतुर्युगी, या अगले कल्प में, जो दुनिया आने वाली है, वो भविष्य के लिए तैयार हो रहा है।

तो जो भी तैयार होने वाले हैं अलौकिक परिवार में, वो आज देखने में तो आ रहे हैं, सुनने में भी कोई-कोई के आ रहे हैं। अभी और आज की ही बात है। और अभी जब ये वाणी चल रही है, माना आज, जब ये वाणी चल रही है, उस वाणी में ही बताया, अगले वर्ष की बात। उस अगले वर्ष में नया साल, नया वर्ष माने 2018 कितना बढ़िया होगा। माने आज है 31 दिसम्बर, 2017. फिर कल से आरम्भ होगा नया वर्ष, नया साल। कितना बढ़िया। क्यों? 17 साल तक जितने वर्ष हुए ब्राह्मणों की संगमयुगी दुनिया में वो उतने बढ़िया नहीं? इसलिए बढ़िया नहीं कि माउंट आबू से चली शिव सुप्रीम सोल बाप की, ब्रह्मा द्वारा चली मुरली कहो, ब्रह्मवाक्य कहो, वेदवाक्य कहो, उसमें बताय दिया कि तुम सूर्यवंशी बच्चों के लिए तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने का चालीस वर्ष से पचास वर्ष का टाइम है। माना तुम बच्चे जो ब्राह्मणों की दुनिया में सूर्यवंशी के रूप में प्रत्यक्ष होने लगते हो, जैसे सूर्य अखण्ड प्रकाश का भण्डार है, ऐसे ही बच्चे भी उस ज्ञान सूर्य के अखण्ड ज्ञान प्रकाश के भण्डार हैं। क्योंकि सब सितारों में, ये धरती के चैतन्य सितारे हैं ना, उन चैतन्य सितारों में एक-एक दुनिया बसी हुई है। तो अपनी-अपनी दुनिया के अखण्ड ज्ञान प्रकाश के भण्डार हैं। और वो भण्डार नंबरवार अब नए वर्ष में अर्थात् 2018 में प्रत्यक्ष होने वाले हैं। पहले तो बढ़िया से बढ़िया बच्चों का संगठन तैयार होगा ना।

तो बताया ये वर्ष कितना बढ़िया है। आप सब भी भविष्य के परिवार में पात्र तैयार दिखाई दे रहे हैं। भी क्यों लगा दिया? इसलिए लगा दिया कि जैसे सूर्यवंशियों का परिवार है, ऐसे ही चन्द्रवंशियों का भी परिवार है। चन्द्रमा जब संपूर्ण होता है तो 16 कला सम्पूर्ण होते हैं। और नई दुनिया एक्जैक्ट तैयार होना शुरु होगी माना ब्रॉड ड्रामा का पहला सीन शुरू होगा तो ब्राह्मण बच्चे सो देवता बनके 16 कला संपूर्ण ही प्रत्यक्ष होंगे। वो नंबरवार 16 कला संपूर्ण बच्चे, चन्द्रवंशी परिवार हैं क्योंकि उस परिवार में पहला-पहला प्रिन्स जो प्रत्यक्ष होगा वो है कृष्ण। यहाँ से भक्तिमार्ग में इस सृष्टि की यादगार बनी हुई है कि सतयुग में 16 कला सम्पूर्ण होते हैं, फिर त्रेता में चौदह, फिर घटती कलाएं होती जाती हैं। तो वो 16 कला सम्पूर्ण क्यों? 17 क्यों नहीं? ज्यादा क्यों नहीं? कम क्यों नहीं? क्योंकि जो कलातीत सूर्य है उसकी संसार में सबसे शीतल स्वभाव वाला, चन्द्रमा ही है, जिसे कहते हैं – कृष्णचन्द्र और कहते हैं हे कृष्ण नारायण वासुदेव। माने जो कृष्ण है वो बच्चा है, बड़ा होता है तो नारायण बनता है। वसुदेव की औलाद वासुदेव बनता है।

वसु धन-संपत्ति को कहा जाता है। अर्थात् अखूट धन संपत्ति का वर्सा किसके पास है? अखूट धन-संपत्ति ज्ञान सूर्य के पास ही है। इस संसार में जो प्रैक्टिकल में ज्ञान सूर्य बनकर प्रत्यक्ष होता है, उसका बच्चा है। बहुत श्रेष्ठ बच्चा है शान्त स्वभाव का, अत्यंत सहनशील। तो वो बच्चा, 16 कला सम्पूर्ण कहा जाता है। फिर तो सृष्टि में सुख भोगते-भोगते कलाएं कम होती ही हैं। तो जब कलाएं कम होती चली जाती हैं, तो जो पीढ़ियाँ तैयार होंगी नई सृष्टि में एक के बाद एक, एक के बाद एक, उनकी कलाएं तो घटती जाएंगी ना। ऐसे तो नहीं है कि हर युग में 16 कला संपूर्ण ही बने रहेंगे। सुख भोगने से आत्मा की शक्ति क्षीण होती है। तो पीढ़ी दर पीढ़ी चाहे सतयुग हो, चाहे त्रेता हो, चाहे द्वापर, चाहे कलियुग हो, जो भी नई-नई पीढ़ियों में आते जाएंगे, उन आत्माओं की कलाएं कम ही होती जाएंगी। माना रोशनी ज्ञान की क्षीण होती जाती है। तो साबित हुआ कि सूर्य में जितनी रोशनी होती है उतनी रोशनी और किसी ग्रहों में नहीं हो सकती, कोई भी ग्रह परिवार में नहीं हो सकती। तो सूर्य के डायरेक्ट बच्चे जो बनते हैं उस परिवार की यहाँ बात हो रही है। न चन्द्रवंशियों की बात हो रही है, न इस्लामवंशियों, न बौद्धीवंशियों, न क्रिश्चियनवंशियों की, न उनके सहयोगी वंशियों की बात हो रही है।


Today's Avyakt Vani is dated 31.12.2017. The family that is sitting now; there is only one family in the entire world. In the end of the Iron Age, when the Supreme Soul Father comes, then there are so many founders of religions and their families grow so big. If we observe basically there are ten families. Ten families of ten religions. But today, i.e. on 31st December, 2017 there is only one family where the children are sitting. Which family? When a new world is established, then which family gets ready first of all? Just as there is a physical family, there is a world of inert Sun, Moon, stars; there is the Earth and there are the nine planets as well; so, the Sun alone is highest among all these. And the entire world is the family of the Sun. But that is a non-living Sun, and here it is an unlimited topic. There is the Sun of Knowledge; He is living. There is the Supreme Father of the living souls. So, through that Father, after coming to this world stage, which is the first and foremost and only family that is set-up? The Suryavanshi (Sun dynasty) family.

So, everyone is sitting in the same family. Sitting! It means that it is a topic of the present time; the one family which is in present time. Had you ever heard that there is a Suryavanshi family as well? Had you seen? It is present in the beginning of the world. So, now it is the end of the Iron Age. Here it is not about seeing at all. And the members of the Suryavanshi family have almost disappeared from this world because as regards the truth - it is said - Satyam, Shivam, Sundaram. His family will also be true only. How will it be? The family of truth will also be truth only. It will be benevolent for the entire world. And it will be beautiful as well. So, neither has anyone heard, nor seen such family. Such alokik family was seen now only. It was neither seen nor heard in the past on this world stage. It was seen now only. And now itself it is ready for the future. It did not get ready in any other time in the history, be it the mythological history, be it the history prepared by the human beings. Such family of the Suryavanshis was neither ever heard nor seen [in the history]. And this family is getting ready for the future. It means that the new world that is going to arrive in future, during the next four Ages or in the next Kalpa, the world that is going to arrive is going to get ready for the future.

So, all those who are going to get ready in the alokik family are today visible and are also being heard about by some. It is about now and today only. And now when this Vani is being narrated, i.e. today, when this Vani is being narrated, it was told in that Vani itself, a topic of the next year. In that next year, then new year, i.e. 2018 will be so nice. It means that today is 31st December, 2017. Then, tomorrow onwards, the new year will start. So nice. Why? For 17 years all the years that passed in the Confluence Age world of Brahmins, were they not nice to that extent? They were not so nice because it was told in the Murli, call it Brahmvaakya, call it Vedvaakya narrated by the Supreme Soul Father Shiv through Brahma from Mount Abu that there is a time of forty to fifty years for you Suryavanshi children to become satopradhan from tamopradhan. It means that you children, who start getting revealed in the form of Suryavanshis in the world of Brahmins, just as the Sun is an inexhaustible store house of light, similarly, children of that Sun of Knowledge are also inexhaustible store houses of light of knowledge because among all the stars; these are the living stars of the Earth, aren't they? There is a world in each of those living stars. So, they are inexhaustible store houses of light of knowledge for their individual worlds. And those storehouses are going to be revealed numberwise in the new year now, i.e. in 2018. Initially, the gathering of the best children will get ready, will it not be?

So, it was told that this year is so nice. All of you also appear to be qualified and ready for the future family. Why was 'also' added? It was added because just as there is a family of the Suryavanshis; similarly, there is a family of the Chandravanshis also. When the Moon (Chandrama) becomes complete, then it is perfect in 16 celestial degrees. And when the exact new world starts getting ready, i.e. when the first scene of the broad drama starts getting ready, then the Brahmin children will be revealed as deities perfect in 16 celestial degrees. Those numberwise children perfect in 16 celestial degrees are the Chandravanshi family because the first and foremost Prince who is revealed in that family is Krishna. From here, on the path of Bhakti a memorial of this world is built that there are persons perfect in 16 celestial degrees in the Golden Age, then fourteen in the Silver Age, then the celestial degrees keep on decreasing. So, why are they perfect in 16 celestial degrees? Why not in 17 celestial degrees? Why not more? Why not less? It is because the Sun beyond the celestial degrees (kalaateet surya); when compared to him the one with the coolest nature is the Moon only who is called Krishnachandra and it is said - He Krishna Narayan Vasudev. It means that Krishna is a child and when he grows up, then he becomes Narayan. He becomes Vaasudev the child of Vasudev.

Wealth and property is called Vasu; i.e. who possesses the inheritance of inexhaustible wealth and property? The Sun of Knowledge alone possesses inexhaustible wealth and property. He is the child of the one who is revealed as the Sun of Knowledge in this world in practical. He is a very righteous child with a peaceful nature, very tolerant. So, that child is called the one who is perfect in 16 celestial degrees. Then the celestial degrees do decrease while experiencing happiness in the world. So, when the celestial degrees keep on decreasing, then the generations that get ready in the new world one after the other, one after the other, their celestial degrees will definitely go on decreasing, will they not? It is not as if they will remain perfect in 16 celestial degrees in every Age. The power of the world decreases by enjoying pleasures. So, generation by generation, be it the Golden Age, be it the Silver Age, be it the Copper Age, be it the Iron Age, all those who keep on coming in the newer generations, the celestial degrees of those souls will keep on decreasing, i.e. the light of knowledge will keep on decreasing. So, it is proved that there cannot be as much light in the planets and in any family of planets as is there in the Sun. So, the topic of that family of those who become the direct children of the Sun is being discussed here. Neither the topic of the Chandravanshis is being discussed, nor the topic of the Islamvanshis, the Bauddhivanshis, the Christianvanshis or their helper descendants.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 08 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba's Murli
VCD-2409-extracts-Bilingual
Part-2

समय- 20.36-40.40
Time: 20.36-40.40


बापदादा बैठे हुए जिन बच्चों को देख रहे हैं वो एक ही सूर्यवंशी परिवार है जो भविष्य नई दुनिया के लिए पात्र दिखाई दे रहे हैं। उनके मुकाबले तो भविष्य नई दुनिया में जो भी नई-नई पीढ़ियाँ आवेंगी एक के बाद एक करके, वो तो कुछ न कुछ गिरती हुई कलाओं वाली कुपात्र ही कही जावेंगी क्योंकि कलाएं गिर जाती हैं, रोशनी क्षीण हो जाती है जैसे चन्द्रमा की रोशनी क्षीण होती जाती है।

कोई ने पूछा - नए वर्ष का क्या नाम दें? पूछने वाले का नाम दिया है निर्वैर भाई। निः माने नहीं। वैर माने बैर। एक होता है हद का निर्वैर और एक होता है बेहद का निर्वैर। तो वाणी जब नए वर्ष के लिए इशारा दे रही है कि कितना वर्ष, नया वर्ष है! माने ब्राह्मणों की इस संगमयुगी दुनिया में इतना बढ़िया नया वर्ष जैसा अब 2018 में आ रहा है – बाप की प्रत्यक्षता वर्ष। तो ऐसा बढ़िया वर्ष का नाम क्या दें? बड़ा अच्छा प्रश्न है। और पूछने वाला बेहद में, बेहद का बच्चा ही पूछेगा। हद का बच्चा हद में समझेगा।

तो निर्वैर भाई ने पूछा – ऐसा दुनिया में कौनसा बच्चा हो सकता है जिसका दुनिया में किसी से बैर न हो। शास्त्रों में तो प्रसिद्ध है। जैसे ऊँचे ते ऊँचे निराकार शिव के तीन बच्चे हैं, तीन देवताएं – त्रिमूर्ति कहा जाता है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। तो तीनों बच्चे नंबरवार दिखाए जाते हैं। मनन-चिंतन-मंथन के हिसाब से भी। और बोलने में भी कहा जाता है – देव-देव महादेव। ब्रह्मा देव, विष्णु देव और इनसे भी ऊँचा महादेव। ब्रह्मा को तो महादेव नहीं कहा, विष्णु को नहीं कहा। ब्रह्मा के बच्चे भी ब्रह्मसमाजी हैं। विष्णु के बच्चे भी वैष्णव संप्रदायी हैं। लेकिन सबसे ऊँचा परिवार है – शैव परिवार। शिव के डायरेक्ट बच्चे। तो ऊँचे के संकल्प और वायब्रेशन भी ऊँचे होंगे ना। ब्रह्मा को वो ही मानते हैं जो ब्रह्मा के बच्चे ब्राह्मण होते हैं। जब ब्राह्मणों की कुरी नंबरवार नीची-ऊँची है तो मेन्टेलिटी भी ऊँची-नीची होगी।

तो अव्वल नंबर के जो सूर्यवंशी ब्राह्मण हैं, तो सूर्यवंशी ब्राह्मण की विशेषता है कि जैसा बाप वैसे बच्चे। बाप विश्व का पिता, विश्व का कल्याणकारी, बाप तो होता ही है हम बच्चों का कल्याणकारी। चाहे जैसे बच्चे हों सबका कल्याण चाहता है। तो बच्चे भी जो सूर्यवंशी हैं वो सारे विश्व के कल्याणकारी। किसी एक देश के कल्याणकारी नहीं। चाहे सबसे नीची दुनिया के पाताल लोकवासी राक्षस, दैत्य ही क्यों न हों, उनके भी कल्याणकारी। पृथ्वी पर रहने वाले मनुष्यों के भी कल्याणकारी। और इस पृथ्वी पर जब नई दुनिया होती है सूर्यवंशियों और चंद्रवंशियों की सतयुग त्रेता में, तो उनके भी कल्याणकारी। माना किसी से वैर नहीं। क्योंकि सूर्यवंशियों के ज्ञानसूर्य बाप का किसी से वैर नहीं। शास्त्रों में गायन है। विष्णु सिर्फ देवताओं का पक्षधर है। और शिव-शंकर भोलेनाथ? जो साकार और निराकार का मेल कहे जाते हैं उनको देवता भी मानते हैं, दैत्य भी मानते हैं, असुर भी मानते हैं। सारी दुनिया के सब आत्माओं का उनसे प्यार है।

तो उस ज्ञान सूर्य का जो भी मुख्य बच्चा है उसका बेहद में नाम है निर्वैर भाई। आत्मा-आत्मा भाई-भाई तो सब हैं। परन्तु जो भी आत्माएँ हैं जन्म-मरण के चक्र में आने वाली, उनमें अव्वल नंबर हीरो पार्टधारी कोई तो होगी। तो उसने पूछा – नए वर्ष का नाम क्या दें जो स्व की उन्नति हो? और नए वर्ष का सेवा के लिए नाम क्या दें जो उस सेवा के प्रति हमारा सारा वर्ष ध्यान रहे? इस नए वर्ष में हमें क्या करना है? क्योंकि नया वर्ष है तो नया ही दिखाना है। तो, जो भी दिखाएं जन्म-जन्मांतर हमारी प्रालब्ध इसकी साथ रहे जन्म-जन्मांतर। तो बोला – नए वर्ष को समाप्ति वर्ष नाम दो। किस बात की समाप्ति की शुरुआत? पहले ही बताया था – तुम बच्चों के लिए नंबरवार तमोप्रधान दुनिया की समाप्ति की शुरुआत होनी है। तो समाप्ति वर्ष हुआ ना। और ये सबसे श्रेष्ठ वर्ष है। क्या? इसके मुकाबले और जो भी वर्ष हैं संगमयुग के वो उतने? उतने श्रेष्ठ नहीं हैं। क्यों? हँ? क्योंकि ज्ञान सूर्य शिव है। इस दुनिया का चैतन्य ज्ञान सूर्य। उसकी हम जयंती भी मनाते हैं, जन्मदिवस मनाते हैं। महाशिवरात्रि के रूप में।

तो जैसे दुनिया में देखते हैं कि जब माँ के गर्भ में निर्जीव गर्भपिंड तैयार होता है, सारी इन्द्रियां तैयार हो जाती हैं शरीर में, तो आत्मा प्रवेश करती है। वो आत्मा पहले अनुभव में आती है? हँ? ड्रामा में कुमार भी हैं, अधर कुमार भी हैं, कुमारियाँ भी हैं, अधर कुमारियाँ भी हैं। तो पहले-पहले किसको अनुभव में आवेगा कि हाँ, शिव ज्ञान सूर्य अब इस वर्ष में प्रत्यक्षता रूपी जन्म ले रहा है? किसको पता चलेगा? बापदादा किसको आगे रखते हैं? कन्याओं-माताओं को आगे रखते हैं। कन्याओं-माताओं के हाथ में सारी चाबी देते हैं। तो कन्याओं को पहले पता चलेगा या माताओं को पहले पता चलेगा? कोई कहेगा माताओं को पहले पता चलेगा। माताओं के गर्भ में तो बच्चा आएगा ना। माताओं के लिए तो शिव बालक है। तो उन्हीं को पहले पता चलेगा। परन्तु ब्राह्मणों की दुनिया में कन्याएं भी तो हैं। कि सिर्फ माताएं हैं? कन्याएं भी हैं, माताएं भी हैं। लेकिन एक बात बता दी, इशारा दे दिया। कन्याओं को माता बना देता हूँ और माताओं को? कन्या बना देता हूँ। कन्याओं को माता कैसे बना देता हूँ? कन्याएं जब सरेन्डर होती हैं और सर्व संबंध बाप के साथ जोड़ती हैं तो माता भी बनेगी कि नहीं? हँ? बनती है। तो माता बन गई। और माताएं? अपवित्र थी, ब्राह्मण बन गई तो नंबरवार जितना पवित्रता को धारण करेंगी मनसा, वाचा, कर्मणा में तो उतनी ही पवित्र कन्या बनेगी। कन्या तो पवित्र होती है ना।

तो बोला पहले पहचान किसको होगी कि इस साकार दुनिया में वो ज्ञान सूर्य शिव जो निराकार है वो जन्म ले चुका माताओं के बुद्धि-रूपी गर्भ पेट में? बुद्धि-रूपी पेट होता है ना। तो माताओं को चुर्र-पुर्र का अनुभव होता है। तो पहले कन्याओं को अनुभव होगा या माताओं को अनुभव होगा? ज्यादा गहराई से कौन पकड़ेंगे? हँ? अच्छा, नई दुनिया में माताएं और कन्याएं, कोई मुख्य माता भी होगी या नहीं होगी? कन्याओं में भी कोई मुख्य कन्या होगी। यादगार भी है। अधर कुमारी। कुँआरी कन्या। यादगार मन्दिर बने हैं ना। कन्याकुमारी का मंदिर नहीं है? है। तो पवित्र बुद्धि ज्यादा किसकी होती है? माताओं की ज्यादा पवित्र बुद्धि कहें जो पहले माताएं थीं? बाद में उनको टाइटल मिला क्योंकि बाप मिल गया, पवित्र रहने लगीं। कन्या की तरह पवित्र हो गई इस नए जन्म में। लेकिन शरीर भी तो साथ है ना। लेकिन कन्याओं का शरीर भी पवित्र है और आत्मा भी उस हिसाब से, पवित्रता के हिसाब से पवित्र बुद्धि है।

इसका प्रूफ क्या है कि कन्याओं की ही बुद्धि ज्यादा पवित्र है, प्रूफ है? कुछ होगा कि नहीं? प्रूफ है कि एवर प्योर बाप जब इस सृष्टि पर आते हैं तो कन्याएं ज्यादा सरेन्डर होती हैं या माताएँ, अधर कुमार या कुमार ज्यादा सरेन्डर होते हैं? किसकी बुद्धि ज्यादा पकड़ती है? ज्ञान सूर्य के ज्ञान को ज्यादा कौन पकड़ता है? प्रैक्टिकल जीवन में पकड़ता है। तन से, मन से, धन से, समय-संपर्क सारा स्वाहा करते हैं। तो देखने में आता है। प्रैक्टिकल बातें हैं। कन्याएं ज्यादा-ज्यादा तादाद में समर्पित हो जाती हैं। और ये बात ब्रह्म वाक्य में भी बोली है कि इस दुनिया के बड़े-बड़े विद्वान, पंडित, आचार्य, बड़े-बड़े कहे जाने वाले लोग, जब भगवान आते हैं तो महामूर्ख बन जाते हैं क्योंकि बाप को नहीं पहचानते। और कन्याएं पहचान लेती हैं। तन से, धन से, मन से पहचान लेती हैं, जान लेती हैं कि भगवान बाप आया हुआ है। सारी दुनिया हिला-हिलाकरके तंग हो जाती है, परेशान हो जाती है लेकिन उनका बुद्धि रूपी पाँव अंगद की तरह डटा रहता है, अटल रहता है, कोई हिलाय नहीं सकता।


The children whom BapDada is observing belong only to one Suryavanshi family who appear to be eligible for the future new world. When compared to them the newer generations which will come one after the other in the future new world will be called unworthy to some extent or the other with decreasing celestial degrees; their light diminishes just as the light of the Moon diminishes.

Someone asked - Which name should we assign to the new year? The name of the questioner is given as Nirwair Bhai. Nih means no. Vair means enemity. One is a Nirwair in a limited sense and one is a Nirwair in an unlimited sense. So, when the Vani is giving hints for the new year that it is such a new year! It means that such a nice new year which is going to arrive now in 2018 in this Confluence Age world of Brahmins - the year of revelation of the Father. So, what is the name that we should assign to such a nice year? It is a very good question. And the unlimited questioner will be an unlimited child only. A limited child will understand in a limited sense.

So, brother Nirwair asked - can there be a child in the world who does not have enmity with anyone in the world? It is famous in the scriptures. For example, there are three children, three deities of the highest on high incorporeal Shiv; He is called Trimurti. Brahma, Vishnu, Shankar. So, all the three children are shown numberwise from the viewpoint of thinking and churning as well. And it is also said - Dev Dev Mahadev. Brahma, the deity, Vishnu, the deity and higher than them is Mahadev. Brahma was not called Mahadev. Vishnu was not called so. Brahma's children are also Brahmsamajis. Vishnu's children are also Vaishnavites. But the highest family is Shaivite family. The direct children of Shiv. So, the thoughts and vibrations of the highest ones will also be high, will they not be? Only those who are Brahma's children, the Brahmins accept Brahma. When the categories of Brahmins is low and up, then the mentality will also be up and low.

So, those who are number one Suryavanshi Brahmins, then the specialty of the Suryavanshi Brahmins is that as is the Father so are the children. When the Father is Father of the world, world benefactor; the Father of us children is anyways benevolent. The children may be of any kind, but He wants to benefit everyone. So, the Suryavanshi children also are benevolent for the entire world. Not just benevolent for one country. Even if someone is a demon, devil who reside in the nether world (paataal lok) in the lower world, they are benevolent for them as well. They are benevolent for the human beings living on the Earth as well. And when there is a new world of the Suryavanshis and the Chandravanshis in the Golden Age and Silver Age on this Earth, then they are benevolent for them as well. It means that they do not have enmity with anyone because the Father, the Sun of Knowledge of the Suryavanshis does not have enmity with anyone. It is praised in the scriptures. Vishnu sides only with the deities. And Shiv-Shankar Bholeynath? The one who is called the combination of the corporeal and the incorporeal is accepted by the deities as well as the demons, devils. All the souls of the entire world love Him.

So, the unlimited name of the main child of that Sun of Knowledge is Nirwair Bhai. All the souls are brothers. But all the souls which pass through the cycle of birth and death, there must be a number one hero actor. So, he asked - Which name should we assign to the new year so that we could achieve self progress? And which name should we assign to the new year for service so that we remain attentive to that service throughout the year? What do we have to do in this year? It is because when it is a new year, then we have to show novelty only. So, whatever we display, our fruits should remain with us birth by birth. So, it was told - Name the new year as the year of completion (samaapti varsh). Beginning of the end of which topic? It was told earlier itself - The tamopradhan world's end is to begin numberwise for you children. So, it is a year of completion, is not it? And this is the most righteous year. What? When compared to this, all other years of the Confluence Age are not so righteous. Why? Hm? It is because Shiv is the Sun of Knowledge. The living Sun of Knowledge of this world. We celebrate His Jayanti, birthday in the form of Mahashivratri.

So, just as you see in the world that when an inert foetus gets ready in a mother's womb, when all the organs develop in the body, then the soul enters. Do you feel that soul initially? Hm? There are Kumars as well as Adharkumars, Kumaris as well as Adharkumaris in the drama. So, first of all who will experience that yes, the Sun of Knowledge Shiv is going to get revelation like birth in this year? Who will know? Whom does BapDada keep ahead? He keeps the virgins and mothers ahead. He gives the entire keys in the hands of the virgins and mothers. So, will the virgins get to know first or will the mothers get to know first? Someone will say that the mothers will get to know first. The child will come in the womb of the mothers, will he not? For the mothers Shiv is a child. So, they alone will get to know first. But in the world of Brahmins there are virgins as well. Or are there just mothers? There are virgins as well as mothers. But one topic has been mentioned, a hint was given. I transform the virgins to mothers and the mothers to virgins. How do I transform the virgins to mothers? When the virgins surrender and establish all the relationships with the Father, then will they become a mother also or not? Hm? They become. So, they became mothers. And mothers? They were impure; when they became Brahmins, then the extent to which they inculcate purity numberwise through their mind, words and actions, the purer virgins they will become. A virgin is pure, is not she?

So, it was asked - Who will realize first that that Sun of Knowledge Shiv, who is incorporeal has been born in the intellect like womb of mothers? There is intellect like womb, is not it? So, the mothers feel the movement. So, will the virgins experience first or will the mothers experience first? Who will catch more deeply? Hm? Achcha, there will be mothers and virgins in the new world; will there be a main mother also or not? There will be a main virgin among the virgins as well. There is a memorial as well. Adhar Kumari (half spinster or married woman). Kunwaari kanya (virgin). Memorial temples are also built, aren't they? is not there a temple of Kanyakumari? There is. So, whose intellect is purer? Should the intellect of the mothers, who were earlier mothers be called purer intellect? They got the title later on because they found the Father; they started leading a pure life. They became pure like a virgin in this new birth. But the body is also there, is not it? But the body of the virgins is also pure and the soul is also a pure intellect from that account, from the account of purity.

What is the proof that the intellect of the virgins alone is purer; is there any proof? Will there be [any proof] or not? The proof is that when the ever pure Father comes in this world, then do the virgins surrender more or do the mothers, adhar kumars or the kumars surrender more? Whose intellect grasps [the knowledge] more? Who grasps the knowledge of the Sun of Knowledge more? They grasp in their practical life. They sacrifice their body, mind, wealth, time and contacts entirely. So, it is observed. These are practical topics. Virgins surrender in large numbers. And this topic has been mentioned in the Brahma vaakya also that when God comes then the big scholars, pundits, acharyas, the so-called big personalities of this world become greatest fools because they do not recognize the Father. And the virgins recognize. They recognize, know through the body, wealth, mind that God, the Father has come. They entire world becomes fed up of, disturbed in shaking them, but their intellect like leg remains firm and unshakeable like Angad. Nobody can shake.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 12 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली
ShivBaba's Murli
VCD-2409-extracts-Bilingual
Part-3

समय- 40.41-58.28
Time: 40.41-58.28


तो बताया, ये जो 2018 है वो बाप के लिए प्रत्यक्षता रूपी जन्म लेने के लिए श्रेष्ठ वर्ष है। सर्वश्रेष्ठ वर्ष है। सर्वश्रेष्ठ क्यों नहीं बताया? हँ? दुनिया में भी जब गर्भ में आत्मा प्रवेश करती है, तब असली जन्म कहा जाता है या बच्चा जब बाहर आता है, सारा संसार जानता है, पहचानता है, कोई ये नहीं कहता कि प्रत्यक्षता रूपी जन्म नहीं हुआ; पेट में आत्मा आती है, बाहर नहीं आती, तो सिर्फ कन्याओं-माताओं को पता चलता है। दुनिया को पता नहीं चलता। तो देखो, श्रेष्ठ वर्ष कहेंगे जब जो इन आँखों से देखे, जो इन स्थूल कानों से सुने, दो शब्द भी भले सुने, तो उनके मुख से, अंतरात्मा की एवरलास्टिंग आवाज़ निकले कि ब्रह्माकुमारियों का बाप नहीं, सारी दुनिया का बाप इस सृष्टि पर आ गया।

तो बताओ, पहले बच्चा जब पेट में प्रवेश करता है तब श्रेष्ठ जनम है कि जब बाहर आता है तब श्रेष्ठ जन्म है, जब सारी दुनिया पहचाने, कोई न कहे कि नहीं आया। हँ? प्रत्यक्षता रूपी जन्म जो है वो तब ही माना जाता है जब साकार में बच्चा दिखाई दे क्योंकि जो जन्म मनाया जाता है, जन्मदिन, वो साकार का मनाया जाता है या निराकार का जन्मदिन मनाया जाता है? कोई नहीं कहेगा कि निराकार का जन्मदिन मनाया क्योंकि निराकार आत्मा माता के गर्भ में प्रवेश करती है। कोई दूसरा नहीं जानता माताओं के सिवाय। इसलिए बोला - है तो वो भी श्रेष्ठ वर्ष, लेकिन जब चार, दो-चार महीने, चार-पाँच महीने के बाद जब बाहर बच्चा आता है तब सर्वश्रेष्ठ वर्ष, क्योंकि सारी दुनिया के देवात्माएं हों, मनुष्यात्माएं हों, आसुरी मनुष्यात्माएं हों, सब पहचान लेते हैं उस सुप्रीम सोल बाप को कि आ गया।

तो ये दुनिया के जगाने का आरंभ है। क्या? पहले कौन जागती हैं? कन्याएं जो माता बन जाती हैं और माताएं जो पवित्र जीवन जीती हैं और कन्या बन जाती हैं। तो दुनिया को जगाने का ये वर्ष है। और देखें कि कैसे ये वर्ष भी कमाल करके दिखाता है। ‘भी’ क्यों लगा दिया? ये वर्ष भी कमाल करके दिखाने वाला है। और आगे जो भी वर्ष आने वाला है, सारी दुनिया मानेगी। मानने के लिए मजबूर हो जाएगी। जो भी इन आँखों से देखेगा, जो भी कानों से दो शब्द भी सुनेगा, कहेगा भगवान बाप आ गया, सुप्रीम सोल फादर। तो ये वर्ष भी कमाल दिखाने वाला है। और जो 40 से 50 वर्ष बताए, तुम सूर्यवंशी बच्चों की प्रत्यक्षता के लिए, वो 50 वर्ष भी जब पूरे होंगे 2017-28, वो वर्ष सारी दुनिया के लिए है। कैसा वर्ष? सर्वश्रेष्ठ वर्ष कहा जाएगा।

ब्राह्मण, जो भी सभी ब्राह्मण हैं। क्या? ब्राह्मण किसे कहा जाता है? जो ब्रह्मा की औलाद हैं, फॉलोअर्स हैं, ब्रह्माचारी हैं, ब्रह्मा के आचरण में आचरण करने वाले हैं, वो उमंग-उत्साह में हैं कि क्या होगा? और जानते भी हैं कि क्या होगा? अभी तो नई दुनिया का सभी स्वप्न देख रहे हैं। कि अभी नया वर्ष, नई रीति, नई प्रीति। क्या? नई प्रीति। क्या मतलब? इस दुनिया में जन्म लेने वाला जो भी बच्चा होता है, बच्ची होती है, पहले माँ से प्रीति होती है। फिर बाप को पहचानता है तो बाप से प्रीति होती है। फिर बचपन में खेल खेलते हैं जिन बच्चों के साथ, संगी-सहेलियों के साथ प्रीति होती है, साथियों के साथ। स्कूल में जाते हैं तो टीचर से प्रीति होती है। माने प्रीति बदलती जाती है ना। ऐसे ही जो ज्ञान चन्द्रमा ब्रह्मा को ही गीता का भगवान मानके बैठे थे, उनकी बुद्धि में भी बैठ जाता है कि ज्ञान चन्द्रमा ब्रह्मा उर्फ कृष्ण की सोल तो गीता का भगवान नहीं है क्योंकि वो तो बच्चे के समान महात्मा बुद्धि है। बच्चा तो कितना सहज बुद्धि वाला होता है। कोमल बुद्धि वाला होता है। तो बच्चा वो दुनिया के रंग-राज़ को नहीं जानता। कृष्ण की भी पूजा बच्चे के रूप में होती है, भगवान समझकरके। तो कृष्ण कैसे भगवान हो सकता? फिर वो तो 16 कलाओं में बंधा हुआ है। जो बंधायमान है वो भगवान कैसे हो सकता? भगवान तो कलातीत होना चाहिए। ज्ञान सूर्य जैसे कलातीत है।

तो जिन ब्राह्मण बच्चों का ज्ञान चन्द्रमा, ब्रह्मा, कृष्णचन्द्र वाली आत्मा के साथी प्रीति थी वो बदलकरके किसके प्रति प्रीति हो जाती है? बाप के प्रति प्रीति हो जाती है, जो सुप्रीम सोल बाप है, सुप्रीम सोल बाप निराकार है। मनुष्य सृष्टि रूपी रंगमंच के जिस हीरो पार्टधारी में प्रवेश करता है, जिसे सब धर्म के लोग मानते हैं, आदम, एडम, आदिदेव, आदिनाथ, उसमें प्रवेश कर जाता है। तो साकार रूप में पार्ट बजाता है। जिसमें प्रवेश करता है, उसको निराकार का संग का रंग लगता है या नहीं लगता? लगता है। संग का रंग तो जरूर लगता है। जितना नज़दीक होगा उतना संग का रंग लगेगा। तो प्रीति की ये रीति है – समान बनना। पक्का प्रीति है, 100 परसेन्ट प्रीति है तो समान बनकर दिखाए। माना निराकार साकार में रम जाता और वो साकार किसमें रम जाता? निराकार में रम जाता। मैं तेरे में समा जाऊँ, तू मुझमें समा जाए। माने निराकार साकार में रम जाता। और साकार निराकार की याद में समा जाता।

ये बात ब्रह्मवाक्य मुरली में भी बोली है। सुप्रीम सोल बाप आते हैं तो तुम बच्चों को नंबरवार आप समान बनाकर जाते हैं, जैसे सुप्रीम सोल बाप निराकारी, निर्विकारी, निरअहंकारी है, वैसे बच्चे भी नंबरवार निराकारी, निर्विकारी, निरअहंकारी बनते हैं। तो कोई 100 परसेन्ट भी बनता होगा। तो वो हीरो पार्टधारी शिव निराकार बाप समान सुप्रीम सोल बाप समान निराकारी स्टेज धारण कर लेता है। इसीलिए उसकी यादगार में सोमनाथ मन्दिर में शिवलिंग स्थापन किया गया। जिसमें हीरा जड़ा हुआ था। हीरा निराकार की यादगार, सिर्फ निराकार की या वो हीरा साकार की यादगार है? साकार को भी अपनी आत्मा है या नहीं? जरूर है। लेकिन वो आत्मा जो पहले, बाप के आने से पहले पत्थरबुद्धि थी, वो पारसबुद्धि बन जाती है संग के रंग से। तो बाप समान सौ परसेन्ट निराकारी, निर्विकारी, निरहंकारी बन जाती है। नहीं तो जो सुप्रीम सोल बाप है आत्माओं का वो तो कभी पत्थरबुद्धि नहीं बनता। और हीरा? क्या होता है? पत्थर होता है या चैतन्य होता है? पत्थर ही तो होता है। शिव बाप कभी पत्थर बनता है जो उसकी यादगार बनेगी हीरा के रूप में? नहीं। जिस साकार में प्रवेश करता है वो साकार पहले पत्थरबुद्धि फिर संग के रंग से निराकार बन जाता है। जितना सूक्ष्मबुद्धि निराकार आत्मा बनती है उतनी मनन-चिंतन-मंथन के विस्तार में जा सकती है।

ये मनुष्य सृष्टि रूपी वृक्ष है। वृक्ष साकार है तो बीज भी साकार है। वो ही बीज वृक्ष का रूप धारण करता है। फिर उस वृक्ष के परिपूर्ण होने पर पहली-पहली बार उसमें जो पहला फल निकलता है, उसमें वो बीज फिर से प्रत्यक्ष होकरके बाप समान डिटैच बन जाता है। सारे संसार रूपी सृष्टि वृक्ष से पहले-पहले डिटैच। जो गीता का महावाक्य है – नष्टोमोहा स्मृतिलब्धा। अर्जुन से बोला – इन देह के संबंधियों से, देह के पदार्थों से नष्टोमोहा हो जा। तो मनुष्य सृष्टि का वो पहला बीज जो तैयार होता है वो मन-बुद्धि से सारे संसार से डिटैच होकर बाप समान जैसे ज्ञान सूर्य शिव परमात्मा परमपिता है, वैसे ही डिटैच होकर रहता है। जैसे जड़ सूर्य सारे संसार से डिटैच होकर रहता है, कोई में अटैचमेन्ट नहीं। ऐसे ही वो साकार भी डिटैच हो जाता है। और न्यारा और प्यारा बन जाता है सारे संसार के लिए।

तो ऐसी आत्मा के लिए जो भी आत्माएं इस संसार में हैं सब प्रीतिबुद्धि बन जाती हैं। सबके लिए नई प्रीति रह जाती है बुद्धि में, सब नया-नया बदल रहा है। ऐसे अनुभव करते हैं जैसे युग बदल रहा है। क्या? कलियुग बदलकर संगमयुग होता है। ब्रॉड ड्रामा की शूटिंग का काल। पुरुषोत्तम संगमयुग बनता है। पुरुषोत्तम संगमयुग भी बदलकर स्वर्णिम युग, संगमयुग कहा जाता है। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ पुरुष माने आत्माएं इस संसार में प्रत्यक्ष होती हैं। इसलिए नाम पड़ता है पुरुषोत्तम संगमयुग। वैसे युग के साथ सब ही रीति-रिवाज़ कायदे सब उसी प्रमाण चलते हैं। कोई भी तमोप्रधान रीति-रिवाज़ नहीं। पुराने रीति-रिवाज़ सब खत्म। पुराने कायदे कानून सब खत्म। नई दुनिया के नए कायदे-कानून शुरू होते हैं। तो सबको उसी प्रमाण चलना पड़े।


So, it was told, this 2018 is a righteous year for getting revelation like birth for the Father. It is the most righteous year. Why wasn't it mentioned to be the most righteous? Hm? Even in the world, when a soul enters the womb, then is it called the true birth or when the child comes out, when the entire world knows, recognizes, when nobody says that this revelation like birth has not taken place; the soul enters in the womb; it does not come out, then only the virgins or mothers know. The world does not get to know. So, look, it will be called a righteous year when whoever sees through these eyes, whoever listens through these physical ears, even if he listens to two words, then it should emerge from their mouth, an everlasting sound should emerge from their inner soul that it’s not the Father of Brahmakumaris, but it’s the Father of the entire world who has come in this world.

So, tell, is it a righteous birth when the child enters into the womb first or is it a righteous birth when the child comes out, when the entire world recognizes, nobody should say that he hasn't come. Hm? The revelation like birth is considered to have taken place only when the child is visible in corporeal form because the birth that is celebrated, the birth day, is it celebrated for the corporeal or is the birthday of the incorporeal is celebrated? Nobody will say that the birthday of the incorporeal was celebrated because the incorporeal soul enters the womb of the mother. Nobody else knows except the mothers. This is why it was said - That is also a righteous year, but when the child comes out after four, two-four months, four-five months, then it is called the most righteous year because be it the deity souls, be it the human souls, be it the demoniac human souls of the entire world, everyone recognizes that Supreme Soul Father that He has come.

So, this is the beginning of the awakening of the world. What? Who wake up first? Virgins who become mothers and mothers who lead a pure life and become virgins. So, this is the year of awakening of the world. And let's see how this year also shows wonders. Why was 'also' suffixed? This year is also going to show wonders. And in the year that is going to arrive, the entire world will believe. It will be constrained to believe. Whoever sees through these eyes, whoever listens to even two words through their ears, will say - God, the Father has come; the Supreme Soul Father. So, this year is also going to show wonders. And the 40 to 50 years that were mentioned for the revelation of you Suryavanshi children, when those 50 years will also be completed in 2017-18, that year is for the entire world. What kind of year? It will be called the most righteous year.

Brahmins, all those who are Brahmins. What? Who is called a Brahmin? Those who are Brahma's children, followers, Brahmaachaari, those who act in accordance with the acts of Brahma, they are in zeal and enthusiasm that what is going to happen? And they also know as to what is going to happen? Now everyone is seeing the dream of the new world that now the new year, new tradition, new affection. What? New affection. What does it mean? The son, the daughter who gets birth in this world develops love for the mother first. Then, when he/she recognizes the Father, then he/she develops love for the Father. Then the children with whom they play in the childhood, they develop love for those companions and friends. When they go to the school, then they develop love for the teacher. It means that the affection keeps on changing, doesn't it? Similarly, those who had considered the Moon of knowledge Brahma himself to be the God of Gita, it sits in their intellect also that the Moon of knowledge Brahma alias the soul of Krishna is not the God of Gita because he has a intellect like a child, mahatma (great soul or saint). A child has such a simple intellect. He has a delicate intellect. So, that child does not know the colours, secrets of the world. Krishna is also worshipped in the form of a child considering him to be God. So, how can Krishna be God? Then he is bound in 16 celestial degrees. How can the one who is bound be God? God should be beyond celestial degrees (kalaateet) just as the Sun of Knowledge is beyond celestial degrees.

So, the Brahmin children who loved the Moon of knowledge, Brahma, the soul of Krishnachandra, that love changes to love for whom? They develop love for the Father, the Supreme Soul Father; the Supreme Soul Father is incorporeal. The hero actor of the human world stage in whom He enters, whom people of all the religions accept, i.e. Aadam, Adam, Aadidev, Aadinath; He enters in him. Then He plays a part in corporeal form. Does the one in whom He enters get coloured by the company of the incorporeal or not? He does. He does get coloured by the company. The closer someone is, the more he/she will get coloured by the company. So, this is the tradition of love - to become equal. If the love is firm, if the love is 100 percent, then he/she should become equal. It means that the incorporeal merges into the corporeal and that corporeal merges into whom? He merges into whom? He merges into incorporeal. I should merge into you and you should merge into me. It means that the incorporeal merges into the corporeal. And the corporeal merges into the remembrance of the incorporeal.

This topic has been spoken in the Brahmvaakya Murli also. When the Supreme Soul Father comes, then He makes you children numberwise equal to Himself; just as the Supreme Soul Father is incorporeal, viceless, egoless, similarly the children also become numberwise incorporeal, viceless, egoless. So, someone must be becoming 100 percent as well. So, that hero actor inculcates incorporeal stage equal to the incorporeal Father Shiv, equal to the Supreme Soul Father. This is why Shivling was established in the Somnath Temple in its memorial. A diamond was studded on it. Is the diamond a memorial of the incorporeal, of just the incorporeal or is that diamond a memorial of the corporeal? Does the corporeal also have his soul or not? He definitely has. But that soul which had a stone-like intellect (pattharbuddhi) earlier, before the arrival of the Father becomes paarasbuddhi through the colour of company. So, it becomes hundred percent incorporeal, viceless, egoless. Otherwise, the Supreme Soul Father of the souls never becomes pattharbuddhi. And the diamond? What is he? Is he a stone or a living being? He is a stone only. Does Father Shiv ever become a stone that His memorial will be formed in the form of a diamond? No. The corporeal in whom He enters, that corporeal is initially pattharbuddhi and then becomes incorporeal through the colour of company. The more subtle and incorporeal a soul becomes the more it can go into the expanse of thinking and churning.

This is a human world tree. When the tree is corporeal, then the seed is also corporeal. The same seed assumes the form of a tree. Then, on the completion of that tree, the first fruit that emerges from it for the first time, that seed gets revealed in it again and becomes detached from it like the Father. He detaches from the entire world tree first of all. There is a sentence in the Gita - Nashtomoha smritilabdha. It was said to Arjun - Become detached from these relatives of the body, from the things related to the body. So, the first seed of the human world which gets ready, becomes detached from the entire world through the mind and intellect and remains detached like the Father just as the Sun of Knowledge Supreme Soul Supreme Father Shiv. Just as the non-living Sun remains detached from the entire world, there is no attachment in anyone, similarly, that corporeal also remains detached. And becomes detached and dear (nyara aur pyara) for the entire world.

So, all the souls in this world become affectionate for such soul. There remains new love (preeti) for everyone in the intellect. Everything is new and changing. They feel as if the Age is changing. What? The Iron Age is changing to Confluence Age. The period of shooting of the broad drama. Purushottam Sangamyug starts. Purushottam Sangamyug also changes to Golden Age, Confluence Age. The most righteous purush, i.e. souls are revealed in this world. This is why the name is coined as 'Purushottam Sangamyug'. Along with such Age, all the rituals and traditions also continue accordingly. No degraded ritual and tradition remains. All the old rituals and traditions end. All the old laws end. New rules and laws of the new world start. So, everyone has to act accordingly.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

User avatar
arjun
PBK
Posts: 11539
Joined: 01 May 2006
Affinity to the BKWSU: PBK
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To exchange views with past and present members of BKWSU and its splinter groups.
Location: India

Re: Extracts of PBK Murlis - as narrated to the PBKs

Post by arjun » 13 Oct 2019

शिवबाबा की मुरली ShivBaba's Murli
VCD-2409-extracts-Bilingual
Part-4

समय- 00.58.29-01.16.12
Time: 00.58.29-01.16.12


तो आज अपने नए संसार में जाने की यही संकल्प करना है। क्योंकि आज का दिन, जो नया वर्ष है, समाप्ति का वर्ष, श्रेष्ठ वर्ष, 2018, नए संसार में जाने की है। वो संकल्प करना है, इस नए संसार में जाने के लिए हमें पास तो जरूर होना है। किसे? हमें। किसने कहा? बापदादा ने कहा। बाप शिव और आत्मा-आत्मा भाई-भाई जो भी हैं 500-700 करोड़ मनुष्यमात्र, उनके बीच में जो हीरो पार्टधारी है आदम, वो कहता है – ‘हमें’। ‘हमें’ माने एक या दो? हँ? या ज्यादा? हमें का मतलब है – बहुवचन है। कम से कम दो। नारायण और लक्ष्मी। जैसे कोई बीज होते हैं ना दो दल वाले पवित्र मार्ग के प्रतीक बीज। ऐसे ही ये दो दल हैं। इशारा किया – हमें पास तो होना ही है। तो क्या सिर्फ दो ही पास होंगे? वो तो नई सूर्यवंशी दुनिया के विश्व महाराजन, विश्व महारानी हैं। लेकिन यथा राजा? तथा प्रजा भी तो कही जाती है। तो जो भी 108 माला के मणके कहे जाते हैं भारतीय परंपरा में विजयमाला के मणके जो विश्व पर विजय प्राप्त करने वाले बच्चे हैं नंबरवार। उन सभी सूर्यवंशी बच्चों को जो राजयोग सीख रहे हैं, जिस योग में राज़ भरा हुआ है, और राज़ की बात बच्चे नहीं समझते हैं बच्चा बुद्धि। राज़ की बात तो वो ही समझते हैं, जिन आत्माओं ने सृष्टि रूपी रंगमंच पर पूरे 84 जन्म लिए। और 84 जन्म लेने वाली आत्माओं के भी बाप माता बनकर रहे हैं। तो उनको पास तो होना ही है।

और दो पास? एक तो इम्तेहान पास करना। और दूसरा? विश्व पिता के पास जाना। स्वभाव से, संस्कारों से, पुरुषार्थ से। पुरुषार्थ भी एक प्रकार की दौड़ है ना। तो दौड़ में कोई अव्वल नंबर पास पहुँचते हैं। कोई फिर नंबरवार पहुँचते हैं। तो एक तो बाप के समीप पहुँचने की ‘पास’। दूसरा इम्तेहान पास करने की पास। जो सूर्यवंशियों का इम्तेहान है। जैसे दुनिया में इम्तेहान होते हैं ना। भारत में आई.ए.एस. कहते हैं। क्या? इंडियन एड्मिनिस्ट्रेटिव सर्विस। पहले पी.सी.एस. हुआ करता था। तो ऊँच ते ऊँच इम्तेहान होता था। वो आज भी है। यादगार चली आ रही है। तो वो पास भी मिलनी ही है। क्योंकि आपको पास तो मिलेगी ही। किसको? हँ? आपको। आप किसे कहा जाता है? तुम किसे कहा जाता है? वह किसे कहा जाता है? और यह किसे कहा जाता है? यह माना जो बाजू में बैठते हैं। जैसे शिव बाप की बाजू में ब्रह्मा बैठता है। तो यह हुआ चन्द्रवंशी। और तुम या आप; तुम कहा जाता है सन्मुख बैठने वाले को। और वह दूर वाले को कहा जाता है। तो यहाँ आप शब्द बोला। तुम भी नहीं बोला। क्यों बोला? बोलने वाला कौन बोल रहा है? हँ? अरे गुल्ज़ार दादी के तन में कौन बोल रहा है? ब्रह्मा की सोल बोल रही है ना।

तो ब्रह्मा की सोल नई दुनिया में जब सतयुग शुरू होगा तो कृष्ण बच्चे के रूप में पहले बच्चे के रूप में जन्म लेगी ना। तो दूसरी पीढी हुई या फर्स्ट पीढ़ी हुई? हँ? जो चार युग हैं ब्रॉड ड्रामा के उनमें तो पहला बच्चा है लेकिन वो भी तो किसी का बच्चा होगा ना। किसी से तो जन्म लेगा ना। ऐसे तो नहीं जैसे बच्चा बुद्धि ब्राह्मण कहते हैं – परमधाम से आत्माएं आवेंगी, सितारे के रूप में और इस सृष्टि पर बच्चा बन जाएंगी। ऐसे कहीं हो सकता है क्या? ये कोई प्रैक्टिकल बात थोड़ेही हुई? नहीं। माता के पेट से ही बच्चा पैदा होता है कृष्ण बच्चा। क्योंकि कृष्ण वाली जो आत्मा है सतयुग में वो अव्वल नंबर कृष्ण बच्चा नहीं कही जा सकती। दो नंबर का बच्चा है। अव्वल नंबर कृष्ण बच्चा तो सूर्यवंशी है। जो सूर्यवंशी कृष्ण है वो शिव बाप की गोद में पल रहा है। वो है पुराने ते पुराना। जिससे पुरानी आत्मा कोई भी नहीं। नई ते नई आत्मा। पुरानी ते पुरानी आत्मा। क्योंकि वो नया न बनता है, न पुराना बनता है। वो जन्म-मरण के चक्र में आता ही नहीं। वो सुप्रीम सोल बाप इस सृष्टि पर आता है तो जिसमें प्रवेश करता है उसको अपना पहला बच्चा, बड़ा बच्चा बनाता है। उसी को अपनी सारी प्रापर्टी अखूट ज्ञान भण्डार की प्रदान करता है। तो वो हुआ असल में साकार में संगमयुगी कृष्ण बच्चा। लेकिन वो संगमयुगी पुरुषोत्तम युग का बच्चा है। जहाँ पुरुषों में उत्तम-उत्तम आत्माएं संसार की प्रत्यक्ष होती हैं। वो श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ युग है।

तो बताया, आपको वो पास मिलेगी। चैतन्य ज्ञान सूर्य बाप के पास जाने की। जो चैतन्य ज्ञान सूर्य साकार में इस सृष्टि पर प्रत्यक्ष होता है। सारी सृष्टि को ज्ञान प्रदान करता है क्योंकि इस सृष्टि रूपी रंगमंच में एक ही ज्ञान सूर्य है जिसे शिवबाबा कहरकरके लोग पुकारते हैं। जिसके लिए ब्रह्मवाक्य मुरली में है – इस सृष्टि पर सदा कायम कोई चीज़ है नहीं। सदा कायम सिर्फ एक शिवबाबा ही है। जो सतयुग में भी, द्वापर में भी, त्रेता में भी, कलियुग में भी और चारों युगों के समाप्त होने पर भी इस सृष्टि पर कायम रहता है। तो उसे गीता में सूर्य कहा है। जो निराकार भगवान ज्ञान सूर्य शिव बाप, निराकार आत्माओं का बाप, सुप्रीम सोल, सुप्रीम गॉड फादर, कहते हैं कि मैं जब आता हूँ तो सूर्य को, जो इस सृष्टि का, साकार सृष्टि का ज्ञान सूर्य है, ज्ञान की रोशनी सारे संसार को प्रदान करने वाला है, उस साकार ज्ञान सूर्य को ये ज्ञान देता हूँ पहले-पहले। तो उसके पास जो पहुँचने वाले सूर्यवंशी बच्चे हैं, नंबरवार हैं।

तो ये है अव्वल नंबर पास होना। क्या? चैतन्य ज्ञान सूर्य के पास नज़दीक में पार्ट बजाने वाले बच्चे नंबरवार। और इस पास के साथ ये भी बाबा चाहते हैं कि हरेक बच्चा अपने को किसी भी रीति से। क्या? पास जरूर करे। किसी भी रीति से माने? दुनिया में जितनी भी रीतियाँ होती हैं, जितनी भी प्रीति होती है, उन सब प्रकार की प्रीतियों में कौनसा संबंध है जो सबसे नज़दीकी होता है? हँ? ऐसा नज़दीकी संबंध कि मरते समय वो संबंध ही याद आ जाता है। पति मरता है तो पत्नी की याद में मरता है। स्त्री चोले की याद में मरता है तो अंत मते सो गति स्त्री का जन्म ले लेता है। अंत समय में स्त्री मरती है तो सारा जीवन जिससे सुख लिया है पति से वो पति का चोला याद आ जाता है। तो अगला जन्म अंत मते सो गति के अनुसार कौनसा मिलता है? वो ही जनम मिलेगा जिसका सारा जीवन याद किया। अंत समय में भी याद आ गया। पुरुष चोला मिल जाता है।


तो वो संबंध कौनसा है जो बहुत समीप का संबंध है? उससे ज्यादा समीप का संबंध और कोई होता ही नहीं। वो है साजन सजनी का संबंध। क्या? उसका नाम ही है साजन। सहजन। सह माने साथ। साजन माने सहित। कौनसा? जन माने मनुष्य। मनुष्य के साथ का जन्म। जरूर कोई मनुष्य होता है जिसकी याद रहती है अंत समय में विशेष। तो किसी भी रीति से, चाहे उस संबंध से प्रीति से, चाहे कोई दूसरे संबंध से, बाप बच्चे का भी संबंध होता है, बाप-बेटी का भी संबंध होता है। भाई बहन का भी संबंध होता है। तो किसी भी संबंध की प्रीति से पास जरूर करें। फेल न हों। कभी स्थिति परिस्थिति ऐसी आती है कि जन्म मिला और शादी हुई। जिस पति से शादी होती है वो पति पहले ही शादी किया हुआ होता है। तो दूसरी पत्नी बन गई ना। छोटी पत्नी बनी या बड़ी पत्नी बनी? परिवार में छोटी माता बनी या बड़ी माता बनी? कहेंगे छोटी माता बनी। तो जब बड़ी माता से संबंध-संपर्क में, व्यवहार में रहना पड़े, तो फिर अपन को छोटी बहन मान लेना चाहिए ना। तो ये रीति बदल गई ना।

तो बताया कोई भी रीति से कोई भी प्रीति से पास जरूर करें। फेल न हो जाएं। समय पास करने का है। क्या? दूसरी पत्नी भी बनें तो पहली पत्नी का सामना न करें। क्या? सामना करेंगे तो क्या होगा? झगड़ा होगा। झगड़ा होगा तो झगड़े में तो काम बिगड़ेगा। तो फिर दूर हो जाएंगे। तो नज़दीक रहने की बात है। इसके लिए अभी अपना भविष्य चैक करो। भविष्य का आधार है वर्तमान संगमयुगी शूटिंग का काल। और भविष्य के ऊपर अटैन्शन दो कि भविष्य में हमें जो प्राप्ति होनी है उसका आधार जो अभी पुरुषोत्तम संगमयुग की शूटिंग का समय है वो कैसा जा रहा है। ये संगमयुग मौजों के युग में बीत रहा है या रोने का युग बन रहा है? दुःखी होने का युग है या सुख के सागर के बच्चे का सुखी होने का समय है? जैसी शूटिंग करेंगे वैसे ही ब्रॉड ड्रामा में प्राप्ति होगी।


So, today you have to create only this thought of going to your new world because today, the new year, the year of completion, the righteous year, 2018 is for going to the new world. You have to create this thought; we have to definitely pass in order to go to this new world. Who? We. Who said? BapDada said. Father Shiv and all the soul brothers, the 500-700 crore human beings, the hero actor, Aadam among them says - 'We' (hamein). Does 'hamein' (we) means one or two? Hm? Or more? Hamein means - it is plural. At least two. Narayan and Lakshmi. For example, there are some seeds with two cotyledons, the seed which is a symbol of pure path. Similarly, these are the two cotyledons. A hint was given - We have to definitely pass. So, will only two pass? They are the world emperor, world empress of the new Suryavanshi world. But as is the king, so are said to be the subjects as well. So, all the beads of the rosary of 108 in the Indian tradition, the beads of the rosary of victory (vijaymala), the numberwise children who gain victory over the world. All those Suryavanshi children, who are learning rajyog, the Yoga which contains secret (raaz), and the children, those who have a child-like intellect do not understand the topic of secret. Only those souls who have taken complete 84 births on the world stage understand the topic of secret. And they have been the Father and mother of even the souls which have taken 84 births. So, they have to definitely pass.

And the second 'pass'? One is to pass the exam. And the other? To go near (paas) the world Father through the nature, through sanskars, through purusharth. Purusharth is also a kind of race, is not it? So, some reach near [the finish line] at number one position in a race. Some then reach numberwise. So, one is the 'pass' of reaching near (paas) the Father. Second pass is of passing the exam, which is the exam of the Suryavanshis. Just as there are exams in the world. They say 'IAS' in India. What? Indian Administrative Service. Earlier there used to be PCS. So, it used to be the highest on high exam. That is present today also. A memorial continues. So, you are to get that pass as well because you will definitely get the pass. Who? Hm? You (aapko). Who is called 'you' (aap)? Who is called 'you' (tum)? Who is called that one (vah)? And who is called this one (yah)? Yah means those who sit beside you. Just as Brahma sits beside Father Shiv. So, this one is Chandravanshi. And 'tum' or 'aap'; The one sitting face to face is addressed as 'tum'. And the one far away is called 'vah' (that one). So, here the word 'aap' has been uttered. It was not said 'tum' as well. Why was it uttered? Who is the speaker? Hm? Arey, who is speaking through the body of Gulzar Dadi? The soul of Brahma is speaking, is not it?

So, the soul of Brahma will get birth as child Krishna, as the first child when the Golden Age begins in the new world, will it not? So, was it the second generation or the first generation? Hm? He is the first child in the four Ages of the broad drama, but he will also be the child of someone, will he not be? He will get birth from someone, will he not? It is not like the Brahmins with child-like intellect who say - Souls will come from the Supreme Abode in the form of stars and will become a child in this world. Can it be possible anywhere? Is this a practical thing? No. Child Krishna is born through the womb of the mother only because the soul of Krishna cannot be called the number one child Krishna in the Golden Age. He is the number two child. The number one child Krishna is Suryavanshi. The Suryavanshi Krishna is getting sustenance in the lap of Father Shiv. He is the oldest one. There is no soul older than him. The newest soul. The oldest soul. Because He neither becomes new nor old. He does not enter into the cycle of birth and death at all. When that Supreme Soul Father comes in this world, then the one in whom He enters, He makes him his first child, the eldest child. He provides His entire property of inexhaustible stock of knowledge. So, he is the actual Confluence Age child Krishna in corporeal form. But he is the child of the Confluence Age Purushottam Yug where all the best (uttam) souls among the purush (souls) are revealed. That is the most righteous Age.

So, it was told, you will get that pass to go near (paas) the living Sun of Knowledge. The living Sun of Knowledge is revealed in this world in corporeal form. He provides knowledge to the entire world because there is only one Sun of Knowledge on this world stage who is called by people as ShivBaba for whom it has been mentioned in the Brahmavaakya Murli - There is nothing permanent in this world. ShivBaba alone is permanent who remains permanently in the Golden Age also, Copper Age also, Silver Age also, Iron Age also and even after the end of all the four Ages. So, he has been called the Sun in the Gita. The incorporeal God, the Sun of Knowledge Father Shiv, the Father of incorporeal souls, the Supreme Soul, Supreme God Father says that when I come, then I give this knowledge first of all to the Sun, to that Sun of Knowledge of this world, this corporeal world who provides the light of knowledge to the entire world. So, the Suryavanshi children who reach near him are numberwise.

So, this is to pass at number one. What? The numberwise children who play a part near the living Sun of Knowledge. And along with this pass, Baba also wants that every child, in any manner whatsoever; what? Should definitely pass. What is meant by 'in any manner whatsoever'? Among all the traditions (reetiyaan) of the world, all the love (preeti), among all kinds of love, which relationship is closest? Hm? Such a close relationship that that relationship alone comes to the mind while dying. When the husband dies, he dies in the memory of wife. When he dies remembering the female body, so as are the thoughts in the end so shall be the fate; so he gets the birth as a woman. When a woman dies in the end, then she remembers the body of the husband from whom she has derived pleasure throughout the life. So, what kind of rebirth does she get as per the proverb of 'as are the thoughts in the end so shall be the fate'? She will get the same birth which she remembered throughout her life. It came to the mind even in the last time. She gets a male body.

So, which relationship is a very close relationship? There is no other relationship closer than that at all. That is the relationship of husband (saajan) and wife (sajani). What? His name itself is saajan. Sahjan. Sah means company. Saajan means 'including/along with'. Which? Jan means human being. The birth with human being. Definitely there is a human being whose memory remains especially in the last period. So, in any manner, either through the love of that relationship, or through any other relationship; there is a relationship of the Father and son also; there is a relationship of a Father and a daughter as well. There is a relationship of a brother and a sister as well. So, you should definitely pass through the love of any relationship. You should not fail. Sometimes you face such situation or circumstance that you get birth and get married. The husband with whom you get married is already married. So, you became the second wife, did not you? Did you become the junior wife or the senior wife? Did you become the junior mother in the family or did you become the senior mother? It will be said that you became the junior mother. So, when you have to maintain relationship and contact with the senior mother, when you have to interact with her, then you should consider yourself to be the younger sister, shouldn't you? So, this tradition changed, did it not?

So, it was told that you should definitely pass in any manner and through any kind of affection. You should not fail. You have to pass the time. What? Even if you become the second wife you should not confront the first wife. What? What will happen if you confront? There will be a fight. If there is a fight, then the task will fail in a fight. So, then you will become distant. So, it is about remaining close. For this now check your future. The basis of future is the present Confluence Age shooting period. And pay attention to the future that how are we spending the present shooting period of the Purushottam Sangamyug which is the basis of the attainment that we are to achieve in future. Is this Confluence Age passing as an Age of enjoyment or is it becoming an Age of crying? Is it an Age of becoming sorrowful or is it a time to be happy for the child of the ocean of happiness? As is the shooting we perform, so shall be our attainment in the broad drama.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
नोटः यह केवल एक प्रारूप है। उक्त वीसीडी के संपूर्ण मूल पाठ या मूल आडियो, वीडियो के लिए www.adhyatmik-vidyalaya.com देखिये।
Note: This is just a draft. For the complete text, Audio and Video of the above VCD please visit – www.adhyatmik-vidyalaya.com

Post Reply

Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 15 guests