Bap-Dada's LATEST & FINAL part

DEDICATED to Om Mandli ‘Godly Mission’ to present posts regarding the LATEST & FINAL part of BapDada of World Purification & World TRANSFORMATION – through Divine Mother Devaki - SAME soul of 'Mateshwari', Saraswati Mama.
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 120
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
ॐ... "पिताश्री" शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
13.12.2021

"मीठे बच्चे .. सृष्टि का नियम है - ‘जो दोगे वही पाओगे’। समय को बर्बाद किया तो समय बर्बाद कर देगा। अभी भी कहेंगे - समय है थोड़ा, जितना भी है सफल करो, क्योंकि शरीर छूटने के बाद समय सफल नहीं करता। समय सफल होगा ही नहीं!"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=bVBDVRdEaX4

अच्छा .. आज सबके दिल में कौनसी लहर दौड़ रही है? आज हर एक बच्चा बाप के स्नेह में झूम रहा है। कितना वंडरफुल ड्रामा है! आज बाप बच्चों की सभा में आए हैं। एक वो सभा, आज, और एक यह सभा, कितना फर्क है! है? कैसा फर्क? *बाप ने अपना वायदा पूरा किया ना? बाप को कितना प्यार है - भल एक बच्चा भी बैठकर बाप का आवाहन करता है, दिल से बुलाता है, आवाज देता है, बाप को वो भी सुनाई देता है।* आज भी कहाँ-कहाँ, किस कोने में बैठकर बाप को बच्चे आवाज दे रहे हैं। क्या कह रहे हैं – ‘मेरे बाबा आ जाओ, मैं भी इंतजार में हूँ।’ यह बाप का प्यार है। आज, हर एक बच्चा बाप को देख रहा है। भाग्यशाली हो ना! बिना मेहनत के वो पाया, जिसको पाने के लिए जन्म-जन्मांतर तपस्या करते आए हैं। पर जिन्होंने मेहनत से पाया है, उनका पद भी कितना ऊँच है। *जिन्होंने पहचान लिया, वो दिल में एक ही गीत गाएंगे –‘पाना था सो पा लिया’; पर जिन्होंने मिलकर भी नहीं पहचाना वो क्या कहेंगे – ‘जो कमाया था वो भी गंवा दिया!’* तो कौन से बच्चे हो? ‘पाने वाले’ या ‘गंवाने वाले’? प्राप्ति करने वाले ना?

बाप ऐसी भोली-भोली माताओं से मिलने आए हैं जो कहती हैं, ‘बाबा, हमें कुछ नहीं आता, पर एक शब्द आता है - मेरा बाबा।’ आता है ना? क्या? ‘मेरा बाबा’ - इतना ही काफी है!

*यह ड्रामा और यह सृष्टि परिवर्तनशील है ना! पर इस संसार में हर घड़ी परिवर्तन होता है।* है? कभी, आप ‘बच्चे’ रहे होंगे ना - आज क्या बन गए? ‘बूढ़े’ हो गए। हो तो वही ना - बदले तो नहीं। परिवर्तन किस में आया है - शरीर में आया है, और शरीर के साथ संस्कार में आया है। छोटा बच्चा अपने बाप को नहीं जानता, पर उसको अभ्यास कराया जाता है, ‘यह आपका पिता है’ - तभी वो बच्चा जानता है कि, ‘हाँ यह मेरा पिता है’। *ऐसे ही बाप को, बिना बाप के कोई जान नहीं सकता। इस संसार में बाप अपना परिचय खुद देते हैं, यही ड्रामा की भावी है।* देख कर अनदेखा नहीं करना - क्योंकि यह घड़ी दुबारा नहीं आएगी, यह पल दुबारा नहीं आएगा क्योंकि सब कुछ परिवर्तनशील है।

जितने इस सभा में बैठे हैं, जरूरी नहीं है कि वो अगली सभा में भी हो, इसीलिए हर घड़ी, हर पल, हीरे तुल्य है, महत्वपूर्ण है - इसका लाभ जरूर उठावे। क्योंकि आज बाप इतने बच्चों में बैठे हैं, पर बाप का तो पूरा संसार है ना! है ना - तो क्या करेगा? क्योंकि *बाप ने संसार में कदम रख दिया है, और जहाँ बाप के कदम है, वहीं बच्चों के भी कदम रहेंगे। इसीलिए समय बहुत कीमती है, समय को बर्बाद नहीं करना है, क्योंकि समय बहुत पावरफुल है।* हमने समय को बर्बाद किया तो समय क्या करेगा? क्या करेगा? *सृष्टि का नियम है – ‘जो दोगे वही पाओगे’। समय को बर्बाद किया तो समय बर्बाद कर देगा।* अभी भी कहेंगे - समय है थोड़ा, जितना भी है सफल करो, क्योंकि शरीर छूटने के बाद समय सफल नहीं करता। समय सफल होगा ही नहीं! .. ठीक है?

अनुभव करें .. *अंतिम का दृश्य है यह (बाप का हाथ) - इस पर्वत के नीचे सबको आना है।* आना सबको है पर रहेगा कौन-कौन! ठीक है? हमेशा बाप की याद में खुश रहो। *इतना संगमयुग की घड़ियाँ है, समय सफल करो। बाप साथ है, साथ रहेंगा, साथ चलेंगा।*

फिर मिलेंगे!
Zorba the Greek
Posts: 50
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️

Versions of Shiv Baba
13.12.2021

[ Through Divine Mother Devaki - ‘Bharat Mata’, ‘Jagadamba’ - SAME soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama (who had taken one more birth in an affluent family, between 1965 and the present birth) – who first gives Golden Age birth to Shri Krishna, and then takes her own Golden Age birth after 2 to 3 years in a different family - and the sustenance of Shri Krishna takes place through a different (Queen Yashoda) mother and father! ]

"Sweet children .. the Law of creation is – ‘you will get whatever you give’. If time is wasted then time will cause you a loss. Even now it would be said – there is little time left, take benefit from whatever time is left, because you will not be able to take THIS benefit once you leave your body. You will not be able to take any benefit from THIS time!"

Link: Baapdada Milan - 13.12.2021

OK .. Today, which Wave is flowing in everyone’s heart? Today, EACH and EVERY child is swinging in the Father’s (Swing of) Love. The Drama is so WONDERFUL! Today, the Father has come in the gathering of the children. One is THAT gathering, and one is THIS gathering today – there is so much DIFFERENCE (between the two)! Is it not? How is there a DIFFERENCE? *The Father has fulfilled His promise, has He not? The Father has so much Love – EVEN if a SINGLE child sits and invokes the Father, if one calls Him from one’s heart with a ‘sound’, the Father hears even that (‘sound’ from the heart).* Even today, somewhere or the other, the children are calling out (from the heart) to the Father, while sitting in some corner. What do they say – ‘My Baba, please come, I am also waiting.’ This is the (TRUE) Love of the Father. Today, EACH and EVERY child is watching the Father. You are indeed FORTUNATE! Without any effort you have achieved that - to attain which, you have been doing penance for birth after birth. But the status of those who have attained by making efforts is also so elevated. *Those who have ReCognized, will sing only one song within their hearts – ‘I have achieved WHATEVER I had to attain’; but what would those who have NOT ReCognized say, EVEN after Meeting (Baba) – ‘we have lost even that which we earned!’* So, which children are you? ‘Those who have attained’ or ‘those who have lost’? You are those who have attained, are you not?

The Father has come to meet such innocent mothers, who say, ‘Baba, we do not anything, but we know one word – my Baba.’ You know this, do you not? What? ‘My Baba’ – just this much is SUFFICIENT!

*This Drama and this world are (constantly) changing, is it not! But, in this world, CHANGE takes place EVERY moment.* At some time, you were a ‘child’ – and what have you become today? You have become an ‘elder’. But you are the same – you have not changed, is it not? What has changed – the body has changed, and along with the body your sanskars have changed. A small child does not know one’s own father, but he/she is trained, ‘this is your father’ – only then does the child know, ‘yes, this is my father’. *Similarly, no one can know the Father, without the Father. In this world, the Father gives His OWN introduction – this is preordained within Drama.* After seeing Him, do not fail to ReCognize Him – because this moment will not come again, this instant will not come again, because everything is (constantly) CHANGING.

All those who are sitting in this gathering will not necessarily be present in the next gathering, this is why every moment, every instant is significant, and is as valuable as a diamond – you should definitely take benefit from it. Because, although the Father is sitting today among so many children, the whole world is the Father’s, is it not! Is it not? So what would He do? Because *the Father has stepped into this world, and wherever the Father’s steps are, the steps of the children will also be there - this is why time is very valuable, time should not be wasted, because time is very powerful.* If we waste time then what would ‘time’ do? What would ‘time’ do? *The Law of creation is – ‘you will get whatever you give’. If time is wasted then time will cause you a loss.* Even now it would be said – there is little time left, take benefit from whatever time is left, because you will not be able to take THIS benefit once you leave your body. You will not be able to take any benefit from THIS time! .. OK?

EXPERIENCE .. *THIS (Hand of the Father) is the final scene – EVERYONE has to come under this ‘Mountain’.* EVERYONE has to come, but who all will remain! OK? Always remain Happy in the Remembrance of the Father. *Take benefit from the time - from the remaining moments of this Confluence Age.* The Father is with you, He will remain with you, and He will go along with you (back Home, to the Soul World).

We will meet again!
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 120
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
ॐ... "पिताश्री" शिवबाबा याद है?

[ देवकी माता द्वारा - भारत-माता, जगदम्बा - ओम राधे, मातेश्वरी, सरस्वती मम्मा की आत्मा - (जिनका एक और जन्म अमीर परिवार में हुआ था - १९६५ के बाद, और इस जन्म के पहले) - जो पहले, श्री कृष्ण को सतयुगी जन्म देती है, फिर २-३ साल के बाद अपना सतयुगी जन्म अलग परिवार में लेती है - और श्री कृष्ण की पालना, अलग (रानी यशोदा) माता और पिता द्वारा होता है! ]

शिवबाबा की वाणी
15.12.2021

"मीठे बच्चे .. बाप ने अपना हर वायदा पूरा किया है। इसमें ‘कोटों में कोई’ .. और अब इसमें ‘कोई मैं भी कोई’। दुनिया वाले तो सब ‘(कोटों में) कोई’ .. पर ब्राह्मण परिवार में ‘कोई में भी कोई’।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=LW12egIcgyg

आज, बापदादा और बच्चों का मिलन मेला लगा है ना? आज, सभी प्यार में पहुँचे हैं। प्यार है? प्यार है .. जो बच्चे प्यार में पहुँचे हैं, उन बच्चों का बाप दिल से वेलकम करते हैं .. और जो बच्चे एक दूसरे को देखकर पहुँचे हैं, उनका भी वेलकम है। *देखकर पहुँचने वाले बच्चे सिर्फ देखने आते हैं .. और बाप के बन जाते हैं।* आज, बाप और बच्चों का मिलन एक मधुबन बन गया है ना! बाप ने कहा .. यह पूरा विश्व मधुबन है। क्यों? क्योंकि परमधाम के सभी बच्चे कहाँ आ गए - इस सृष्टि पर आ गए। तो परमधाम खाली हो गया ना! और जहाँ-जहाँ बाप, वहाँ बच्चे; और जहाँ बच्चे, वहाँ बाप। बाप के पास हर एक की दिल के संकल्प पहुँच गए हैं। बच्चे क्या कहते हैं – ‘बाबा, अगर आपने मेरे मन की बात बोल दी, तो आप वही बाबा हो’। कह भी किसको रहे हैं - बाप को! ‘आपने अगर मेरे मन की बात कह दी, तो आप वही बाबा हो’। बाप क्या कहेगा? क्या कहेगा - *बाप तो वही है, पर क्या आप बच्चे भी वही हो? ..जो केहते थे, ‘बाबा, कुछ भी हो जावे, पर हम आपका हाथ और साथ कभी नहीं छोडेंगे’! विशेष ब्राह्मण परिवार के लिए .. वही बच्चे हैं। है ना?* बाप का प्यार तो सच्चा है, बाप ने तो वायदा किया है ना - कौन सा वायदा? याद है? कौन सा वायदा? *‘इस संगमयुग पर साथ रहेंगे, और परमधाम में साथ-साथ चलेंगे।’* वायदा याद है ना? पक्का! तो फिर बाप ऐसे कैसे छोड़के जा सकते हैं? *मालूम सभी बच्चों को है – ‘मेरा बाप आया है’ .. पूरे ब्राह्मण परिवार को मालूम है, पर दिल से स्वीकार नहीं रहे। क्यों? क्योंकि 84 जन्म शरीर को देखने का आदत पड़ गया ना!* कब स्वीकारेंगे? क्या कहते हैं – ‘बाबा, जब आप हमारे मनपसंद शरीर में आएंगे ना, तब हम आपको स्वीकारेंगे’। ऐसा होता है क्या! ऐसा होना चाहिए? होना चाहिए? जिसमें बाप आए हैं, वो कौन है, उसके 84 जन्मों की कहानी क्या है .. वो 84 जन्म लेने वाले कैसे पहचानेंगे? तो कौन पहचानेंगा - जो इस चक्र से भी ऊपर हो, सिर्फ देखने वाला हो, वही पहचानेंगा ना? उसी को ही मालूम है ना?

*अभी पूरे ब्राह्मण परिवार का पेपर है ‘आत्मा समझने का’। इतने वर्ष बाप ने पढ़ाई, पढ़ाई ना .. तो पेपर लेना चाहिए .. तभी तो सतयुग में पद की घोषणा की जाएगी कि किसका क्या पद है, कौन नंबरवार (है)।* लेना चाहिए पेपर? सब एक हाथ की ताली दिखावे .. लेना चाहिए ना? पास है? यह भी नंबरवार है। *जिन बच्चों ने वर्तमान समय पेपर खुशी से दिया, दिल से स्वीकार किया, वो बच्चे (सिर्फ) पास नहीं .. फुल पास हैं।* पर जो पेपर देने की जगह, लेट किया .. तो क्या कहेंगे? आज सभी कहते हैं, ‘हम नहीं मानते कि पेपर देने का समय आ गया .. तो बाप ने क्या कहा? बाप को क्या कहते हैं – ‘हम नहीं मानते कि आप ऐसे किसी में भी आएंगे’। किसी में भी माना .. किसमें? सोचो .. किसमें? जिस कर्तव्य के लिए बाप इस धरा पर आए, वो पूरा हुआ? हुआ? नहीं हुआ ना .. तो? बाप के जाने की घोषणा किसने की? कार्य तो पूरा हुआ नहीं, तो बाप कैसे जाएंगे?

अच्छा! भक्ति में तो भीड़ को देखके आते हैं। क्या सोचकर? ‘वहाँ चलेंगे, तो मनोकामनाएँ पूरी होती हैं।’ *पर ज्ञान में भीड़ को देखकर नहीं आना .. बाप के प्यार में आना!* क्योंकि भीड़ में देखकर आने वाले बच्चों की भीड़ तो बहुत बड़ी है। *जो भी बच्चे प्यार में आ रहे हैं, सिर्फ दिल के प्यार में आवे, तो बाप ही मिलेगा।* कई बच्चे क्या कहते हैं – ‘अभी तो संख्या कम है ना, थोड़ा और जब बढ़ेगी तो हम जाएंगे’। तो बाप क्या कहेंगा कि आपका ही वेट बाप नहीं करेंगा क्योंकि बाप के ऐसे बहुत बच्चे बैठे हैं, बाप का इंतजार (में)! भक्ति मार्ग में क्या कहते थे? कहते थे – ‘अभी-अभी हमारे पास था, अभी-अभी हमारा राम हमारे पास था, अभी-अभी हमारे पास था’। *यह वही समय है, जहाँ हर एक शहर से, गली से, हर एक दिल से निकलेंगा – ‘मेर बाबा आ गया!’.. ‘मेरा बाबा आ गया!’ और बाप का आवाज सबसे ऊँचा होगा ‘मेरे बच्चे आ गए!’*

सभी खुश हो? सदा ऐसे ही खुशी की खुराख़ सब को बाँटने वाले, और हर एक की दिल से निकालने वाले – ‘मेरा बाबा आ गया’। भल भक्ति मार्ग में किसको यह मालूम नहीं होगा ये किस बाबा की बात कर रहे हैं, पर सबके मुख से निकलेंगा, दिल से निकलेंगा .. भल भक्ति मार्ग में बच्चों को मालूम नहीं है कौनसा बाबा, पर बाप को तो मालूम है ना, कि बच्चे बाप को दिल से पुकार रहे हैं।

ऐसे सदा खुशी के झूले में झूलने वाले, बाप की दिल पर राज करने वाले, ऐसे एक झलक में बाप को पहचान, और ‘मेरा बाबा’ कहने वाले, अति मीठे, प्यारे, लाड़ले बच्चों को बापदादा की तरफ से, विशेष ब्रह्मा बाप की तरफ से यादप्यार। सभी को दिल का यादप्यार।

‘ब्रह्मा बाप’, जो हर एक बच्चा कहता – ‘बाबा, काश मैं साकार में होता .. काश मैं साकार में ब्रह्मा बाप के साथ मिलन मना रहा होता!’ *यह काश पूरा हो गया ना? हो गया!* भल पुराना शरीर छूटा, पर बाप ने कहा – ‘बच्चे आदि सो अंत’। यह बाप का वायदा था – ‘आदि सो अंत’। ‘आदि सो अंत’ कैसे होता - आज जो ब्रह्मा बाप आकर सभी बच्चों का इच्छा पूरी कर रहे हैं ना! कभी यह तो उलाहना नहीं देंगे ना – ‘बाबा, हमने ब्रह्मा बाप को देखा ही नहीं’। *बाप ने अपना हर वायदा पूरा किया है। इसमें ‘कोटों में कोई’ .. और अब इसमें ‘कोई में भी कोई’। दुनिया वाले तो सब ‘(कोटों में) कोई’ .. पर ब्राह्मण परिवार में ‘कोई में भी कोई’।* अच्छा!

[ फिर किसी बच्ची का गुलदस्ते से स्वागत करते हुए बाबा बोले ]
आप का वेलकम है। बाप सदा साथ है। आपका वही बाप है। अगर प्रेम है, तो खुशबू भी वही है।

अच्छा .. फिर मिलेंगे।
यह (फूल) आप सभी (बच्चों) के लिए हैं।
अच्छा!

बच्चे कहेंगे बाबा मन अभी भरा नहीं, पर बाप कहेंगे कि बाप को पूरे विश्व में दृष्टि देनी है ना, सबसे मिलना है, पूरे विश्व का चक्कर लगाना है। भाग्यशाली बच्चे हैं .. बाप आप बच्चों से मिलन मनाने आया है। और वो समय आएगा जहाँ बाप जाएगा वहाँ पूरा संसार जाएगा .. क्योंकि *आने वाला समय ऐसा है - चारों तरफ फरिश्तों का चक्र होगा, और जब सारे फरिश्ते एक स्थान पर उतरेंगे, तो पूरे विश्व की नजरें उन फरिश्तों पर होगी .. क्योंकि वो फरिश्ते आपके ब्रह्मा बाप की पूरी टीम होगी, जो पूरी तरह से एक स्थान पर केंद्रित करेंगी।* अभी यह अपने मन में संकल्प सोचके नहीं रखो कि स्थान कौनसा होगा। ठीक है? आज इतने हैं .. कल इतने होंगे!

फिर मिलेंगे .. सभी बच्चों को टोली खिलाना। ठीक है .. टोली लेके आओ।

वाह! आप सभी बच्चों के लिए भोग आ गया। यह सब किसके लिए है? ... बाप के लिए?
बाप सभी के मुख में खिला रहे हैं।

अच्छा .. फिर मिलेंगे!
सब कहेंगे – ‘मेरा परमधाम वाला बाबा आया है’.. ‘मधुबन वाला बाबा आया है’ .. और आप सभी ‘परमधाम निवासी’, क्योंकि वो भी मधुबन ही है ना .. *और सभी बच्चे मधुबन निवासी हैं, क्योंकि जहाँ बाप, वहाँ बच्चे* .. सब परमधाम से आए हैं।
Zorba the Greek
Posts: 50
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️

Versions of Shiv Baba
15.12.2021

[ Through Divine Mother Devaki - ‘Bharat Mata’, ‘Jagadamba’ - SAME soul of Om Radhe, ‘Mateshwari’, Saraswati Mama (who had taken one more birth in an affluent family, between 1965 and the present birth) – who first gives Golden Age birth to Shri Krishna, and then takes her own Golden Age birth after 2 to 3 years in a different family - and the sustenance of Shri Krishna takes place through a different (Queen Yashoda) mother and father! ]

"Sweet children .. the Father (Shiva) has fulfilled His EVERY promise! In this, there are ‘a few out of multi-millions’ .. and now, in this, there are ‘a few out of those few’. Among those of the whole world, there are ‘a few (out of multi-millions)’ .. but within this Brahmin Family you are ‘a few out of those few’!"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=LW12egIcgyg

Today, there is a gathering of the Meeting of BapDada and the children, is it not? Today, everyone has reached with Love. Do you have (TRUE) Love? You have Love .. the Father welcomes, with His Heart, those children who have reached with Love .. and He also welcomes those children who have reached, by seeing one another. *Those who see (one another) and reach here, only come to see (to check and determine whether this is really the Father) .. and they then belong to the Father.* Today, the Meeting of the Father and the children has become a Madhuban, is it not! The Father said .. this whole world is Madhuban! Why? Because where have ALL the children, from the Supreme Abode, come – they have come to this world. So, the Supreme Abode has become empty, is it not! And wherever the Father is, the children are also there; and where the children are, the Father is there. The thoughts from the heart of EACH and EVERYONE has reached the Father. What do the children say – ‘Baba, if you tell what is within my mind, then you are that same Baba’. And to whom are they telling this – to the Father! ‘If you tell that which is within my mind, then you are that same Baba’. What would the Father say? What would He say - *The Father is the SAME, but are you those SAME children? .. (Are you those SAME children) who had said, ‘Baba, no matter what happens, we will NEVER leave your Hand and your Company’! Especially for the Brahmin Family .. you are those SAME children, are you not?* The Love of the Father is TRUE, and the Father has made a promise, is it not – which promise? Do you remember? Which promise? *‘We will remain TOGETHER in this Confluence Age, and we will go TOGETHER (back) to the Supreme Abode.’* You remember this promise, do you not? Certain! So, how can the Father leave like that and go back? *ALL the children know – ‘my Father has come’ .. the ENTIRE Brahmin Family knows, but they are not accepting this wholeheartedly. Why? Because for 84 births, they have got into the habit of looking at the body!* When will they accept? What do they say – ‘Baba, when You come into a body of our liking, then we will accept You’. Can this happen! Should this happen? Should it happen? How will those who take 84 births ReCognize who is the one into whom Baba has come, and what is the story of her 84 births? So, who will ReCognize – ONLY the One who is above EVEN this Cycle, the One who only watches, will ReCognize, is it not? ONLY He knows, is it not?

*Now, this is the test paper for the ENTIRE Brahmin Family – ‘to understand (EXPERIENCE) that you are a soul’. The Father has thought you this Study for so many years, is it not .. so, a test paper should be taken .. only then can the status in the Golden Age be proclaimed, as to who has which status, and who are number-wise.* Should the test paper be taken? Everyone show the clap of one hand .. it should be taken, is it not? Have you passed? You too are number-wise. *Those children who have happily given the present test paper, and accepted it wholeheartedly, such children have not just passed .. they have passed FULLY.* But what would be said about the one who delays instead of giving the test paper? Today everyone says, ‘we do not believe that the time has come to give the test paper’ .. so, what did the Father say? What do they tell the Father – ‘we do not believe that you can come in anyone, like this’. In anyone, means .. in whom? Think .. in whom? Has the task for which the Father came to this earth been accomplished? Has it? It has not been accomplished .. so? Who has proclaimed the Father’s departure? The task has not been accomplished, so how would the Father leave?

OK! On the ‘path of devotion’ they come after seeing the crowd. What do they think? ‘If we go there, our wishes will get fulfilled’. *But in this ‘path of Knowledge’ do not come after seeing a crowd .. come with Love for the Father!* Because the crowd of the children, who come after seeing the crowd, is very large. *Those children who come with Love, who come with only (TRUE) Love from the heart, will Meet the Father, Himself.* What do some children say – ‘now the numbers are less, we will go when they increase further’. So, what would the Father say – the Father would not wait just for you, because there are many such children who are sitting and waiting for the Father! What did they say on the ‘path of devotion’? They said – ‘He was with us just now, our RAMA was with us just now, He was with us just now’. *This is that SAME time, where, from every city, every lane, and from every heart the sound will emerge – ‘my Baba has come’! .. ‘my Baba has come’! And the sound of the Father will be above all – ‘My children have come’!*

Is everyone happy? Always be those who distribute the tonic of such Happiness to everyone, and those who enable the sound to emerge from the heart of everyone – ‘my Baba has come’. Although, on the ‘path of devotion’, they would not know which Baba you are talking about, but it will still emerge from the mouth and heart of everyone .. although the children on the ‘path of devotion’ do not know which Baba (you are talking about), but the Father knows, is it not - that the children are invoking the Father from their hearts!

To those who constantly swing in the swing of Happiness, to those who rule over the Heart of the Father, to those who ReCognize the Father with ONE glimpse, and who say, ‘my Baba’, to such extremely sweet, loving, and beloved children, Love and Remembrance from BapDada, and especially from Father Brahma. Love and Remembrance to EVERYONE from the Heart!

Regarding ‘Father Brahma’, every child says – ‘Baba, I wish I was in the corporeal (prior 1969) .. I wish I would have celebrated a Meeting along with Father Brahma, in the corporeal’! *This wish has been fulfilled, is it not? It has been fulfilled!* Although he left the old body (in 1969), but the Father had said – ‘children, as it is in the beginning, so will it be at the end’. This was the promise of the Father – ‘as in the beginning, so at the end’. How does it become ‘as in the beginning, so at the end’ – today, Father Brahma is coming and fulfilling the wishes of all the children, is it not! Now, you will not have the complaint – ‘Baba, I have not seen Brahma Baba at all’. *The Father (Shiva) has fulfilled His EVERY promise! In this, there are ‘a few out of multi-millions’ .. and now, in this, there are ‘a few out of those few’. Among those of the whole world, there are ‘a few (out of multi-millions)’ .. but within this Brahmin Family you are ‘a few out of those few’!* OK!

[ then, while welcoming a senior child (from a BK Center) with a bouquet, Baba said ]
You are welcome. The Father is ALWAYS with you. If you have (TRUE) Love, then the (Spiritual) FRAGRANCE is also the SAME!

OK .. We will meet again!
This (plate with flowers placed before Baba) is for ALL of you (children).
OK!

Children would say, ‘Baba, our mind (heart) is still not FULL’; but the Father would say that the Father has to give His vision to the ENTIRE world, He has to Meet EVERYONE, He has to take rounds around the WHOLE world. You are fortunate children .. the Father has come to celebrate a Meeting with you children. And that time will also come when the whole world will go where the Father goes .. because *the time that is to come is such – there will a circle of Angels ALL AROUND, and when all the Angels descend in one place, then the vision of the WHOLE world will be on those Angels .. because those Angels will be the entire team of your Father Brahma, who will completely concentrate in ONE place!* Now, do not keep this thought in your mind, as to which place that would be. All right? Now there are just so many .. tomorrow there will be so many more!

We will meet again .. give ‘toli’ to all the children. OK .. bring the ‘toli’.

Vow! ‘Bhog’ has arrived for all of you children. For whom is all this? .. For the Father?
The Father is feeding everyone in their mouths.

OK .. We will meet again!
Everyone say – ‘My Baba, from the Supreme Abode, has come’.. ‘My Baba, from Madhuban, has come’ .. and all of you are the ‘residents of the Supreme Abode (Soul World)’, because that too is ‘Madhuban’, is it not .. *and ALL the children are the residents of Madhuban, because wherever the Father is, the children are also there* .. ALL have come from the Supreme Abode.
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 120
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
ॐ... "पिताश्री" शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
22.12.2021

"मीठे बच्चे .. सब धर्म-गुरुओं का पार्ट अब समाप्त होने वाला है। एक पार्ट चलेगा – ‘परमपिता’! क्योंकि धर्म-पिता का पार्ट पूरा हो गया, अब परमपिता का पार्ट चल रहा है।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=T8TJUapeYOE

अच्छा .. सबसे बड़ी सरकार कौन है? *बाप के सामने बैठने वाला हर एक बच्चा, सबसे बड़ी सरकार है। आने वाली दुनिया की सरकार है!* तो बड़े ते बड़ी सरकार कौन हुए – ‘आप सभी बच्चे’ .. क्योंकि डायरेक्ट बाप को परमधाम से खींच लेवे .. उससे बड़ी सरकार कौन हो सकते हैं! आज बाप अपनी सरकार से मिलने आए हैं। *जिनको बाप से सच्चा प्यार है, दिल का प्यार है, वो बाप की सरकार है, और ऐसी सरकार को बाप दिल से स्वीकार करते हैं।* यह मिलन ऐसा मिलन है, भल सारी दुनिया बाप को ढूँढ रही है, भटक रहे हैं, पर आप वो भाग्यशाली हीरे हो, जो बाप की दिल पर बैठते हैं। जैसे भक्ति मार्ग में शिव लिंग पे हीरा दिखाते हैं, आप वो हिरे बच्चे हो जो बाप के मुकुट पे विराजमान होते हो। ऐसे प्यारे ते प्यारे बच्चों से मिलने बाप तो आएगा ना।

यह सारा विश्व एक आवाज के पीछे दौड़ लगाएँगा। सारा संसार बाप के मिलन की इंतजार कर रहा है - ‘कब वो घड़ी आएगी, और कब हम मिलेंगे?’ .. जैसे अनेक रास्तों पे भटक कर बाप को बच्चे पहचान नहीं पा रहे हैं। कैसे? जैसे एक हीरा गुम हो जाता है ना, और उस सच्चे हीरे को ढूँढने के लिए बच्चे क्या करते हैं - जहाँ भी चमक दिखाई देंगी वहाँ पर क्या सोचेंगे – ‘शायद यह हीरा हो; हो सकता है यह हीरा हो’। चारों तरफ भटक रहे हैं। *पर आप भाग्यशाली बच्चे हो, जो उस सच्चे हीरे को पा लिया, ढूँढ लिया, भटकने से छूट गए।* विश्व तो छोड़ो, ब्राह्मण परिवार भी भटक रहा है। तो अपने भाग्य पर नाज करो, और जो इस भूमि पर है उनको तो डबल नाज होना चाहिए। क्यों? जो इस धरा पर है, इस स्थान पर है, उनको डबल नाज होना चाहिए कि हम सबसे पहले हैं, तो कितनी खुशी होनी चाहिए। होनी चाहिए? होनी चाहिए? क्योंकि *यही स्थान आने वाले कुछ समय में तीर्थ स्थान कहलाएगा। बड़े ते बड़ा तीर्थ स्थान, जहाँ जीतने में बाप का पार्ट चला हो।* तो खुशी होनी चाहिए ना कि हम तीर्थ स्थान के तट पर बैठे हैं। कौन से स्थान के? तीर्थ स्थान के तट पर बैठने वाले सच्चे तपस्वी हो, आप बच्चे। आने वाला समय तो यही गीत गा रहा है। *अब तो विश्व का एक-एक बच्चे तक आवाज पहुंचेगा – ‘चलो तीर्थ स्थान चलें’, जहाँ चैतन्य में बाप का पार्ट चल रहा हो, ब्रह्मा बाप का पार्ट चल रहा हो, और आदि के उन पार्टधारियों का पार्ट चल रहा हो, क्योंकि सारे आदि के जो हीरे हैं, अंत में यहीं सब इकट्ठे हो जाएँगे ना।* तो क्या बन जाएगा - बड़े ते बड़ा तीर्थ स्थान बन जाएगा। खुशी है? नशा है? कहाँ बैठे हैं - तीर्थ स्थान पर बैठे हैं। सारा संसार बाप को ढूँढ रहा है, और आप बच्चे बाप के साथ मौज में हैं।

ऐसे ही सदा खुश रहने वाले, ऐसे सदा तीर्थ स्थान के तट पर बैठ तपस्या करने वाले, सच्चे तपस्वीयों को बापदादा का याद प्यार।

*भाग्य की तार खुल गई है। तीर्थ स्थान का गेट भी खुल गया है।* भीड़ को संभाल सकते हैं? है .. हिम्मत है ना! नहीं? तो फिर क्या करेंगे? बाप शक्ति भरेंगे। बच्चे हिम्मत दिखाकर सब संभाल लेंगे, क्योंकि *सब धर्म-गुरुओं का पार्ट अब समाप्त होने वाला है। एक पार्ट चलेगा – ‘परमपिता’! क्योंकि धर्म-पिता का पार्ट पूरा हो गया, अब परमपिता का पार्ट चल रहा है।* धर्म-पिता के पास उसी के धर्म वाले पहुँच पाएँगे, लेकिन परमपिता के पास सभी धर्म के पहुँच जाएँगे। तो यह खुशी है? है .. कि हम सबसे पहले परमपिता के पास पहुँच गए, हमारे बाद धर्म पितायें आएंगे। यह नशा होना चाहिए, खुशी होनी चाहिए, मैं किसके साथ हूँ। छोटे-छोटे पेपर में घबराना नहीं चाहिए – ‘बाबा, मैं तो आपका हूँ ना, तो यह पेपर क्यों आया?’ ऐसा नहीं। ‘बाबा, मैं बहुत बहादुर बच्चा हूँ, महावीर हूँ, जो बड़ी से बड़ी चट्टान के साथ भी टकरा सकता हूँ।’ महावीरों के मुख से छोटी-छोटी चीजें अच्छी नहीं लगती। महावीरों के मुख से ऐसी बातें अच्छी नहीं लगती कि ‘बाबा, उसने ऐसे किया तो मैंने भी ऐसे किया, उसने मेरा पेपर लिया, उसने ऐसा किया’ .. यह महावीरों के मुख से शोभता नहीं है। ‘बाबा, उसने मेरा दिल दुखाया।’ अच्छा, तो दिल उसके साथ लगा था ना, इसलिए दुख गया। अगर किसीने दिल दुखाया तो दिल कहाँ लगा था - उसके साथ, बाप के साथ नहीं - तभी तो दुखा ना। अगर दिल बाप के साथ लगा होता .. तो? तो बाप तो कभी दिल दुखाते ही नहीं हैं। प्यार का सागर है ना, अपने किसी भी बच्चे का दिल नहीं दुखाएगा। *तो दिल किससे लगाना है - जो ‘प्यार का सागर है’* .. ठीक है?

*‘ब्रह्मा बाप समान बनना ही है’ - यह संकल्प हर एक बच्चा करे कि मुझ में कौन दिखे – ‘ब्रह्मा बाप दिखे’।* आज कॉपी करते हैं ना .. आज के समय में करते हैं, छोटे-छोटे बच्चे भी कॉपी करते हैं। तो आप बच्चों को किसका कॉपी करना है – ‘ब्रह्मा बाप का’।

बाप सामान, ‘निराकार ज्योति बिंदु’ .. ब्रह्मा बाप समान, ‘दिव्य गुणों से भरपूर’ .. ठीक है?

फिर मिलेंगे!
Zorba the Greek
Posts: 50
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️

Versions of Shiv Baba
22.12.2021

"Sweet children .. the part of all religious gurus is now coming to an end. Only one part will continue – that of the ‘Supreme Father’! Because the parts of the religious fathers are completed, and the part of the Supreme Father is now taking place."

Link: https://www.youtube.com/watch?v=T8TJUapeYOE

OK .. Who is the biggest Government of all? *EVERY child who is sitting in front of the Father is the biggest Government of all. You are the Government of the (New) World which is to come!* So, who is the GREATEST Government of all – ‘ALL of you children’.. because, who can be a greater Government than those who directly attract the Father from the Supreme Abode! Today, the Father has come to Meet His (Spiritual) Government. *Those who have TRUE Love for the Father, who have Love from their heart, are the Government of the Father, and the Father accepts such a Government with His Heart.* This Meeting is such a Meeting .. although the whole world is searching for the Father, and they are wandering around, but you are those fortunate (Spiritual) Diamonds, who are seated within the Heart of the Father. Just as, on the ‘path of devotion’, they show a diamond on top of the Shiva Lingam, you are those Diamond children who are sparkling on the Crown of the Father. The Father would definitely come to Meet such most Loving children, would He not?

This whole world will run after one sound. The whole world is waiting for the Meeting with the Father – ‘when will that time come, and when will we Meet?’ .. Just as the children are unable to ReCognize the Father after wandering on many paths. How? Just as when a diamond is lost, then what do the children do in order to find that real diamond – what would they think wherever they see a glow – ‘perhaps this is that diamond; it is possible that this is that diamond’. They are wandering all around (in this manner). *But you are the fortunate children, who have got that REAL Diamond, you have found Him, and you have been saved from wandering around.* Leave alone the world, EVEN the Brahmin Family is wandering! So be proud of your fortune, and those who are on this soil should be doubly proud. Why? Those who are in this land, in this place, should be doubly proud that you are first of ALL - so you should have so much Happiness. Should you have? Should you have (Happiness)? Because *this SAME place will be called a ‘pilgrimage place’ in some time to come. The GREATEST ‘pilgrimage place’, where the Father’s part of WINNING is played!* So, you should have Happiness, is it not, that you are sitting on the banks of the ‘pilgrimage place’? Of which place? You children are the TRUE Yogis who are sitting on the banks of the ‘pilgrimage place’. The time to come is singing only this Song. *Now, the sound will reach EACH and EVERY child of the world – ‘come on, let us go to the pilgrimage place’, where the Father’s part is taking place in a ‘Living form’, where Father Brahma’s part is taking place; and the part, of those participants of the BEGINNING, is taking place – because ALL the Diamonds of the BEGINNING, will ALL gather here itself, in the end, is it not?* So, what will this become – it will become the GREATEST ‘pilgrimage place’ of ALL. Do you have this Happiness? Do you have this intoxication? Where are you sitting now – you are sitting in the ‘pilgrimage place’. The whole world is searching for the Father, and you children are enjoying with the Father.

To such True Yogis, who remain constantly Happy, and who always perform ‘tapasya’ while sitting on the banks of the ‘pilgrimage place’, BapDada’s Love and Remembrance.

*The line of your fortune has opened. The gate of the ‘pilgrimage place’ has also opened.* Can you manage the crowds? Do you have .. you have the courage, do you not! No? Then what would you do? .. The Father will fill Power within you. The Children will display courage and will handle everything, because *the part of ALL the religious gurus is now coming to an end. Only one part will continue – that of the ‘Supreme Father’! Because the parts of the religious fathers are completed, and the part of the Supreme Father is now taking place.* Only those of that particular religion will reach a (particular) religious father; while those of ALL the religions will reach the Supreme Father. So, do you have this Happiness? Do you .. that we have reached (up to) the Supreme Father, first of ALL, and that the religious fathers will come after us? You should have this intoxication, you should have this Happiness - to whom you belong! You should not be afraid of small test papers – ‘Baba, I belong to you, is it not; then why has this test paper come?’ It should not be like this. ‘Baba, I am a very brave child, a victorious child (‘Mahavir’), who can smash even the biggest Rock.’

It does not look good when little things emerge from the mouth of the ‘victorious ones’ (‘Mahavirs’). It does not look good for such aspects to emerge from the mouth of the ‘victorious ones’, like – ‘Baba, I also did this because that one did this, that one took my test paper, that one did this’ .. it is not graceful to hear this from the mouth of the ‘victorious ones’. ‘Baba, that one hurt my heart.’ OK, so your heart was attached to that one, is it not – this is why it got hurt. If anyone has hurt your heart, then with whom was your heart attached – with that one, not with the Father – that is why it got hurt. If your heart was attached with the Father .. then? The Father NEVER hurts the heart (of ANY child). He is the ‘Ocean of Love’, is He not – He would NOT hurt the heart of ANY child of His. *So, with whom should your heart be attached – with the One who is the ‘Ocean of Love’.* .. OK?

*‘I have to become like Father Brahma’ – EACH and EVERY child should have this thought, as to who should be seen in me – ‘Father Brahma should be seen’.* Today, they copy, do they not .. they do this these days, even small children copy. So, whom should you children copy – ‘Father Brahma’.

Be an ‘Incorporeal Point of Light’, like the Father (Shiva) .. and be ‘FULL of Divine Virtues’, like Father Brahma .. OK?

We will meet again!
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 120
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
ॐ... "पिताश्री" शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
02.01.2022

"मीठे बच्चे .. सबसे बड़ा सौभाग्य है कि जिस स्थान पे अनेक धरमपितायें आए, परमपिता आया, आप उस भारत में रहने वाले हैं, और यही भारत पूरे विश्व में सोने की चिड़िया कहलाता है, और यही भारत विश्व-गुरु है - तो आप सच्चे-सच्चे भारतवासी हैं।"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=vHDIX1TGeF0

अच्छा .. आज बाप के अति सिकीलधे बच्चे प्यार में झूम रहे हैं। कब से इंतजार में बैठे हैं। बैठे हैं? क्यों बैठे हैं? सिर्फ मिलने के लिए! हर एक बच्चा बाप की याद में, प्यार में, कहाँ-कहाँ से पहुँच गया है ना। कोई प्यार में आए हैं, कोई देखने आए हैं, कोई यह सोच कर आए हैं कि ‘देखते हैं, कौनसा बाबा आता है’? *पर कौनसा बाबा आता है? - सभी बच्चों का बाबा! देखने का समय गया, सोचने का समय भी गया, बाप को परखने का समय भी चला गया, अब जो समय है वो सिर्फ मिलन मनाने का समय है* क्योंकि अगली बारी यहाँ पर लाखों की भीड़ जमा होगी। आपके पास स्थान है? यहाँ वाले से पूछ रहे हैं - इस स्थान वाले खड़े हो जावे। सभी यहाँ के - जो भी यहाँ रहते हैं वो खड़े हो जाए - चाहे कोई भी है। अच्छा, आप सभी से बाप पूछ रहे हैं - आपके पास स्थान है? लाखों करोड़ों बच्चे आ सकते हैं, ऐसा स्थान है? सबकी आवाज नहीं आया। है ना? तो सब तैयार हैं? जो नहीं बोल रहे हैं, वो भी बोले। अच्छा, सभी बैठ जाएँ। क्योंकि अभी, सभी बच्चे भाग्यशाली हैं, सभी इतना पास बैठे हैं। है ना? सभी पास वाले हैं! *वर्तमान समय बाप के सभी पास वाले हैं, कोई दूर वाला नहीं है। जो अपनी सोच से बाप से दूर बैठा है, वो उस बच्चे का खुद का निर्णय है, पर आज हर एक बच्चा बाप के बहुत पास है।* कई बच्चे ऐसे भी हैं, क्या सोच रहे हैं – ‘बाबा, कुछ समझ नहीं आ रहा है क्या हो रहा है, पर अच्छा जरूर लग रहा है’। यही अच्छा, हर एक बच्चे को अच्छा बनाएगा, इसीलिए सभी बच्चे तैयार हो जावे और अगले प्रोग्राम की भी तैयारी करना शुरू करें। अच्छा .. समय आप बताएंगे या बाप? *हर एक बच्चा यह सोचे विश्व परिवर्तन के इस कर्तव्य में मेरा पूरा योगदान रहेगा क्योंकि समय बहुत तेजी से परिवर्तन होने वाला है, और यह परिवर्तन होने से पहले, पूरे विश्व में एक आवाज जरूर गूंजेगा, ‘मेरा बाबा ..’। [ ‘मेरा बाबा आ गया’ ]*

हर एक बच्चा यही सोचे कि मैं आजाद हूँ, स्वतंत्र हूँ। है सभी? आजादी मिल गई? सबसे पहले आजादी किससे मिली? [ रावण से ] कौन है रावण? [ ५ विकार] विकार कभी अपने होते हैं? हमारा तो वो है जो सदा साथ रहे, जो सदा साथ चले। है? और साथ कौन है? [ मेरा बाबा ]

आज अपने मन में क्या सोचना है –‘मैं स्वतंत्र हूँ’। अगर आपसे कोई पूछे - आपने यह ड्रेस क्यों पहना है, तो क्या कहेंगे? क्या कहेंगे? यह ड्रेस क्यों पहना है? कहना – ‘आप सभी एक वर्ष में एक दिन स्वतंत्र दिन मनाते हैं, और मैं हर दिन मनाता हूँ’ - ठीक है? क्या कहेंगे? ‘मैं हर दिन स्वतंत्र दिन मनाता हूँ, क्योंकि ऐसी कोई बुराई नहीं है, जो मेरे मन को जकड़ सके। मेरा भारत देश भी स्वतंत्र है, और मैं भी स्वतंत्र हूँ।’ और स्वतंत्र माता के स्वतंत्र बच्चे हैं, इसीलिए सभी भारत माताएँ हैं। ठीक है? सभी एक बारी नारा लगाओ। [ सभी ने नारा लगाया - किसी ने शंख बजाया ] आजादी का शंख। ठीक है? सभी खुश हैं? एक लहर आज यहाँ से पूरे विश्व में जाएगी, और हर कोई दिल से यह कहेगा .. [ ‘मेरा बाबा आ गया’ ] बाबा ने आकर क्या किया? [ स्वतंत्र किया ] तो हर कोई बच्चा अपने आप को .. यह दिल से निकले कि मैं स्वतंत्र हूँ। कोई भी बंधन में नहीं है। अच्छा, इस स्थान पे बैठने वाला कोई बंधन में है? अगर है तो वो एक हाथ की ताली दिखावे। बंधन में है? कौन से बंधन में है? लौकिक बंधन में नहीं, कौनसे बंधन में? भारतवासी कभी बंधन में नहीं बंध सकते, और अगर बंध जाए तो वो भारतवासी नहीं है। तो इधर कौन है जो भारतवासी नहीं है - कोई बैठा है? सबसे बड़ा तो सौभाग्य है कि आप सभी का जन्मस्थान भारत में है। *सबसे बड़ा सौभाग्य है कि जिस स्थान पे अनेक धरमपितायें आए, परमपिता आया, आप उस भारत में रहने वाले हैं, और यही भारत पूरे विश्व में सोने की चिड़िया कहलाता है।* और यही भारत विश्व-गुरु है, तो आप कौन हैं? सच्चे-सच्चे भारतवासी हैं! अपने भाग्य पे गर्व करो, नाज़ करो - यह जो ड्रेस आपने पहना है यह बिना मतलब के नहीं है। हर एक यहाँ का रहने वाला, हर दिन स्वतंत्रता दिवस मनाए, बुराइयों से। और हमेशा अनुभव करें कि इन बुराइयों से भी आप भी मुक्त हैं, और यह पूरा संसार भी मुक्त हो गया है।

अच्छा .. ऐसे सच्चे-सच्चे भारतवासी बच्चों को, ऐसे भारत माँ की गोद में पलने वाले बच्चों को, सृष्टि के रचयिता का यादप्यार।

आज से सभी खुशी मनाओ, दिल से, कि ‘पूरे विश्व को बुराइयों से मुक्त करना है, यह बीड़ा हमने उठाया है, और इसमें हमारा पूरा योगदान रहेगा’ .. ठीक है? और जो बच्चे सिर्फ बाप को देखने आए हैं, चेक करने आए हैं, उन बच्चों को कहेंगे चेकिंग का समय गया, अभी पूरे भारत को परिवर्तन करने का समय आ गया है। *हम सब एक हैं, और एक के ही हैं, और एक ही रहेंगे!*

फिर मिलेंगे!
Zorba the Greek
Posts: 50
Joined: 03 May 2019
Affinity to the BKWSU: BK supporter
Please give a short description of your interest in joining this forum.: To engage in fruitful discussions

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by Zorba the Greek »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️

Versions of Shiv Baba
02.01.2022

"Sweet children .. the GREATEST fortune is that you are those who live in that Bharat, where many Religious fathers came, where the Supreme Father has come, and this same Bharat is called the ‘Golden Sparrow’ in this whole world; and this same Bharat is the World-Guru – so, you are the TRUE Bharatwasis!"

Link: Baapdada Milan - 02.01.2022

OK .. Today, the extremely Loving children of the Father are swinging with (TRUE) Love. You have been waiting for a long time. Have you been waiting? Why have you been waiting? Only to have a Meeting! Every child has reached from somewhere or the other, in the Father’s Remembrance and in His Love, is it not? Some have come in His Love, some have come just to see, and some have come with the thought, ‘let me check, which Baba is coming’? *But which ‘Baba’ is coming? – the ‘Baba’ of ALL the children! The time to just see has gone by, the time to think has also gone by, and the time to ReCognize the Father has ALSO gone by - the present time is the time to celebrate a Meeting*, because the next time there will be a crowd of millions gathered here. The Father is asking those from here – those who are from this place, do stand up. All those who are from here – whoever lives here, do stand up – whoever you may be. OK, the Father is asking all of you – do you have a place? Do you have a place where a million, multi-million children can come?

Everyone’s voice was not heard. You have (a place)? So, are all of you ready? Even those who are not saying anything, can say so. OK, everyone may sit down. Because all the children are now fortunate, that all of you are sitting so close. Is it not? All of you are those who are close! *At present, all the Father’s children are close, no one is far away. The one who is sitting far away from the Father, according to one’s own thinking, is the judgement of that child - but today, EVERY child is extremely close to the Father.* There are also some children who are thinking – ‘Baba, I cannot understand anything as to what is happening, but I definitely do like this’. This feeling of goodness will make EVERY child GOOD, this is why all the children should get ready, and start preparing for the next programme as well. OK .. will you tell the time, or will the Father? *EVERY child should think that my COMPLETE contribution will be in this task of world transformation, because the time is going to change very rapidly, and before this change takes place, one sound will definitely resonate in this whole world, ‘My Baba ..’. [ ‘My Baba has come’ ]*

Every child should think that ‘I am free, independent’. Are you all? Have you received your Freedom? From whom have you received Independence, first? [ From Ravan ]. Who is Ravan? [ 5 Vices ]. Do the vices ever belong to you? Mine is the One who will ALWAYS stay together, who will ALWAYS go together. Do you have Him? Who is the One who is ALWAYS with you? [ My Baba ].

What have you to think today within your mind – ‘I am independent’. If anyone asks you – why have you worn this dress, then what would you say? What would you say? Why have you worn this dress? Say – ‘all of you celebrate ‘Independence Day’, one day in a year, and I celebrate EVERYDAY’ – OK? What would you say? ‘I celebrate ‘Independence Day’ EVERYDAY, because there is NO SUCH evil that can GRIP my mind. My country of Bharat is also independent, and I too am independent.’ And you are the independent children of an independent Mother (country), and this is why you are all ‘Mothers of Bharat’. OK? Say the slogan once. [ Everyone said the slogan – and someone blew the conch ]. This is the conch (sound) of Freedom. OK? Are all of you Happy? One wave will go from here today, to the whole world, and everyone will say from within their heart .. [ ‘My Baba has come’ ]. What did Baba come and do? [ He Liberated everyone ]. So, every child should one’s own self .. it should come from within one’s own heart that ‘I am FREE; I do not have any bondage.’ OK, does anyone who is sitting here have any bondage? If there is, then that one can wave with one hand. Do you have any bondage? Which bondage do you have?

Not in the ‘lokik’ bondage, in which bondage? The residents of Bharat can never be bound in any bondage, and if they do get bound then they are NOT (TRUE) residents of Bharat. So, who is present here who is not a resident of Bharat – is there anyone sitting here? The greatest fortune is that the birth-place of all of you is Bharat. *The GREATEST fortune is that you are those who live in that Bharat, where many Religious fathers came, where the Supreme Father has come, and this same Bharat is called the ‘Golden Sparrow’ in this whole world; and this same Bharat is the World-Guru – and so who are you? You are the TRUE Bharatwasis!* Be proud of your glory – the dress which you have worn is not without any meaning. Everyone who lives here, should celebrate ‘Independence Day’ EVERYDAY, from the vices – and ALWAYS EXPERIENCE that you are FREE from these vices, and that this WHOLE world has also become FREE from the vices.

OK .. To such TRUE Bharatwasi children, to such children who are sustained in the Lap of ‘Mother Bharat’, Love and Remembrance from the Creator of the World.

From today, everyone should celebrate Happiness from their heart, that ‘we have taken this initiative to FREE the WHOLE world from vices, and our COMPLETE contribution will be in this task’ .. OK? And the children who have come to just see the Father, those who have just come to check, Baba would tell such children that the time of checking has gone by - now the time to change the WHOLE of Bharat has arrived. *We are ALL ONE, and we belong to ONLY One, and we will ALWAYS be ONE!*

We will meet again!
destroy old world
Vishnu Party
Posts: 120
Joined: 09 Jul 2007
Affinity to the BKWSU: ex-BK

Bap-Dada's LATEST & FINAL part

Post by destroy old world »

🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️ 🕉️
ॐ... "पिताश्री" शिवबाबा याद है?

शिवबाबा की वाणी
18.01.2022

"मीठे बच्चे .. ये पूरे ब्राह्मण परिवार से बाप का एक छोटा सा सवाल है कि ब्रह्मा बाप को, अभी तक, कितने बच्चों ने फॉलो किया है? कदम पे कदम रखके कहते हैं, ‘हम चलेंगे’ - पर अभी तक एक कदम किसने रखा है? ब्रह्मा बाप का समर्पण कैसा था – ‘मेरा कुछ भी नहीं’ - इतने निश्चिंत और निश्चयबुद्धि!"

Link: https://www.youtube.com/watch?v=QAy54q6OiN8

अच्छा .. आज, ज्यादा से ज्यादा, किसकी याद आई? किसकी याद आई? ब्रह्मा बाप की याद। क्यों? पुराना शरीर छूटा, अव्यक्त वतनवासी हुए - इसीलिए। पर बाप को, ब्रह्मा बाप के साथ-साथ, बच्चों की भी याद आ रही है। क्यों? एक अच्छी यात्रा बाप ने इस संगमयुग पर देखी, आदि से अंत तक की यात्रा - जन्म से मृत्यु, फिर जन्म - यह यात्रा बाप ने देखी। और क्या-क्या देखा? बच्चों के मन की उलझनें देखी .. उससे भी पहले, बाप के प्रति बच्चों का प्यार देखा - ऐसा प्यार, ऐसा समर्पण देखा .. हर एक के दिल में बाप समाया हुआ है, प्यार समाया हुआ है। बाप, ऐसे बच्चों को क्या कहेंगे - वाह बच्चे, वाह! *बाप से मिलने के लिए इस संसार का कोई भी बंधन, ना बाप को बांध सकता है, और ना ही बच्चों को।*

अच्छा .. खुशी है? शक्तियाँ थक तो नहीं गई? शक्तियाँ खुश हैं? शक्ल नहीं बता रही है। कोई-कोई की शक्ल में थकान है। है? है! पांडव थक गए हैं? *संगमयुग में थकना मना है।* किस-किस के मन में यह संकल्प तो नहीं आ रहा – ‘बाबा, सबसे ज्यादा सेवा मैंने की है’। किसके मन में आया? आया? शक्तियों के मन में आया? पांडवों के मन में आया?

अच्छा .. *सबसे ज्यादा सेवा ब्रह्मा बाप ने की है। किसने? ब्रह्मा बाप ने। शरीर में रहते भी, और शरीर छोड़ने के बाद भी। ऐसी सेवा, अभी तक, पूरे ब्राह्मण परिवार में किसी ने नहीं की। लेकिन बनना क्या है – ‘ब्रह्मा बाप समान’।* मेहनत किसने किया? किया ना? ऐसे तो नहीं, छोड़ दिया, कि ‘अब तो मैं भविष्य का राजा बनने वाला हूँ .. अब तो मुझे पुरुषार्थ की आवश्यकता ही नहीं है, क्योंकि बाबा ने तो बोल ही दिया है कि मैं महाराजा हूँ, नारायण हूँ।’ ब्रह्मा बाप ने ड्रामा पर नहीं छोड़ा, उन्होंने अपना ड्रामा बना दिया .. और बच्चे क्या करते हैं? क्या करते हैं – ‘जो ड्रामा में होगा, मिल जाएगा .. जो ड्रामा में होगा, पद पा लेंगे .. जैसा ड्रामा बना होगा, ऐसा हो जाएगा’ - यह ब्रह्मा बाप के बच्चों की निशानी नहीं है! कहते हैं, ‘हम ब्रह्मा बाप को बड़ा प्यार करते हैं, बहुत मानते हैं’ .. पर बाप पूछते हैं - फॉलो कितना करते हैं? *ये पूरे ब्राह्मण परिवार से बाप का एक छोटा सा सवाल है कि ब्रह्मा बाप को, अभी तक, कितने बच्चों ने फॉलो किया है? कदम पे कदम रखके कहते हैं, ‘हम चलेंगे’ - पर अभी तक एक कदम किसने रखा है? ब्रह्मा बाप का समर्पण कैसा था – ‘मेरा कुछ भी नहीं’ - इतने निश्चिंत और निश्चय-बुद्धि!*

लेकिन बच्चों को हर छोटी-छोटी बात की फिक्र हो जाती है, और छोटी-छोटी चीजों से शिकायत हो जाती है। क्या कहते हैं – ‘बाबा, उसने ऐसे किया, तो मैंने भी ऐसे किया .. वो ऐसे करते हैं, तो मैं भी ऐसे करता हूँ .. उसकी वजह से मेरा पुरुषार्थ रुका है’ - क्या ऐसे कभी हो सकता है? .. इसीलिए ब्रह्मा बाप नंबर वन है, और आप सभी बच्चे नंबर वन के बच्चे हैं। कौन हैं? जो नंबर वन है, उसके बच्चे हैं - लेकिन नंबरवार हैं। इसीलिए अपनी दिल में खुशी के गीत गाओ, ‘मुझे मिला कौन है, मेरा भाग्य कितना ऊँचा है, मैं कौन हूँ - शिव की शक्ति हूँ और मेरे लिए कुछ भी असंभव नहीं है!’ है? है कुछ? ‘और सफलता तो मेरे गले की माला है’ - और ऐसी माला जो कोई निकाल नहीं सकता क्योंकि यह सफलता की माला फिक्स है।

‘ब्राह्मणों का संकल्प’ - *अगर किसी एक बच्चे ने, कोई भी एक संकल्प लेकर, बाप की याद और पावरफुल योग और एक संकल्प, तो वो संकल्प सिद्ध जरूर होगा।* इसीलिए याद भी पावरफुल होवे, और संकल्प भी पावरफुल होवे, पर संकल्प ऐसा होवे जिसमें किसी का नुकसान नहीं समाया हो। क्या समाया हो – ‘कल्याण’। ऐसा नहीं है कि बाबा वो संकल्प सिद्ध नहीं करेगा, या पूरा नहीं करेगा। अगर किसी के प्रति अकल्याण का संकल्प रखके बाप को याद करते हैं, तो क्या होगा .. क्या होगा? जिसके प्रति रखा है उसका तो एक परसेंट अकल्याण होगा, पर जिसने रखा है उसका सौ पर्सेंट होगा। तो इसमें फायदा है? है? क्या है? [नुकसान] .. तो हमें क्या करना है – ‘कल्याणकारी संकल्प’। *सर्व का कल्याण जिसमें समाया हो, वो संकल्प लेकर बाप को याद करें।* जब भक्ति मार्ग में, उनकी तपस्या से बाप वरदानों से भरपूर कर सकता है, तो आप सब तो बाप के बच्चे हो, तो आपके बारे में, अपने बच्चों के बारे में बाप क्या सोचेंगा? कल्याण ही ना? सभी का कल्याण हो!

*बाप का वरदानी हाथ सबके सिर पर है, और ‘सदा साथ हैं, साथ रहेंगे, और साथ चलेंगे’।* तैयार हैं? पक्का वायदा? पक्का वायदा! *बाप का परमानेंट ठिकाना तो एक ही है – ‘परमधाम’, उसके अलावा तो रहने का स्थान ‘बच्चों का दिल’ है। ‘परमधाम’ के अलावा अगर बाप वास करते हैं, तो ‘बच्चों की दिल’ में करते हैं।* तो ठिकाना तो बहुत अच्छा है। बाप किसको कहाँ लेके जाएँगा? आप बच्चे ही बाप को लेके चलते हो - है ना? जहाँ बच्चे .. [वहाँ बाप] - तो गाइड कौन बना? कौन बना? बच्चे! कौन बना? [बच्चे] .. तो अब बाप सबसे पूछते हैं – जहाँ-जहाँ आप जाएँगे क्या हमें भी लेके जाएँगे? हमें लेके जाएँगे? पक्का? [पक्का] .. हम तो कबसे पीछे-पीछे हैं। [बच्चों ने कहा – ‘बाबा, आप तो सबसे आगे हो’] .. नहीं, पीछे हैं। परमधाम से पहले सतयुग में कौन आया? सब बच्चे आ गए, तो बाप कब आया – पीछे-पीछे आए ना! चाहे कुछ भी हुआ हो, पर पीछे तो बाप ही आया ना? छोड़के कौन आए? छोड़के आए ना? अभी बाप तो रास्ता बताएँगे परमधाम का, तो बाप को लेके कौन चलेंगा? कौन लेके चलेंगा - क्योंकि आपके बिना तो गेट ही नहीं खुलेगा। चलेंगे लेके? कहाँ? [परमधाम] पक्का?

अच्छा .. उंगली पकड़ के लेके चले! आप पकड़ेंगे या बाप पकड़े? आपने पकड़ी थी, तो छोड़ दी ना .. तो अब कौन पकड़े? अभी बाप सभी बच्चों की उंगली नहीं, गोद में उठाके लेके जाएँगे .. ठीक है? तैयार हैं?

अच्छा .. जो सामने नहीं है .. वैसे तो बाप सबके सम्मुख है। *यह वायदा सभी बच्चों से है बाप का – ‘जब तक सभी बच्चे तैयार नहीं हो जाते, तब तक बाप आता रहेंगा’!*

अच्छा .. ऐसे बाप के अति मीठे, प्यारे बच्चे, बाप को अपने पीछे-पीछे चलाने वाले, ऐसे गाइड बच्चों को, बापदादा का अति मीठा याद-प्यार।

[केक काटेंगे]
अच्छा .. यह (केक) तो ब्रह्मा बाप का .. सभी को याद-प्यार देना। इस पूरे विश्व के बच्चों को बापदादा का याद-प्यार .. नाम सहित याद-प्यार। कौनसे नाम सहित?

[बाबा को सबकी तरफ से गुलदस्ता भेंट किया गया]
यह आप सबको, बाप की तरफ से।

[फिर बाबा के सम्मुख केक लाया गया]
वाह! पर कितना मेहनत लगा!

अच्छा .. वाह बच्चे, वाह! हर एक बच्चा भाग्यशाली है .. और यह (केक से) सबका मुख मीठा कराना .. ठीक है? खुश है ना? ब्रह्मा बाप से प्यार है ना? कितना है? आज तो ब्रह्मा बाप के जय-जयकारे हो रहे हैं .. कोई रो रहे हैं, पर आप बच्चे मौज में झूम रहे हैं, तो भाग्यशाली कौन? *वो बच्चे चित्र को देख रहे हैं, और आप चैतन्य को देख रहे हैं।* सभी भाग्यशाली है ना? कोई यह नहीं सोचे - जो वर्तमान समय बाप के सम्मुख बैठे हैं, सिर्फ वही भाग्यशाली हैं। *जो यहाँ बैठकर, कहाँ भी बैठकर बाप को देख रहे हैं, जिन्होंने बाप को पहचान लिया है, वो सभी भाग्यशाली हैं।*

अच्छा बच्चों .. फिर मिलेंगे!
Post Reply

Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 2 guests